मेरठ  एसएसपी ऑफिस में उस वक्त हड़कंप मच गया जब 14 वर्ष की लड़की अपने ही पांच माह का भ्रूण थैले में लेकर कप्तान के सामने जा पहुंची। नाबालिग ने बताया कि वह एक साल से सामूहिक दुष्कर्म का शिकार हो रही है। गर्भवती होने पर आरोपितों ने उसे जबरन गर्भपात की दवाई खिला दी। कप्तान ने थाना पुलिस को मुकदमा दर्ज कर आरोपितों की गिरफ्तारी के निर्देश दिए।

मामला लिसाड़ी गेट थाना क्षेत्र का है। एक कॉलोनी में रहने वाली महिला का कहना है कि वह मेहनत मजदूरी करती है, जबकि घर पर उसकी 14 वर्षीय बेटी अकेली रहती है। करीब 10 महीने पहले वह काम पर गई हुई थी तभी कॉलोनी में ही रहने वाले तीन युवक घर आए और बेटी से गन प्वाइंट पर सामूहिक दुष्कर्म किया। आरोप है कि तीनों ने अश्लील वीडियो बना ली और उसे वायरल करने की धमकी देकर उसके साथ दुष्कर्म करते रहे।

15 मई को उसकी बेटी के पेट में दर्द हुआ तो उसके गर्भवती होने का पता चला। इसकी जानकारी लगते ही आरोपितों ने उसकी बेटी को जबरन गर्भपात की दवा खिला दी। गर्भपात होने पर महिला अपनी बेटी और उसके पांच माह के भ्रूण को थैले में लेकर शुक्रवार को एसएसपी ऑफिस पहुंची और आरोपितों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। एसएसपी राजेश कुमार पांडेय का कहना है कि आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।