शेयर बाजार में सोमवार काला, दो दिन में डूबे पांच लाख करोड़, इसकी वजहें पांच

शेयर बाजार में सोमवार का दिन निवेशकों का दिन काला रहा। शुक्रवार और सोमवार दो दिन मिलाकर के निवेशकों के पांच लाख करोड़ रुपये से ज्यादा की चपत लग गई। Sensex 700 अंक टूट कर 39000 के नीचे पहुंचा,अमेरिका में पिछले सप्ताह जॉब डॉटा मजबूत आने से अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में कटौती की संभावना कम होने से एशिया बाजारों में नकरात्मक रुझान रहा.बजट के अलावा भी पांच कारण रहे, जिनकी वजह से बाजार में बड़ी गिरावट देखने को मिली।

नई दिल्ली: बजट (Budget 2019) पेश होने के बाद से बाजार में बिकवाली का दौर जारी है. यही वजह है कि सेंसेक्स दोपहर 1.30 बजे 700 अंक लुढ़क कर 38,835.39 पर ट्रेड कर रहा है. निफ्टी भी 223 अंकों की गिरावट के साथ 11588 पर ट्रेड कर रहा है. सेंसेक्स सुबह 9.55 बजे 416.60 अंकों की गिरावट के साथ 39,096.79 पर और निफ्टी भी लगभग इसी समय 116.65 अंकों की कमजोरी के साथ 11,694.50 पर कारोबार कर रहा था. जबकि, सुबह 11.45 बजे सेंसेक्स 581.21 अंक लुढ़ककर 38,932.18 पर कारोबार कर रहा था.

अमेरिका में पिछले सप्ताह जॉब डॉटा मजबूत आने से अमेरिकी केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर में कटौती की संभावना कम होने से एशिया बाजारों में नकरात्मक रुझान रहा. इसके अलावा, पिछले सप्ताह शुक्रवार को संसद में पेश किए गए आम बजट 2019-20 के प्रावधानों को लेकर निवेशकों में असमंजस की स्थिति बरकरार है, जिससे शेयर बाजार में नकारात्मक रुझान देखने को मिला. बाजार के जानकार बताते हैं कि खासतौर से सरकार द्वारा शेयर बायबैक पर कर लगाने और सूचीबद्ध कंपनियों में न्यूनतम पब्लिक शेयरहोल्डिंग बढ़ाने की घोषणा से घरेलू निवेशकों में निराशा का माहौल बना है.

दिवालिया हो चुकी भूषण स्टील द्वारा 3800 करोड़ के फ्रॉड की खबर के बाद पंजाब नेशनल बैंक का शेयर 10 फीसदी तक टूट गया है. जेट एयरवेज का भी शेयर 5 फीसदी टूटा है. दरअसल, सरकार ने जेट एयरवेज को लेकर SFIO (Serious Fraud Investigation Office) जांच के आदेश दिए हैं.

कंपनियों का बाजार पूंजीकरण घटा
कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) इन दो दिनों में 2.75 फीसदी तक कम हो गया। बजट से निवेशकों को किसी तरह का कोई उत्साह देखने को नहीं मिला था। इसके बाद विदेशी बाजारों में भी गिरावट का असर भी पड़ा। विदेशी संस्थागत निवेशकों पर लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स बढ़ाने का प्रस्ताव भी बाजार को रास नहीं आया। सोमवार को निवेशकों के तीन लाख करोड़ रुपये डूब गए।
इन कारणों से डूबा बाजार
जिन वजह या कारणों के चलते बाजार में निवेशकों को भारी भरकम चपत लगी, वो इस प्रकार हैं…..
1. सूचीबद्ध कंपनियों में शेयरहोल्डिंग बढ़ाने का प्रस्ताव
आम बजट में शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनियों की शेयर होल्डिंग 25 फीसदी से 35 फीसदी करने का प्रस्ताव दिया गया है। इसको एक से दो साल में लागू करने का है। इसके साथ ही बजट में कंपनियों पर 20 फीसदी बायबैक टैक्स लगाने के प्रस्ताव भी दिया गया।
2. एशियाई बाजार का बुरा हाल
एशियाई बाजार का सोमवार को बुरा हाल रहा। अमेरिका में नौकरियों का डाटा जारी होने के कारण शंघाई 2.5 फीसदी, हांगकांग और दक्षिण कोरिया का बाजार 1.8 फीसदी, जापान निक्केई 1.01 फीसदी और ताइवान का ताइएक्स 0.53 फीसदी गिर गए।
3. अमेरिका में बढ़ी नौकरियां
अमेरिका में इस साल नौकरियां काफी बढ़ गई। जून के महीने में दो लाख से ज्यादा लोगों को नौकरियां मिली।
4. रुपया, कच्चा तेल
रुपये में गिरावट और कच्चे तेल में बढ़त देखने को मिली। रुपया 25 पैसे गिरकर के 68.66 पर बंद हुआ। वहीं कच्चा तेल 0.2 फीसदी बढ़कर के 64.33 डॉलर पर कारोबार करते हुए देखा गया।
5. तिमाही नतीजें
मंगलवार से कंपनियों के तिमाही नतीजे आने शुरू हो जाएंगे। सबसे पहले टीसीएस और शुक्रवार को इंफोसिस के नतीजे आएंगे। बाजार के जानकारों का कहना है कि इससे ज्यादा असर पड़ेगा, क्योंकि कंपनियों का मुनाफा उम्मीद के मुताबिक नहीं आएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *