सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, सहारनपुर,हरिद्वार,लखनउ समेत देशभर के 110 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी

खनन कारोबारी एवं पूर्व एमएलसी बसपा नेता इकबाल उर्फ बाला के सहारनपुर घर मंगलवार सुबह सीबीआइ की टीम की छापेमारी की कार्रवाई से क्षेत्र में हड़कंप मच गया। भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और अवैध तस्करी के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई देशभर के 110 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी कर रहा है। इससे पहले 2 जुलाई को भी 18 शहरों में 50 जगहों पर छापे मारे थे।सीबीआई की बड़ी कार्रवाई, देशभर के 110 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी

हाइलाइट्स

  • भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई देशभर के 110 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी कर रही है
  • सीबीआई ने भ्रष्टाचार, आपराधिक मिसकंडक्ट और हथियारों की अवैध तस्करी वगैरह के खिलाफ 30 मामले दर्ज किए
  • सीबीआई इन दिनों बड़े पैमाने पर छापेमारी अभियान चला रही, 2 जुलाई को भी 18 शहरों में 50 जगहों पर छापे मारे थे

नई दिल्ली :भ्रष्टाचार के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करते हुए सीबीआई देशभर के 110 ठिकानों पर एक साथ छापेमारी कर रही है। सीबीआई ने भ्रष्टाचार, आपराधिक मिसकंडक्ट और हथियारों की अवैध तस्करी वगैरह के खिलाफ 30 ताजा मामले दर्ज किए हैं। बताया जा रहा है कि देश के 19 राज्यों और केंद्र शासित राज्यों में छापेमारी हो रही है। बता दें कि सीबीआई इन दिनों बड़े पैमाने पर छापेमारी अभियान चला रही है। मंगलवार को दिल्ली के अलावा यूपी, उत्तराखंड, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और बिहार में छापेमारी चल रही है।
इसमें दिल्ली, भरतपुर, मुंबई, चंडीगढ़, जम्मू, श्रीनगर, पुणे, जयपुर, गोवा, कानपुर, रायपुर, हैदराबाद, मदुरै, कोलकाता, रांची, बोकारो और लखनऊ और अन्य शहर शामिल हैं। इससे पहले सीबीआई ने 2 जुलाई को भी 18 शहरों में 50 जगहों पर छापे मारे थे।
इससे पहले 6 जुलाई को सीबीआई ने बर्खास्त आयकर आयुक्त संजय कुमार श्रीवास्तव के नोएडा स्थित आवास और कार्यालय पर छापेमारी की थी। हाल में सरकार ने अनुचित लाभ हासिल करने के लिए संजय को कथित तौर पर पिछली तारीख में अपील आदेश पारित करने के लिए बर्खास्त कर दिया था। छापेमारी अभियान शुक्रवार की सुबह को शुरू हुआ और शनिवार तक दिल्ली, नोएडा और गाजियाबाद में 13 स्थानों पर छापेमारी हुई थी जिसमें संजय का पंडारा रोड स्थित आवास और नोएडा कार्यालय भी शामिल है।
धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ विशेष अभियान
एजेंसी के सूत्रों ने बताया कि ठगी, धोखाधड़ी और अनुचित लाभ हासिल करने के आरोप में श्रीवास्तव के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद छापेमारी की गई थी। सीबीआई ने 2 जुलाई को देश भर में कथित बैंक धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ विशेष अभियान शुरू किया था, जिसके तहत 640 करोड़ रुपये के घपले के संबंध में 14 अलग-अलग मामले दर्ज किए गए थे।
अधिकारियों ने बताया था कि देश के 12 राज्यों में विभिन्न मामलों में कंपनियों के प्रवर्तकों और निदेशकों के खिलाफ एक समन्वित कार्रवाई के तहत एजेंसी के दलों ने 18 शहरों में 50 स्थानों पर छापे मारे। वरिष्ठ अधिकारी ने कहा था कि देशभर में बैंक धोखाधड़ी घोटालों/मामलों में सीबीआई विशेष अभियान चला रही है।सीबीआई का बड़ा अभियान

सहारनपुर: फर्जी कंपनी मामले में खनन  कारोबारी पूर्व एमएलसी हाजी मौहम्मद इकबाल व
करीबियों के मकान पर सीबीआई की छापेमारी

कार्रवाई के दौरान सीबीआई की टीम
कार्रवाई के दौरान सीबीआई की टीम
मुखौटा कंपनियां बनाकर चीनी मिलें खरीदने के मामले में सीबीआई ने सहारनपुर के मिर्जापुर स्थित बसपा के पूर्व एमएलसी हाजी
मौहम्मद इकबाल, उनकी एक कंपनी के निदेशक सौरभ मुकुंद और मुनीम नसीम के मकान पर छापा मारा। सीबीआई की टीम ने आठ घंटे तक सौरभ मुकुंद एवं नसीम के आवासों पर छानबीन की। अभिलेख खंगाले और कई अभिलेख कब्जे में लिए।
मंगलवार सुबह लगभग नौ बजे लखनऊ से सीबीआई की टीम इंस्पेक्टर रमाकांत तिवारी के नेतृत्व में पुलिस लाइन पहुंची। वहां से पुलिस को साथ लेकर गोपनीय ढंग से शहर के साउथ सिटी स्थित सौरभ मुकुंद के आवास पर छापा मारा, जबकि एक टीम मिर्जापुर स्थित ग्लोकल यूनिवर्सिटी सहारनपुर का मालिक और आर्थिक मामलों में मायावती का घनिष्ट साझीदार माना जाने वाले पूर्व एमएलसी हाजी इकबाल उर्फ बाला बंदूकबाज,के घर पहुंची। वहां पर हाजी इकबाल का मुनीम नसीम ही मिला। काफी देर पूछताछ के बाद सीबीआई नसीम को साथ लेकर उसके घर पहुंची और दोपहर लगभग ढाई बजे तक नसीम एवं उसके परिजनों से पूछताछ की। उसके घर से बैंक एवं संपत्ति संबंधी दस्तावेज भी मिले।उधर, एक टीम सुबह नौ बजे से ही सहारनपुर के साउथ सिटी में सौरभ मुकुंद के आवास में जमी रही। टीम ने यहां पर दिन भर परिजनों एवं अन्य लोगों से पूछताछ की। हाजी इकबाल की कंपनी के निदेशक सौरभ मुकुंद के घर से सीबीआई की टीम ने कई दस्तावेजों को कब्जे में लिया। टीम शाम लगभग पांच बजे यहां से निकली।
छापेमारी की कार्रवाई से लखनऊ तक खलबली मची हुई है। बताया जा रहा है कि वर्ष 2010-11 में मुखौटा कंपनियां बनाकर चीनी मिलों की खरीद-फरोख्त में हुए घोटाले के मामले में सीबीआई ने छापामार कार्रवाई की है। सूत्रों के अनुसार सीबीआई के हाथ महत्वपूर्ण दस्तावेज लगे हैं। इस मामले में लखनऊ के गोमतीनगर थाना में गत अप्रैल माह में रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी। इस मामले की जांच सीबीआई कर रही है।
एसएसपी दिनेश कुमार ने बताया कि सीबीआई ने गोपनीय रूप से कार्रवाई की। लखनऊ से सीबीआई टीम आई है। यहां से सीबीआई की टीम को पुलिस बल उपलब्ध कराया गया है। क्या कार्रवाई की गई है, इसके बारे में पुलिस को सूचना नहीं दी गई है।
खनन कारोबारी पूर्व एमएलसी इकबाल और करीबियों के घर पर सीबीआइ का छापा Saharanpur News

खनन कारोबारी एवं पूर्व एमएलसी बसपा नेता इकबाल उर्फ बाला के घर मंगलवार सुबह सीबीआइ की टीम की छापेमारी की कार्रवाई से क्षेत्र में हड़कंप मच गया।
 खनन कारोबारी एवं पूर्व एमएलसी बसपा नेता इकबाल उर्फ बाला के घर मंगलवार सुबह सीबीआइ की टीम ने छापा मारा तो हड़कंप मच गया। यहां से लेकर लखनऊ तक खलबली मच गई। सीबीआइ की कई टीमों ने एक साथ इकबाल व उसके करीबियों के घर पर छापेमारी की कार्रवाई सुबह नौ बजे से शुरू कर दी, जो दोपहर तक जारी है।
चीनी ब्रिकी के मामले में हुई थी एफआइआर
सीबीआइ ने बड़े गोपनीय ढंग से छापेमारी की कार्रवाई की है जिन जिन ठिकानों पर छापेमारी चल रही है वहां पर उनकी गाड़ियां भी बाहर खड़ी नहीं है। सीबीआइ की टीम गाड़ियां भी छापे स्थल से काफी दूर खड़ी करवा रखी है। चर्चा है कि खनन के साथ साथ चीनी मिल बिक्री को लेकर पूर्व में हुई एफआइआर के मामले में जांच पड़ताल की जा रही है।

एसएसपी से की फोर्स की मांग 
सीबीआइ की टीम ने मिर्जापुर स्थित पूर्व एमएलसी इकबाल के घर, उसके मुंशी नसीम तथा उनके कारोबारी करीबी साउथ सिटी निवासी सौरव मुकुंद के घर छापेमारी की है। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने बताया कि सीबीआइ की टीम ने फोर्स की मांग की थी। उसके बाद टीम गोपनीय दबिश पर चली गई। सीबीआइ की पूरी कार्रवाई होने के बाद ही कुछ पता चल पाएगा।

हरिद्वार में एसबीआइ के निलंबित चीफ मैनेजर के घर सीबीआइ का छापा

हरिद्वार में एसबीआइ के निलंबित चीफ मैनेजर के घर सीबीआइ का छापा

हरिद्वार में तीन करोड़ के लोन घोटाले में फंसे चीफ मैनेजर सुजीत लोहनी के घर सीबीआइ ने छापेमारी की।

एसबीआइ हरिद्वार में तीन करोड़ के लोन घोटाले में फंसे चीफ मैनेजर सुजीत लोहनी के घर सीबीआइ ने छापेमारी की। इस दौरान घर से प्रॉपर्टी और निवेश से जुड़े दस्तावेज जब्त किए गए। साथ ही बैंक के तीन लॉकरों को खंगालते हुए सीबीआइ ने लाखों रुपये के गहने और अन्य संपत्ति का ब्योरा जुटाया। इसके अलावा सीबीआइ ने लोन फर्जीवाड़े से जुड़ी कई फाइलें भी अपने कब्जे में ले ली हैं।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया शिवालिक नगर शाखा में 2015 में तीन करोड़ से ज्यादा का लोन घोटाला प्रकाश में आया था। इस मामले में दून सीबीआइ ने 31 मई 2018 को तत्कालीन चीफ मैनेजर सुजीत लोहनी समेत 15 लोगों के खिलाफ भ्रष्टाचार का मुकदमा दर्ज किया था। इस बीच एसबीआइ ने लोहनी को निलंबित कर दिया। मंगलवार को अचानक सीबीआइ के टीम डीएसपी इंदुमोहन नेगी के नेतृत्व में आरोपित बैंक मैनेजर के हरिद्वार के मीना एन्क्लेव स्थित घर पर पहुंची। जहां टीम ने तीन घंटे से ज्यादा समय तक छानबीन की।

सीबीआइ टीम ने घर से प्रॉपर्टी, निवेश, बैंक पास बुक समेत अन्य जरूरी दस्तावेज कब्जे में ले लिए। इस दौरान आरोपित से भी कई मामलों में पूछताछ कर जानकारी जुटाई गई। यहां से टीम एसबीआइ की शिवालिकनगर शाखा पहुंची। जहां टीम ने कर्मचारियों से जानकारी जुटाने के साथ ही लोहनी के समय स्वीकृत हुए बैंक लोन से जुड़ी फाइलों को कब्जे में लिया। यहां लोहनी और परिवार के नाम पर दर्ज तीन लॉकर भी तलाशे गए। सीबीआइ एसपी अखिल कौशिक के मुताबिक, कार्रवाई देर शाम तक जारी रही। इस दौरान आरोपित के घर से महत्वपूर्ण दस्तावेज जब्त किए गए हैं। बैंक लॉकर में मिले प्रॉपर्टी के दस्तावेजों का आकलन किया जा रहा है। टीम के वापस पहुंचने के बाद ही इस बारे में कुछ कहा जा सकेगा।

12 लोन में की थी गड़बड़ी 

एसबीआइ शिवालिकनगर शाखा में सुजीत लोहनी 2015 में ब्रांच मैनेजर रहे। इस दौरान लोहनी ने 12 से ज्यादा बैंक लोन स्वीकृत किए थे। मगर, अधिकांश लोन नियम विरुद्ध बांटे गए। करीब तीन करोड़ नौ लाख का फर्जीवाड़ा सीबीआइ ने जांच में पकड़ा था। इस बीच एक ही परिवार के लोगों तथा रिश्तेदारों को भी लोन बांटने की बात सामने आई थी। अभी इस मामले की जांच जारी है।

इनके खिलाफ भी मुकदमा 

सीबीआइ ने सुजीत लोहनी के अलावा शिवालिक कॉलोनी निवासी विजय कुमार कुशवाह, रेखा कुशवाह, विमलेश कुशवाह, अंकिता शर्मा, अजय कुमार, नीतू सिंह, संजय कुमार, रंजीत कुमार, दिशा, कमल सिंह, बृजेश खुराना, रितू अलखानिया, विमल कुमार, अश्वनी कुमार आदि के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

कार्रवाई / भ्रष्टाचार के मामले में बीसीसीएल के जीएम के आवास पर सीबीआई की छापेमारी

CBI raids CBI searches 110 places in 19 states, Union Territories; Latest News and Updates CBI raids

भ्रष्टाचार पर नरेंद्र मोदी सरकार का प्रहार, दो पूर्व आइएएस समेत 14 ठिकानों पर सीबीआइ ने मारा छापा

भ्रष्टाचार पर नरेंद्र मोदी सरकार का प्रहार, दो पूर्व आइएएस समेत 14 ठिकानों पर सीबीआइ ने मारा छापा
सीबीआइ ने मंगलवार को बसपा शासनकाल में हुए करीब 1100 करोड़ के चीनी मिल घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है। सीबीआइ ने लखनऊ के अलावा सहारनपुर गाजियाबाद व दिल्ली में छापेमारी की।

 अवैध खनन के साथ ही हथियारों की तस्करी, धन उगाही तथा अन्य बड़े अपराध के मामलों पर नरेंद्र मोदी सरकार का शिकंजा कस गया है। अब सीबीआइ ने मंगलवार को बसपा शासनकाल में हुए करीब 1100 करोड़ के चीनी मिल घोटाले में बड़ी कार्रवाई की है।

सीबीआइ की टीमों ने बसपा सुप्रीमो मायावती के प्रमुख सचिव तथा प्रमुख सचिव गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग रहे नेतराम (सेवानिवृत्त आइएएस) के गोमतीनगर स्थित आवास तथा बसपा सरकार में चीनी मिल निगम संघ के एमडी रहे विनय प्रिय दुबे (सेवानिवृत्त आइएएस ) के अलीगंज स्थित घर समेत 14 ठिकानों पर छापेमारी की। तत्कालीन सरकार में गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग के विभागीय मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी थे।

सीबीआइ ने लखनऊ के अलावा सहारनपुर, गाजियाबाद व दिल्ली में भी छापेमारी की। सीबीआइ ने करोड़ों रुपये की संपत्तियों सहित घोटाले से जुड़े कई अहम दस्तावेज कब्जे में लिये हैं। इससे पूर्व आयकर विभाग ने लोकसभा चुनाव से पहले नेतराम व उनके करीबियों के ठिकानों पर छापेमारी कर 225 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्तियों के दस्तावेज कब्जे में लिये थे।

सीबीआइ की टीम ने मंगलवार सुबह नेतराम के लखननऊ में गोमतीनगर के विशालखंड स्थित आवास में दस्तक दे दी थी। इसी बीच विनय प्रिय दुबे के घर में भी छानबीन शुरू की गई। सूत्रों का कहना है कि सीबीआइ ने नामजद आरोपित मु.जावेद व वाजिद के दिल्ली निवासी सीए के बारहखंभा रोड स्थित कार्यालय व ग्रेटर कैलाश स्थित घर को भी खंगाला और कई अहम दस्तावेज कब्जे में लिये हैं। आरोपित मु.जावेद व वाजिद पूर्व एमएलसी इकबाल के बेटे हैं। सहारनपुर में इकबाल व उनके बेटों के ठिकानों से भी कई अहम दस्तावेज कब्जे मेें लिये गये हैं।

सुबह नौ से शाम साढ़े पांच बजे तक चली छापामारी

बसपा के पूर्व एमएलसी मो. इकबाल और उनके सहयोगियों के घर सीबीआइ की तीन टीमों ने मंगलवार को एक साथ छापा मारा। सीबीआइ की टीम मिर्जापुर में इकबाल व उनके मुंशी तथा शहर में साउथ सिटी स्थित उनके सहयोगी के घर पहुंची। सुबह नौ बजे शुरू हुई कार्रवाई शाम साढ़े पांच बजे तक चली। माना जा रहा है कि यह छापामारी करोड़ों के चीनी मिल घोटाले में सीबीआइ की ओर से दर्ज केस के क्रम में की गई है। सीबीआइ इंस्पेक्टर आरके तिवारी के नेतृत्व में पहुंची टीम ने पुलिस लाइन से फोर्स साथ ली। एक टीम दिल्ली रोड स्थित साउथ सिटी में मो. इकबाल के सहयोगी सौरभ मुकुंद के घर तथा दो टीमें मिर्जापुर में मो. इकबाल तथा उनके मुंशी नसीम के घरों के लिए निकलीं।

इनके खिलाफ दर्ज हुई थी नामजद एफआइआर

सीबीआइ लखनऊ की एंटी करेप्शन ब्रांच ने अप्रैल माह में चीनी मिल घोटाले के मामले में दंपती समेत सात नामजद आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज किया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 12 अप्रैल 2018 को चीनी मिल घोटाले की सीबीआइ जांच कराये जाने की सिफारिश की थी। बसपा सरकार में 21 सरकारी चीनी मिलों को औने-पौने दामों में बेचकर करीब 1100 करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप है। चीनी निगम की 10 संचालित व 11 बंद पड़ी चीनी मिलों का विक्रय वर्ष 2010-2011 में किया गया था।

सीबीआइ ने फर्जी दस्तावेजों के जरिये देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज, हरदोई, रामकोला, छितौनी व बाराबंकी स्थित सात चीनी मिलें खरीदने के मामले में दिल्ली निवासी राकेश शर्मा, उनकी पत्नी सुमन शर्मा, गाजियाबाद निवासी धर्मेंद्र गुप्ता, सहारनपुर निवासी सौरभ मुकुंद, मु.जावेद, मु.वाजिद अली व मु.नसीम अहमद के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया था।

गोमतीनगर थाने की एफआइआर को बनाया था आधार

चीनी मिल बिक्री घोटाले में लखनऊ के गोमतीनगर थाने में सात नवंबर 2017 को दर्ज कराई गई एफआइआर को सीबीआइ ने अपने केस का आधार बनाया था। सात चीनी मिलों में हुई धांधली में सीबीआइ ने धोखाधड़ी व कंपनी अधिनियम समेत अन्य धाराओं में रेगुलर केस दर्ज किया था और 14 चीनी मिलों में हुई धांधली में छह प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज की गईं थीं।

एसएफआइओ ने भी की थी जांच

राज्य सरकार ने सीरियस फ्रॉड इंवेस्टिगेशन आर्गनाईजेशन (एसएफआइओ) से भी मामले की जांच कराई थी। जिसके बाद राज्य चीनी निगम के प्रबंध निदेशक की ओर से गोमतीनगर थाने में धोखाधड़ी की एफआइआर दर्ज कराई गई थी।

इन फर्मों के जरिये हुआ था करोड़ों का खेल

चीनी निगम की 21 चीनी मिलों को वर्ष 2010-11 में बेचा गया था। इस दौरान नम्रता मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड ने देवरिया, बरेली, लक्ष्मीगंज (कुशीनगर) व हरदोई इकाई की मिलें खरीदने के लिए 11 अक्टूबर 2010 को एक्प्रेशन ऑफ इंटरेस्ट कम रिक्वेस्ट फॉर क्वालीफिकेशन (ईओआइ कम आरएफक्यू) प्रस्तुत किये थे। यही प्रकिया गिरियाशो कंपनी प्राइवेट लिमिटेड ने भी अपनाई थी। नियमों को दरकिनार कर समिति ने दोनों कंपनियों को नीलामी प्रक्रिया के अगले चरण के लिए योग्य घोषित कर दिया गया था। दोनों कंपनियों की बैलेंस शीट व अन्य प्रपत्रों में भारी अनियमितता थी।

  • कर्मचारी भविष्य निधि संगठन के दो और एक सेवानिवृत्त अधिकारी के रांची स्थित तीन ठिकानों पर छापेमारी
  • धनबाद, बोकारो, दिल्ली, जमशेदपुर और रांची के कई ठिकानों पर एक साथ सीबीआई की रेड

 भारत कोकिंग कोल लिमिडेट के जनरल मैनेजर कल्याण प्रसाद के खिलाफ सीबीआई ने कार्रवाई की है। मंगलवार को सीबीआई की टीम ने कल्याण प्रसाद के धनबाद, बोकारो और दिल्ली स्थित ठिकानों पर छापेमारी की। फिलहाल, इस संबंध में सीबीआई की टीम जांच पड़ताल में जुटी हुई है। आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआई ये कार्रवाई कर रही है।

सीबीआई ने मंगलवार को भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और हथियार तस्करी के मामलों में छापेमार कार्रवाई की। सीबीआई ने 19 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के 110 स्थानों पर छापा मारा। इन मामलों में सीबीआई ने 30 अलग-अलग केस दर्ज किए। एक हफ्ते पहले भी सीबीआई ने बैंकों के साथ कथित तौर पर धोखाधड़ी करने वालों के खिलाफ सर्च ऑपरेशन चलाया था।

बीसीसीएल के लोदना क्षेत्र के महाप्रबंधक रहे हैं कल्याण प्रसाद
जानकारी के मुताबिक, धनबाद के छह, बोकारो के छह और दिल्ली के ठिकानों पर सीबीआई की छापामारी चल रही है। कल्याण प्रसाद बीसीसीएल के लोदना क्षेत्र के महाप्रबंधक रहे हैं। इस दाैरान उनके खिलाफ भ्रष्टाचार और अनियमितता की कई शिकायतें सीबीआई को मिली है।

इनके आवास पर भी छापेमारी

  • भविष्य निधि संगठन में सीनियर सोशल सिक्योरिटी असिस्टेंट के पद पर कार्यरत विजय लकड़ा के रांची के एदेलहातू, भिठा रोड स्थित आवास और साहेबगंज के सकरोगढ़ मंदिर चौक स्थित आवास पर छापेमारी।
  • भविष्य निधि संगठन से रिटायर अधिकारी जेके रॉय के रांची के पूरण विहार स्थित आवास में छापेमारी।
  • भविष्य निधि संगठन में असिस्टेंट एकाउंट्स ऑफिसर (जमशेदपुर में पोस्टेड) के जमशेदपुर के डिमना मानगो राजीव पथ स्थित शिवाजी कंपलेक्स के A-106 में छापेमारी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *