वो लैंड डील जिस पर प्रियंका गांधी को घेर रही भाजपा

रॉबर्ट वाड्रा, प्रियंका गांधी (इनसेट में भाजपा द्वारा जारी कागज)

स्मृति ईरानी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एक जमीन घोटाले का बात रखी और आरोप लगाया कि इस डील में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और जीजा रॉबर्ट वाड्रा शामिल हैं.

नई दिल्ली, 13 मार्च ! लोकसभा चुनाव की जंग के ऐलान के साथ ही राजनीतिक पार्टियों में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला शुरू हो गया है. मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने पहले चुनावी भाषण में भाजपा को घेरा तो बुधवार को भाजपा ने हल्ला बोल दिया. केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एक जमीन घोटाले की बात रखी और आरोप लगाया कि इस डील में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा और जीजा रॉबर्ट वाड्रा शामिल हैं.

आपको बता दें कि जिस डील की बात स्मृति ईरानी कर रही हैं वह कई साल पुरानी है, ऐसे में हम आपको उस डील की पूरी जानकारी देते हैं जिसको लेकर भाजपा प्रियंका गांधी को घेर रही है. भाजपा की ओर से कुछ दस्तावेज भी जारी किए गए हैं.

इन दस्तावेजों के अनुसार कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने हरियाणा के फरीदाबाद में 5 एकड़ जमीन खरीदी. ये जमीन अमीपुर गांव के हरबन लाल पाहवा से 15 लाख रुपए में खरीदी गई.

लेकिन कुछ ही समय बाद इस जमीन को उन्होंने दोबारा हरबन लाल पाहवा को 80 लाख रुपये में बेच दी. जमीन खरीदी अप्रैल, 2006 में गई थी और जून, 2009 में बेची गई थी. जारी दस्तावेज के अनुसार इसी तरह से रॉबर्ट वाड्रा ने भी तीन जमीन खरीदी थीं और बाद में इन्हें बेच दिया था.

रॉबर्ट वाड्रा ने कुल 41 एकड़ जमीन करीब 1.16 करोड़ रुपये में खरीदी और बाद में उन्हें तीन टुकड़ों में करीब 3 करोड़ रुपये में बेच दिया. जिन हरबंस लाल पाहवा से जमीन खरीदी गई थी, वह बाद में रॉबर्ट वाड्रा की कंपनी में डायरेक्टर पद पर भी रहें.

BJP
@BJP4India

एच एल पाहवा के यहां हुई रेड में चौकाने वाली बात ये है कि उनके पास जमीन की खरीद फरोख्त के लिए पैसे नहीं थे। राहुल गांधी और श्रीमती वाड्रा के लिए जमीन खरीदने के लिए सी सी थंपी ने 50 करोड़ से ज्यादा रुपये दिये : श्रीमती @smritiirani

भाजपा ने आरोप लगाया है कि ना सिर्फ रॉबर्ट वाड्रा और प्रियंका गांधी बल्कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी महेश कुमार नागर के जरिए यहां जमीन खरीदी थी. भाजपा की तरफ से जारी दस्तावेजों में जमीन के दाम भी बताए गए हैं. इस मामले में एक कमेटी जांच भी कर रही है, जिसकी अगुवाई रिटायर्ड जस्टिस ढींगरा कर रहे हैं.

भाजपा नेता ने कहा कि बेनामी संपत्ति मामले में जो दस्तावेज सामने आए हैं उससे ये पता चलता है कि भ्रष्टाचार में जीजा के साथ साले भी शामिल है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 70 सालों में संस्थागत भ्रष्टाचार कांग्रेस की देन रही है. लेकिन पिछले 24 घंटों में समाचार माध्यमों से जो तथ्य आए हैं वो दर्शाते हैं कि कैसे गांधी-वाड्रा परिवार ने पारिवारिक भ्रष्टाचार को परिभाषित किया है.

उन्होंने कहा कि एक समाचार सूत्र के माध्यम से राष्ट्र को जानकारी मिली है कि एचएल पाहवा नाम के एक व्यक्ति के यहां ED की रेड में उसके पास से राहुल गांधी के साथ लेनदेन के दस्तावेज मिले हैं.

भाजपा नेता ने कहा कि जमीन की खरीददारी से संबंधित इस दस्तावेजों में ये बात सामने आई कि राहुल गांधी का एचएल पाहवा के साथ राहुल गांधी का क्या आर्थिक संबंध है. उन्होंने कहा ‘हरियाणा में राहुल गांधी एचएल पाहवा से जमीन खरीदते हैं. जमीन की खरीद फरोख्त में राहुल गांधी के प्रतिनिधि महेश नागर बनते हैं. आपको याद होगा कि ये वही महेश नागर हैं. जिन्होंने रॉबर्ट वाड्रा के लिए भी हरियाणा और राजस्थान में जमीने खरीदीं. ये वही महेश नागर हैं जिनके संदर्भ में हरियाणा और राजस्थान में खरीदी गई जमीनों के बारे में रॉबर्ट वाड्रा पर जांच चल रही है.’

केंद्रीय मंत्री ने आगे कहा, ‘जो तथ्य समाचार सूत्रों के माध्यम से सामने आए हैं उनमें श्रीमति वाड्रा के संदर्भ में भी कागजात पाए गए हैं. एचएल पाहवा के यहां रेड में जो दस्तावेज मिले हैं उसमें चौंकाने वाली बात ये है कि एचएल पाहवा के पास जमीन खरीदने के लिए पर्याप्त मात्रा में रुपय नहीं थे. पचास करोड़ से ज्यादा एचएल पाहवा को राहुल गांधी और श्रीमति वाड्रा की जमीन खरीदने के लिए सीसी थंपी ने पैसे दिए.

उन्होंने कहा, ‘आप सबको याद होगा सीसी थंपी पर भी वर्तमान में जांच चल रही है. सीसी थंमी की दोस्ती रॉबर्ट वाड्रा, आर्म्स डीलर संजय भंडारी के साथ स्थापित हो चुकी है. कल जो दस्तावेज समाचार सूत्रों के माध्यम से सार्वजनिक हुए है. उसमें अब साफ नजर आता है कि यूपीए की सरकार के वक्त पेट्रोलियम से संबंधित एक सौदे में और रक्षा से संबंधित एक सौदे में संजय भंडारी और सीसी थंपी के तार जुड़े हुए हैं. उन दोनों सौदों की जांचों में पैसे का ट्रेल ना सिर्फ रॉबर्ट वाड्रा तक पहुंचा बल्कि अब देश जान पाया है कि जीजा जी के साथ साले साहब भी इस फैमिली पैक भ्रष्टाचार में लिप्त है.’

स्मृति ईरानी ने कहा, ‘आज इन तथ्यों को पढ़ने के बाद जनता शायद समझ पाई है कि डिफेंस के सौदों में राहुल गांधी विशेष रुचि क्यों ले रहे हैं? उनका इंट्रस्ट मात्र राजनीतिक नहीं, बल्कि आर्थिक और पारिवारिक है. राहुल गांधी को जनता को बतलाना होगा कि एचएल पाहवा के साथ उनके और श्रीमति वाड्रा के विशिष्ठ संबंध जमीन के मुद्दे पर क्यों है? कांग्रेस ने भ्रष्टाचार के जवाब में महेश नागर के भाई को हरियाणा में टिकट दिया था.अब तक माना जाता था कि संजय भंडारी (आर्म्स डीलर) का संबंध केवल रॉबर्ट वाड्रा के साथ है लेकिन अब ये सामने आ गया है कि इनके संबंध राहुल गांधी के साथ भी है. उन्हें देश को जवाब देना होगा.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *