विवादित बयान पर पत्रकारों पर भड़के आजम, कहा- ‘आपके वालिद की मौत में आया था’

बीजेपी नेता जया प्रदा पर विवादित टिप्पणी करने वाले समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने सोमवार को मीडियाकर्मियों के साथ बदसलूकी की। एमपी के विदिशा में पत्रकारों द्वारा सवाल किए जाने पर आजम ने यहां एक विवादित बयान दिया।आजम खान (फाइल फोटो)

हाइलाइट्स

  • बयान पर सवाल करने पर पत्रकारों से आजम खान ने की बदसलूकी
  • विदिशा में पत्रकारों ने आजम खान से किया था विवादित बयान पर सवाल
  • सवाल के जवाब में बोले आजम- ‘आपके वालिद की मौत में आया था’
  • पूर्व राज्यसभा सांसद मुनव्वर सलीम के अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे थे आजम
विदिशा :समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान एक बार फिर एक विवादित बयान दिया है। एमपी के विदिशा में पूर्व राज्यसभा सांसद मुनव्वर सलीम के अंतिम संस्कार से वापस लौटते वक्त आजम खान ने मीडिया के सवालों पर विवादित टिप्पणी की। बीजेपी नेता जया प्रदा को लेकर दिए उनके बयान पर मीडिया द्वारा सवाल पूछे जाने के बाद आजम खान ने पत्रकारों से कहा कि मैं यहां आपके वालिद की मौत में आया था।
दरअसल, आजम खान ने रविवार को एक जनसभा के दौरान बिना नाम लिए जया प्रदा पर एक विवादित टिप्पणी की थी। इस बयान के बाद सोमवार को आजम मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में पहुंचे थे। यहां जब कुछ पत्रकारों ने जया प्रदा को लेकर उनके द्वारा दिए बयान पर उनकी प्रतिक्रिया लेनी चाही, तो आजम इसपर भड़क गए और पत्रकारों से कहा कि ‘मैं यहां आपके वालिद की मौत में आया था।’ यह कहते हुए आजम यहां से चले गए और पत्रकारों के सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।

रविवार को जया प्रदा पर की थी विवादित टिप्पणी
बता दें कि जया प्रदा का नाम लिए बगैर आजम ने रविवार को रामपुर की एक जनसभा में मौजूद लोगों से पूछा, ‘क्या राजनीति इतनी गिर जाएगी कि 10 साल जिसने रामपुर वालों का खून पिया, जिसे उंगली पकड़कर हम रामपुर में लेकर आए, उसने हमारे ऊपर क्या-क्या इल्जाम नहीं लगाए। क्या आप उसे वोट देंगे?’ आजम ने आगे कहा कि आपने 10 साल जिनसे अपना प्रतिनिधित्व कराया, उसकी असलियत समझने में आपको 17 साल लगे, मैं 17 दिन में पहचान गया कि इनके नीचे का अंडरवेअर खाकी रंग का है।’
जया ने की उम्मीदवारी रद्द करने की मांग
समाजवादी पार्टी नेता और रामपुर से बीएसपी-एसपी गठबंधन के प्रत्याशी आजम खान की अश्लील टिप्पणी को लेकर बीजेपी प्रत्याशी जया प्रदा ने सोमवार सुबह जोरदार पलटवार किया। जया ने इस बयान को लेकर चुनाव आयोग से आजम खान की उम्मीदवार रद्द करने की अपील की। उन्होंने आजम को सीधी चुनौती देते हुए कहा कि वह आजम के डर से रामपुर छोड़कर नहीं जाएंगी और उन्हें हराकर बताएंगी की जया प्रदा क्या है। कभी आजम खान को राखी बांधने वाली जया ने कहा, ‘अब वह मेरे भाई नहीं हैं।’ जया ने कहा, ‘यह मेरे लिए नया नहीं है। आपको याद होगा कि मैं 2009 में उनकी पार्टी से प्रत्याशी थी, तब भी उन्होंने मेरे लिए ऐसी बातें कीं, लेकिन किसी ने मुझे सपॉर्ट नहीं किया। मैं एक महिला हूं। उसने जो कहा वह मैं अपनी जुबान से बोल भी नहीं सकती हूं।’
‘क्या मैं मर जाऊं तब तसल्ली होगी?’ 
रामपुर की पूर्व सांसद ने कहा, ‘पता नहीं मैंने उसके लिए क्या किया कि वह इस तरह की टिप्पणी कर रहा है। उसके खिलाफ एफआईआर हुई है। जनता तक बात पहुंची है। लोग उसे छोड़ेंगे नहीं। उसका चुनाव रद्द किया जाए। यह यदि चुनाव जीतेगा तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई स्थान नहीं होगा। क्या मैं मर जाऊं तो आप लोगों को तसल्ली होगी। मैं तुम्हें हराकर बताऊंगी की जया प्रदा क्या है। क्या आपके घर में मां-बहू नहीं है?आजम खान की सफाई
सोमवार सुबह आजम खान ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा कि उनकी बात को गलत तरीके से पेश किया गया है। उन्होंने कहा कि बयान में किसी का नाम नहीं लिया गया, अगर वह दोषी साबित होंगे तो चुनाव नहीं लड़ेंगे। आजम खान ने कहा कि मैं रामपुर से नौ बार विधायक रहा हूं, इतना मुझे पता है क्या कहना है, अगर कोई यह साबित कर दे कि मैंने किसी नाम लिया और उसपर टिप्पणी की, तो मैं चुनाव से हाथ पीछे कर लूंगा।
आजम खान के खिलाफ केस दर्ज
इसके बाद जया प्रदा को लेकर की गई अमर्यादित टिप्पणी पर आजम खान के खिलाफ रामपुर के शाहबाद थाने में केस दर्ज किया गया। क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट ने उनके खिलाफ थाने में तहरीर दी और मुकदमा दर्ज कराया।  IPC की धारा 509 और लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 125 में केस दर्ज किया गया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
जया प्रदा का आजम पर पलटवार
इसके तुरंत बाद आजम खान की टिप्पणी पर जया प्रदा का बयान आया है। उन्होंने कहा कि यह मेरे लिए कोई नई बात नहीं है। जया प्रदा ने कहा कि आजम ने हद पार कर दी है। मेरा चरित्र हनन किया जा रहा है। हमारी रक्षा कौन करेगा।
जयाप्रदा ने कहा कि उन्हें चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। अगर वह जीत गए, तो लोकतंत्र का क्या होगा? समाज में महिलाओं के लिए कोई जगह नहीं होगी। हम कहां जाएंगे? क्या मुझे मर जाना चाहिए, तब आप संतुष्ट होंगे? आप सोचते हैं कि मैं डर जाऊंगी और रामपुर छोड़ दूंगी? लेकिन मैं नहीं छोड़ूंगी। आजम खान को हराकर छोड़ूंगी। आजम खान आदत से मजबूर हैं। वो सुधर नहीं सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *