साल की सबसे बड़ी गिरावट के साथ बाजार बंद, डूबे 2.19 लाख करोड़ रु.

बैंकिंग शेयरों के साथ चौतरफा बिकवाली की वजह से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 553.82 अंक गिरकर 38529.72 अंक पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 177.90 अंकों की गिरावट के साथ 11,843 पर क्लोज हुआ.साल 2019 की सबसे बड़ी गिरावट के साथ बाजार बंद, निवेशकों के डूबे 2.19 लाख करोड़ रुपये

बैंकिंग शेयरों के साथ चौतरफा बिकवाली की वजह से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 553.82 अंक गिरकर 38529.72 अंक पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 177.90 अंकों की गिरावट के साथ 11,843 पर क्लोज हुआ.
RBI क्रेडिट पॉलिसी के दिन गुरुवार को शेयर बाजार में भारी गिरावट देखने को मिली. बैंकिंग शेयरों के साथ चौतरफा बिकवाली की वजह से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 553.82 अंक गिरकर 38529.72 अंक पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी 177.90 अंकों की गिरावट के साथ 11,843.75 पर क्लोज हुआ. इस साल पहली बार सेंसेक्स और निफ्टी इतनी बड़ी गिरावट के साथ बंद हुए हैं. बाजार में बिकवाली की वजह से एक दिन में निवेशकों के 2.19 लाख रुपये डूब गए. कैपिटल गुड्स, रियल्टी, ऑटो और सीमेंट जैसे सेक्टर आ सबसे ज्यादा गिरे हैं. आज निफ्टी के 50 में से 36 शेयरों में बिकवाली देखने को मिली. वहीं सेंसेक्स के 30 में से 24 शेयरों में बिकवाली रही.
एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बाजार में चौतरफा बिकवाली की वजह से सेंसेक्स और निफ्टी में तेज गिरावट है. साथ ही DHFL के बॉन्ड डिफॉल्ट होने के बाद अन्य एनबीएफसी को लेकर फिर से चिंताएं गहरा गई हैं. माना जा रहा है कि आने वाले समय में कई एनबीएफसी कंपनियां डिफॉल्ट कर सकती हैं.
निवेशकों के डूबे 2.4 लाख करोड़
बाजार में गिरावट की वजह से बीएसई का कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन 1,53,20,367.21 करोड़ रुपये रह गया. जबकि एक दिन पहले बाजार का मार्केट कैप 1,55,41,431.31 करोड़ रुपये था. यानी एक दिन में निवेशकों को कुल 2.19 लाख करोड़ रुपये डूब गए.

बैंकिंग शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट

बैंक शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट है. पीएसयू बैंक इंडेक्स 4.5 फीसदी टूट गया. बैंक निफ्टी में 650 अंकों की गिरावट आ गई है. निफ्टी पर आईटी को छोड़कर सभी प्रमुख इंडेक्स में गिरावट है.

DHFL के पास बॉन्ड का इंटरेस्ट चुकाने के पैसे नहीं
DHFL दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड के शेयर 18.3 फीसदी गिरकर 91.30 रुपए पर आ गए. यह पिछले पांच साल का सबसे निचला स्तर है. दिसंबर 2013 के बाद DHFL के शेयर पहली बार इतने नीचे आए हैं. CARE ने DHFL की रेटिंग BBB- से घटाकर D कर दी है. लिक्विडिटी की मुश्किल को देखते हुए क्रिसिल और इकरा ने इसके कमर्शियल पेपर की रेटिंग भी D (डिफॉल्ट) कर दी है. दो दिन पहले ही यह खबर आई थी कि DHFL के पास बॉन्ड का इंटरेस्ट चुकाने के लिए फंड नहीं है. कंपनी बैंकों से बात कर रही है ताकि उसे कुछ फंड मिल सके. साथ ही इसने इंटरेस्ट चुकाने के लिए एक हफ्ते का वक्त मांगा है.
DHFL के बॉन्ड डिफॉल्ट होने के बाद अन्य एनबीएफसी को लेकर फिर से चिंताएं गहरा गई हैं. माना जा रहा है कि आने वाले समय में कई एनबीएफसी कंपनियां डिफॉल्ट कर सकती हैं.

बाजार में गिरावट की वजह-

एक्सपर्ट्स बताते हैं कि बाजार में चौतरफा बिकवाली की वजह से सेंसेक्स और निफ्टी में तेज गिरावट है. साथ ही DHFL के बॉन्ड डिफॉल्ट होने के बाद अन्य एनबीएफसी को लेकर फिर से चिंताएं गहरा गई हैं. माना जा रहा है कि आने वाले समय में कई एनबीएफसी कंपनियां डिफॉल्ट कर सकती हैं.

दूसरी ओर, बैंकिंग शेयरों के साथ सभी सेक्टरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बना है. निफ्टी पीएसयू बैंक इंडेक्स 4.61 फीसदी टूट गया जबकि बैंक निफ्टी में 2 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *