सीबीआई-कोलकाता पुलिस गतिरोध में लोस और रास की कार्यवाही स्थगित

कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर सीबीआई और पुलिस के बीच हुए विवाद का मुद्दा सोमवार को दोनों सदनों में छाया रहा। इसक चलते कोई कामकाज नहीं हो सका और अंत में दोनों ही सदनों को स्थगित कर दिया गया।

सांकेतिक चित्र
नई दिल्ली :कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के घर सीबीआई और पुलिस के बीच हुए विवाद का मुद्दा सोमवार को दोनों सदनों में छाया रहा। इसक चलते कोई कामकाज नहीं हो सका और अंत में दोनों ही सदनों को स्थगित कर दिया गया। दोनों सदनों को चलाने की भरपूर कोशिश की गई थी, लेकिन हंगामा अंत तक शांत नहीं हुआ।
पश्चिम बंगाल में सीबीआई की कार्रवाई के विरोध में राज्यसभा में तृणमूल कांग्रेस सहित विभिन्न विपक्षी दलों के सदस्यों के हंगामे के कारण उच्च सदन की बैठक सोमवार को एक बार के स्थगन के बाद दोपहर करीब दो बजे पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई। हंगामे की वजह से उच्च सदन में शून्यकाल और प्रश्नकाल भी नहीं हो पाए।

राज्यसभा में क्या हुआ
सुबह बैठक शुरू होने पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने आवश्यक दस्तावेज सदन के पटल पर रखवाए। फिर उन्होंने जैसे ही शून्यकाल शुरू करने को कहा, तृणमूल के डेरेक ओ ब्रायन ने चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई की कोलकाता में कार्रवाई को नियम विरूद्ध बताते हुए सदन में इस पर चर्चा के लिए नोटिस दिए जाने का जिक्र किया। सभापति ने इस मामले को राष्ट्रपति अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान उठाने की सलाह देते हुए नोटिस को अस्वीकार कर दिया। इस पर तृणमूल सदस्यों ने नारेबाजी शुरु कर दी।

उन्होंने केंद्र पर सीबीआई का दुरूपयोग करने का आरोप भी लगाया। सभापति ने हंगामा कर रहे सदस्यों से अपने स्थानों पर लौट जाने और सदन की बैठक चलने देने को कहा लेकिन अपनी बात का असर होते न देख उन्होंने बैठक दोपहर दो बजे तक के लिये स्थगित कर दी। नायडू ने बताया कि सपा के रामगोपाल यादव और आप के संजय सिंह सहित अन्य सदस्यों ने देश में रोजगार संकट, राजद के मनोज झा ने उच्च शिक्षण संस्थाओं में आरक्षण संबधी रोस्टर प्रणाली और ब्रायन ने सीबीआई की कोलकाता में कार्रवाई को संघीय ढांचे के विरुद्ध बताते हुए शून्यकाल में चर्चा कराने का नोटिस दिया था।

एक बार के स्थगन के बाद दोपहर दो बजे बैठक फिर शुरू होने पर तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन ने फिर से पश्चिम बंगाल में सीबीआई से संबंधित घटनाक्रम पर तुरंत चर्चा कराए जाने से संबंधित अपने नोटिस का उल्लेख किया। इस बीच, तृणमूल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के सदस्य नारे लगाते रहे। कांग्रेस, बसपा और वामदलों के सदस्य अपने स्थानों पर खड़े हो कर कुछ कहते देखे गए। हंगामा थमते न देख नायडू ने कुछ ही पल बाद सदन की बैठक को पूरे दिन के लिए स्थगित कर दिया।

लोकसभा में भी हंगामा
लोकसभा की कार्यवाही दो बार के स्थगन के बाद पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी गई। वहां भी विपक्षा लगातार नारेबाजी कर रहा था। इस पर स्पीकर ने करीब दो बजकर 10 मिनट पर कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी। शून्यकाल में तृणमूल कांग्रेस के सौगत रॉय, बीजद के भर्तृहरि महताब और कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे ने केंद्र सरकार पर विपक्षी दलों के शासन वाले राज्यों में सीबीआई का दुरुपयोग करने का और एजेंसी को राजनीतिक हथियार बनाने का आरोप लगाया। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल सरकार से उम्मीद जताई कि वह सारदा घोटाले में सीबीआई की जांच में सहयोग करेगी और अनुकूल माहौल उपलब्ध कराएगी।

बता दें कि गौरतलब है कि चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई द्वारा कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार से पूछताछ करने के प्रयास के बाद केंद्र सरकार पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए ममता बनर्जी रविवार शाम को कोलकाता में धरने पर बैठ गईं। सीबीआई की एक टीम रविवार को मध्य कोलकाता में कुमार के लाउडन स्ट्रीट स्थित आवास पहुंची थी लेकिन वहां तैनात कर्मियों ने उन्हें अंदर जाने से रोक दिया और उन्हें थाने ले गए। सीबीआई कुमार से लापता दस्तावेज और फाइलों के बारे में पूछताछ करना चाहती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *