71 साल बाद ऑस्ट्रेलिया में जीती टेस्ट सीरीज़, विराट टीम ने 2-1 से जीत रचा इतिहास,बना डाले 5 रिकॉर्ड

71 साल पुराना इतिहास बदलते हुए टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में हराकर सीरीज़ पर 2-1 से अपना कब्ज़ा जमा लिया है.

71 साल पुराना इतिहास बदलते हुए टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी में हराकर सीरीज़ पर 2-1 से अपना कब्ज़ा जमा लिया है. 1947/48 से शुरु हुई इस सीरीज़ में पहली बार भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में मात दी है. जबकि कुल 9वीं बार भारत ये सीरीज़ जीतने में कामयाब रहा है.

सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेला गया चार मैचों की टेस्ट सीरीज़ का आखिरी मैच बारिश की वजह से ड्रॉ पर खत्म हुआ. इस मुकाबले में भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 622 रन बनाए. जिसके जवाब में मेज़बान टीम फॉलो-ऑन भी नहीं बचा सकी और उनकी पहली पारी 300 रनों पर चौथे दिन सिमट गई. इसके बाद कप्तान विराट कोहली ने उन्हें फिर से बल्लेबाज़ी के लिए बुलाया. ऐसा 30 सालों में पहली बार हुआ कि किसी टीम ने ऑस्ट्रेलिया को उसके घर में फॉलो-ऑन दिया हो.

इसके बाद चौथे दिन भारतीय गेंदबाज़ सिर्फ चार ओवर ही गेंदबाज़ी कर सके और ऑस्ट्रेलिया ने बिना विकेट खोए 6 रन बनाए थे कि बारिश और खराब रौशनी की वजह से चौथे दिन का खेल खत्म करना पड़ा. इसके बाद उम्मीद थी कि भारत मैच के आखिरी दिन मेज़बान टीम के 10 विकेट चटकाएगा और मैच अपने नाम कर लेगा. लेकिन बारिश की वजह से सीरीज़ के आखिरी टेस्ट के आखिरी दिन एक गेंद का खेल भी नहीं हो सका.

जिसके बाद आखिरी निरिक्षण के बाद अंपायर्स और मैच रेफरी ने मुकाबले को ड्रॉ पर खत्म करने का फैसला कर दिया.

प्लेयर ऑफ द सीरीज़:
पूरी सीरीज़ में शानदार बल्लेबाजी के साथ 521 रन बनाने के लिए चेतेश्वर पुजारा को प्लेयर ऑफ द सीरीज़ का पुरस्कार दिया गया. उन्होंने चार मैचों की इस सीरीज़ में 3 शतक और एक अर्धशतक के साथ 74.42 के औसत से इस सीरीज़ में सबसे अधिक 521 रन बनाए.

सीरीज़ का लेखाजोखा:
पहला टेस्ट: टीम इंडिया ने एडिलेड में खेले गए सीरीज़ के पहले टेस्ट को 31 रनों से जीतकर 1-0 की बढ़त बनाई थी.

दूसरा टेस्ट: इसके बाद पर्थ में खेले गए दूसरे टेस्ट में ऑस्ट्रेलियाई टीम ने बाज़ी पलटी और 146 रनों से जीत के साथ सीरीज़ में 1-1 की बराबरी पर आ खड़ी हुई.

तीसरा टेस्ट: लेकिन इसके बाद मेलबर्न टेस्ट से तो सीरीज़ का रुख ही बदल गया. भारत ने इस मैच को शानदार तरीके से 137 रनों से जीता और सीरीज़ जीत की उम्मीदों को पुख्ता कर दिया.

टीम इंडिया ने इतिहास रचने के साथ बना डाले  5 रिकॉर्ड

ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर जीत हासिल करने वाली टीम इंडिया पांचवीं टीम है.

सिडनी टेस्ट बारिश में धुलने से टीम इंडिया और विराट को हुए  3 घाटे

एशियाई टीम को ये जीत 71 साल, 31 सीरीज, 98 टेस्ट के बाद मिली है. इस दौरान 272 खिलाड़ी खेले और 29 कप्तान बदले गए. दो दिन हुई मूसलाधार बारिश के बीच सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया चौथा टेस्ट रद्द हो गया. इसके साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली है. यह पहला मौका है जब टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती है. यही नहीं, यह पहली एशियाई टीम भी है जिसने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती है. आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि एशियाई टीम को ये जीत 71 साल, 31 सीरीज, 98 टेस्ट के बाद मिली है. इस दौरान 272 खिलाड़ी खेले और 29 कप्तान बदले गए. इस लिहाज से ये जीत बड़ी नहीं बहुत बड़ी है. बहरहाल, सिडनी टेस्ट बारिश में धुल जाने से मजा किरकिरा हो गया. आकाश चोपड़ा ने भी ट्वीट करते हुए कहा- मैं विराट कोहली की दहाड़ मिस करूंगा. बहरहाल, सिडनी टेस्ट बारिश में धुल जाने से टीम इंडिया और कप्तान कोहली को तीन घाटे हुए हैं.

दो दिन हुई मूसलाधार बारिश के बीच सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया चौथा टेस्ट रद्द हो गया. इसके साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज 2-1 से अपने नाम कर ली है. यह पहला मौका है जब टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती है. यही नहीं, यह पहली एशियाई टीम भी है जिसने ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती है. आंकड़ों पर नजर दौड़ाएं तो पता चलता है कि एशियाई टीम को ये जीत 71 साल, 31 सीरीज, 98 टेस्ट के बाद मिली है. इस दौरान 272 खिलाड़ी खेले और 29 कप्तान बदले गए. इस लिहाज से ये जीत बड़ी नहीं बहुत बड़ी है. बहरहाल, सिडनी टेस्ट बारिश में धुल जाने से मजा किरकिरा हो गया. आकाश चोपड़ा ने भी ट्वीट करते हुए कहा- मैं विराट कोहली की दहाड़ मिस करूंगा. बहरहाल, सिडनी टेस्ट बारिश में धुल जाने से टीम इंडिया और कप्तान कोहली को तीन घाटे हुए हैं. टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार सीरीज 2-1 से जीती है. यह वैसे तो किसी भी एशियाई टीम की सबसे बड़ी जीत है लेकिन अगर बारिश ने खलल न डाली होती तो ये स्कोर 3-1 हो सकता था. जाहिर है कि ये जीत ज्यादा बड़ी होती लेकिन बारिश ने बड़ी जीत हासिल करने का मौका टीम इंडिया से छीन लिया. जाहिर है इस बात को लेकर कप्तान विराट कोहली खासे निराश होंगे.टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में पहली बार सीरीज 2-1 से जीती है. यह वैसे तो किसी भी एशियाई टीम की सबसे बड़ी जीत है लेकिन अगर बारिश ने खलल न डाली होती तो ये स्कोर 3-1 हो सकता था. जाहिर है कि ये जीत ज्यादा बड़ी होती लेकिन बारिश ने बड़ी जीत हासिल करने का मौका टीम इंडिया से छीन लिया. जाहिर है इस बात को लेकर कप्तान विराट कोहली खासे निराश होंगे.भारत की ओर से कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा टेस्ट जीतने का रिकॉर्ड भी एमएस धोनी के नाम है. धोनी ने 60 टेस्ट में से 27 जीते हैं. कोहली दूसरे नंबर पर हैं. उन्होंने 46 टेस्ट में 26 में जीत हासिल की हैं. ऐसे में अगर टीम इंडिया सिडनी टेस्ट जीत जाती तो कोहली धोनी की बराबरी करते हुए नंबर 1 पर काबिज हो जाते. अब उन्हें धोनी की बराबरी करने के लिए 8 महीनों का इंतजार करना पड़ेगा. क्योंकि इस सीरीज के बाद टीम इंडिया वर्ल्ड कप के बाद ही टेस्ट सीरीज खेलेगी. टीम इंडिया को इस बात का हमेशा मलाल रहेगा कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को फॉलोआन देकर भी जीत हासिल नहीं की. दिलचस्प बात ये है कि 21वीं सदी में ये दूसरा मौका है जब ऑस्ट्रेलिया फॉलोऑन खेलने के लिए मजबूर हुई. ये बड़ा घाटा इसलिए भी है क्योंकि ये बात इतिहास के पन्नों में दर्ज होते-होते रह गई कि टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को उन्हीं की सरजमीं पर फॉलोऑन देने के बाद शानदार जीत दर्ज की थी. टीम इंडिया पिछले 30 सालों में पहली टीम है जो ऑस्ट्रेलिया को उनकी सरजमीं पर फॉलोऑन दे पाई है. आखिरी बार इंग्लैंड नें उन्हें 1988 में फॉलोऑन खिलाया था.टीम इंडिया को इस बात का हमेशा मलाल रहेगा कि उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को फॉलोआन देकर भी जीत हासिल नहीं की. दिलचस्प बात ये है कि 21वीं सदी में ये दूसरा मौका है जब ऑस्ट्रेलिया फॉलोऑन खेलने के लिए मजबूर हुई. ये बड़ा घाटा इसलिए भी है क्योंकि ये बात इतिहास के पन्नों में दर्ज होते-होते रह गई कि टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को उन्हीं की सरजमीं पर फॉलोऑन देने के बाद शानदार जीत दर्ज की थी. टीम इंडिया पिछले 30 सालों में पहली टीम है जो ऑस्ट्रेलिया को उनकी सरजमीं पर फॉलोऑन दे पाई है. आखिरी बार इंग्लैंड नें उन्हें 1988 में फॉलोऑन खिलाया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *