वर्ल्ड कप फुटबॉल : ‘चमत्कारिक’ जीत के बाद जश्न में डूबा क्रोएशिया

 ‘थ्री लायंस’ को रौंद पहली बार फीफा विश्व कप के फाइनल में,20 साल पहले वर्ल्डकप में फ्रांस ने रोका था क्रोएशिया का रास्ता, 20 साल बाद ये संयोग कर देगा हैरान,जानें उनकी राष्ट्रपति , जिन्होंने बनाया सबको अपना फैन

क्रोएशिया
क्रोएशिया

मॉस्को : एक गोल से पिछड़ने के बाद अतिक्ति समय में 109वें मिनट में मारिया मांड्जुकिक के गोल के दम पर क्रोएशिया ने बुधवार देर रात खेले गए दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड को 2-1 से मात देकर फीफा वर्ल्डकप के 21वें संस्करण के फाइनल में जगह बना ली है. क्रोएशिया पहली बार विश्व कप के फाइनल में पहुंचा है, जहां उसका सामना रविवार को 1998 की विजेता फ्रांस से होगा. वहीं इंग्लैंड तीसरे स्थान के मैच के लिए शनिवार को बेल्जियम से भिड़ेगा. क्रोएशिया पहले हाफ में एक गोल से पीछे थी, लेकिन दूसरे हाफ में उसने मैच का पासा पलट दिया और बराबरी का गोल किया. तय समय में मैच 1-1 की बराबरी पर खत्म हुआ और मैच अतिरिक्त समय में गया जहां मांड्जुकिक ने गोल कर अपनी टीम के लिए इतिहास रचा.

मांड्जुकिक ने यह गोल ईवान पेरीसिक के पास पर किया. पेरीसिक ने बॉक्स के अदंर मांड्जुकिक को गेंद दी, जिन्होंने बेहद आसानी से उसे गोल के निचले कोने में डाल अपनी टीम को निर्णायक 2-1 की बढ़त दिलाई, जो विजयी साबित हुई. इंग्लैंड को इस मैच में अपनी गलतियों पर काफी पछतावा हो रहा होगा. पांचवें मिनट में ही 1-0 से आगे होने के बाद उसके पास तीन से चार गोल करने के बेहद आसान और साफ मौके आए, लेकिन इंग्लैंड के कप्तान और इस वर्ल्डकप में अभी तक सबसे ज्यादा छह गोल करने वाले हैरी केन, जेसे लिंगार्ड और रहीम स्टर्लिग अहम मैच में आसान से मौकों को भी नहीं भुना पाए. अगर यह खिलाड़ी अपने पास आए मौकों पर गोल कर देते तो इंग्लैंड तय समय में क्रोएशिया को मात दे देता.

शायद किस्मत को भी कुछ और मंजूर था. क्रोएशिया शुरुआती पलों में भी गोल खाने के बाद डिगी नहीं और उसने शानदार वापसी करते हुए ऐतिहासिक सफलता हासिल की. इंग्लैंड को इस अहम मैच में जिस तरह की शुरुआत चाहिए थी वो उसे मिली. पांचवें मिनट में ही कीरान ट्रिपिर ने गोल कर इंग्लैंड को बढ़त दिलाई. इंग्लैंड को फ्री किक मिली जिसे ट्रिपिर ने गोल के बाएं कोने में डाल अपनी टीम को 1-0 से आगे कर दिया. इसके बाद इंग्लैंड के पास कई मौके आए जब वो अपनी बढ़त को दोगुना या तीनगुना कर सकती थी, लेकिन एक भी मौके पर वो सफल नहीं रही. 15वें मिनट में उसे कॉर्नर मिला.

हैरी मैग्यूर इस मौके पर सही हेडर नहीं लगा पाए. केन 30वें मिनट में क्रोएशिया के गोलकीपर को छका नहीं पाए. उनके पास रिबाउंड पर भी गोल करने का मौका था और इस बार भी कप्तान विफल रहे. 36वें मिनट में लिंगार्ड ने गेंद को बाएं कोने से बाहर खेल आसान सा मौका खो दिया. क्रोएशिया हालांकि इस बीच शांत नहीं रही. अपनी मजबूत मिडफील्ड के लिए जानी जाने वाली इस टीम ने 19 से 23वें मिनट के भीतर तीन मौके बनाए. पेरीसिक ने अच्छी तरह से अपने लिए स्पेस बनाने के बाद गेंद को गोल पोस्ट में डालना चाहा, लेकिन उनका शॉट वॉल्कर से पैर से टकरा गया.

अगले ही मिनट एंटे रेबिक ने इंग्लैंड के एश्ले यंग को तो छका दिया, लेकिन वो जॉन स्टोन्स को पार नहीं कर पाए. 23वें मिनट में पेरीसिक एक बार फिर गेंद को नेट में डालने से चूक गए.
पहले हाफ में एक गोल खाने के बाद दूसरे हाफ में क्रोएशिया ने वो खेल दिखाया, जिसने इंग्लैंड को मिनट दर मिनट बीतने के साथ ही पीछे धकेला. वह ज्यादा अटैक कर रही थी और गेंद को उसने अपने पास भी ज्यादा रखा. वहीं इंग्लैंड ने इस हाफ में कुछ और मौके गंवाए.

क्रोएशिया हिम्मत नहीं हार रही थी और 68वें मिनट में पेरीसिक ने बराबरी का गोल दाग कर उसमें नई जान फूंक दी. पेरीसिक ने वॉल्कर को छकाते हुए गेंद सिमे वसाल्जको को दी, जिन्होंने पेरीसिक को रिटर्न पास दिया और इस बार पेरीसिक ने मौका नहीं गंवाया. इस गोल ने क्रोएशिया की टीम में उत्साह भर दिया. तीन मिनट बाद उसने अपने स्कोर का आंकड़ा दो कर दिया होता, लेकिन पहले पेरीसिक की किक गोलपोस्ट से टकरा कर वापस आ गई और फिर रेबिक रिबाउंड पर गोल नहीं मार पाए.

यहां से क्रोएशिया ने पूरी तरह से इंग्लैंड पर दवाब बना लिया, हालांकि इस दवाब में इंग्लैंड के गोलकीपर जॉर्न पिकफोर्ड बिना किसी परेशनी के अपना काम करते रहे और क्रोएशिया को कई मौकों पर दूसरा गोल करने से महरूम रखा. नतीजन मैच तय समय में बराबरी पर खत्म हुआ. अतिरिक्त समय के दूसरे हाफ में मांड्जुकिक ने बेहतरीन गोल कर क्रोएशिया को जीत पक्की की.

इंग्लैंड बनाम क्रोएशिया

इंग्लैंड बनाम क्रोएशिया

लाइव अपडेट्स

क्रोएशिया ने एक बार की विश्व चैंपियन इंग्लैंड को 2-1 से हराकर पहली बार विश्व कप के फाइनल में जगह बनाई।

स्कोरः क्रोएशिया 2ः इंग्लैंड 1

फुलटाइम

120 मिनटः एकस्ट्रा टाइम के दूसरे हाफ का खेल खत्म। 4 मिनट का इंजुरी टाइम जोड़ा गया है।

115 मिनटः एक्सट्रा टाइम के दूसरे हाफ का खेल खत्म होने में 5 मिनट का समय बचा है। देखना है कि इंग्लैंड क्रोएशिया के गोल की बराबरी कर पाती है या नहीं।

109 मिनटः गोल!!! एक्सट्रा टाइम के 19वें मिनट में मैंडजुकिच ने शानदार गोल दागकर क्रोएशिया को 2-1 से बढ़त दिलाई

View image on Twitter

20 साल पहले वर्ल्डकप में फ्रांस ने रोका था क्रोएशिया का रास्ता, 20 साल बाद ये संयोग कर देगा हैरान

इन दोनों टीमों के बीच एक रोचक संयोग बना है. फ्रांस ने आखिरी बार 1998 में वर्ल्डकप जीता था. मजे की बात ये है कि उसी साल क्रोएशिया ने पहली बार वर्ल्डकप में हिस्सा लिया था.

20 साल पहले वर्ल्डकप में फ्रांस ने रोका था क्रोएशिया का रास्ता, 20 साल बाद ये संयोग कर देगा हैरान
इंग्लैंड के खिलाफ जीत के बाद जश्न में डूबे क्रोएशियाई खिलाड़ी. फोटो : आईएएनएसमारियो मानजुकिच के अतिरिक्त समय में दागे गोल की बदौलत क्रोएशिया फीफा वर्ल्डकप के दूसरे सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ शुरुआत में ही पिछड़ने के बाद जोरदार वापसी करते हुए पहली बार फाइनल में जगह बनाने में सफल रहा जहां उसका सामना फ्रांस से होगा. इन दोनों टीमों के बीच एक रोचक संयोग बना है. फ्रांस ने आखिरी बार 1998 में वर्ल्डकप जीता था. मजे की बात ये है कि उसी साल क्रोएशिया ने पहली बार वर्ल्डकप में हिस्सा लिया था.

क्रोएशिया फुटबाल टीम के मुख्य कोच ज्लातको डालिक ने कहा कि उनकी टीम फीफा वर्ल्डकप के फाइनल में फ्रांस के खिलाफ बदले की फिराक में नहीं है. साल 1998 के वर्ल्डकप सेमीफाइनल में फ्रांस ने क्रोएशिया को 2-1 से ही हराया था. इस हार के बावजूद डालिक का कहना है कि उनकी टीम फ्रांस से बदला नहीं चाहती है.

20 साल बाद दोनों टीमों के बीच बने हैं ये संयोग

  • क्रोएशिया की टीम ने 1998 में पहली बार वर्ल्डकप खेला था. उस वर्ल्डकप में टीम ने सेमीफाइनल तक का सफर तय कर लिया था.
  • 1998 में फ्रांस ने सेमीफाइनल में क्रोएशिया को हरा दिया था. जिनेडिन जिदान के जादुई खेल की दम पर उस साल फ्रांस चैंपियन बना था.
  • 1998 के वर्ल्डकप में फ्रांस ग्रुप सी में था. इस बार भी वह ग्रुप सी में रहा. 20 साल पहले भी वह अपने ग्रुप में नंबर वन था. इस बार भी नंबर 1 रहा. क्रोएशिया भी इस बार नंबर 1 रहा.
  • फ्रांस और डेनमार्क 1998 में एक ही ग्रुप में थे, तो इस बार भी एक ही ग्रुप में थे.
  • कुछ कुछ ऐसा ही क्रोएशिया और लियोनल मेसी की टीम अर्जेंटीना के साथ हुआ. 1998 में और 2018 में ये दोनों टीमें एक ही ग्रुप में रहीं.
  • फ्रांस की टीम 1998 में प्री क्वार्टरफाइनल और क्वार्टरफाइनल में एक्स्ट्रा टाइम या पेनल्टी शूटआउट में जाकर जीती थी. वहीं क्रोएशिया की टीम ने अपने ये मैच निर्धारित समय में ही जीत लिए थे.
  • 2018 के वर्ल्डकप की बात करें तो इस बार क्रोएशिया ने अपने प्री क्वार्टरफाइनल और क्वार्टर फाइनल पेनल्टी शूट आउट से जीते हैं. वहीं फ्रांस ने बिना एक्स्ट्रा टाइम में गए अपने मैच जीत लिए.

करीब 41 लाख की आबादी वाला ये देश 25 जून 1991 में आजाद हुआ. 1998 में इस देश ने पहली बार फीफा वर्ल्डकप के लिए क्वालिफाइ कर लिया था. उस वर्ल्डकप में उसने सेमीफाइनल तक का सफर तय कर लिया था. क्रोएशिया की राष्ट्रपति कोलिंडा ग्रेबर हैं.

जगरेब,  ! पहली बार विश्व कप फाइनल में पहुंचने के बाद क्रोएशिया में मानो जज्बात का सैलाब उमड़ पड़ा. कहीं आंसू छलके, तो कहीं ठहाके बिखरे. कहीं पटाखे छूटे तो कहीं नारों के शोर से आसमान गूंज उठा.सरकारी एचआरटी टीवी के कमेंटेटर ड्रागो कोसिच खुशी से चीखते हुए बोले,‘क्रोएशिया विश्व कप फाइनल में. शानदार. सबसे बड़ा चमत्कार रूस में.’

जगरेब के मुख्य चौक पर भारी बारिश के बावजूद हजारों की संख्या में फुटबॉलप्रेमी उमड़ पड़े. क्रोएशिया के स्टार खिलाड़ी लूका मोडरिच ने कहा,‘हम गौरवान्वित और खुश हैं. हम यहां नहीं रुकेंगे’

विजयी गोल करने वाले मांडजुकिक ने कहा,‘महान टीमें ही इंग्लैंड के खिलाफ एक गोल से पिछड़ने के बाद वापसी कर सकती हैं, हम शेरों की तरह खेले.’सड़कों पर क्रोएशिया के ध्वज के लाल, सफेद और नीले रंग लपेटे लोगों का समूह खुशी में नाचता और गाता नजर आया. अपने दोस्तों के साथ जश्न में सराबोर फ्रान कूलिच ने कहा ,‘यह जज्बात से भरी शाम है, हमारे लिए यह बहुत बड़ी जीत है.’कैफे और होटलों में वेटरों, कर्मचारियों, टीवी कमेंटेटरों और अस्पतालों में नर्सों ने भी लाल और सफेद जर्सी पहन रखी थी. कुछ दुकानें जल्दी बंद हो गईं, ताकि स्टाफ मैच देख सके.

जानें उनकी राष्ट्रपति , जिन्होंने बनाया सबको अपना फैन

रविवार को अब क्रोएशियाई टीम की भिड़ंत फ्रांस की टीम से होगी. फ्रांस 2006 के बाद फाइनल में पहुंचा है तो क्रोएशिया पहली बार इस फाइनल में खेलेगा.

क्रोएशिया के वर्ल्डकप फाइनल में पहुंचने के बीच जानें उनकी राष्ट्रपति को, जिन्होंने ऐसे बनाया सबको अपना फैन

उनकी सबसे ज्यादा चर्चा उस समय हुई, जब क्रोएशिया ने मेजबान रूस को चारों खाने चित्त करते हुए सेमीफाइनल में जगह बनाई थी. उस समय उनके अपनी टीम को चीयर करने के अंदाज ने पूरी दुनिया को उनका फैन बना दिया था. इस मैच को देखने और अपनी टीम का हौसला बढ़ाने के लिए कोलिंडा क्रोएशिया से रूस पहुंची थीं. इतना ही नहीं वह बिजनेस क्लास की जगह इकोनोमी क्लास में सफर कर रूस पहुंची थीं. उनकी ये तस्वीरें भी खूब वायरल हुई थीं.

इसके बाद उन्होंने रूस और क्रोएशिया के बीच हुआ सेमीफाइनल मैच रूस के प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव के साथ देखा. उनकी टीम ने जब जीत हासिल की, तब उन्होंने दिमित्री मेदवेदेव के सामने ही अपनी टीम को उछलकर चीयर किया.

इसके बाद कोलिंडा अपनी टीम की हौसलाअफजाई के लिए टीम के ड्रेसिंग रूम में पहुंच गईं. उन्होंने वहां जाकर हर खिलाड़ी को गले लगाकर बधाई दी थी और प्रतियोगिता में आगे शानदार खेल दिखाने की बात कही गई थी. इसके बाद उनके ये वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुए थे.

 

कौन हैं कोलिंडा
50 वर्षीय कोलिंडा क्रोएशिया की चौथी राष्ट्रपति हैं. वह जनवरी 2015 में राष्ट्रपति के पद पर चुनी गई थीं. वह क्रोएशिया और पूर्वी यूरोप की पहली महिला हैं, जो इस पद पर पहुंची हैं. इसके अलावा वह नाटो में असिस्टेंट सेक्रेटरी जनरल का पद संभाल चुकी हैं. इसके अलावा वह देश में कई अहम पदों पर रह चुकी हैं.

कई भाषाओं की जानकार हैं…
कोलिंडा क्रोएशियन के अलावा, इंग्लिश, स्पेनिश और पुर्तगीज भाषाएं बोल लेती हैं. इसके अलावा फ्रेंच, जर्मन और इटालियन भाषा जानती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *