रामायण पाठ करने पर मुस्लिम को पीटने में भेजे जेल

अलीगढ़ के महफूज नगर गोश्त वाली गली में गुरुवार सुबह घर में रामायण पढ़ रहे मुस्लिम श्रद्धालु को पीटने वाले दोनों आरोपित समीर व जाकिर को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
अलीगढ़, । देहलीगेट क्षेत्र के महफूज नगर गोश्त वाली गली में गुरुवार सुबह घर में रामायण पढ़ रहे मुस्लिम श्रद्धालु को पीटने वाले दोनों आरोपित समीर व जाकिर को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

यह है मामला
महफूज नगर निवासी दिलशेर (55) पुत्र फूल खां मीट फैक्ट्री में सिक्योरिटी गार्ड हैं। वे बुधवार रात ड्यूटी कर गुरुवार सुबह अपने घर आए और स्नान करके रोज की तरह रामायण मानस का पाठ करने बैठ गए। इसी दौरान समीर व जाकिर समेत कुछ युवक उनके घर में आ धमके और गाली-गलौज कर उनसे मारपीट की। दिलशेर के हरमोनियम को तोड़ दिया। दबंग उन्हें जान से मारने की धमकी देकर रामचरित मानस भी उठा ले गए। दिलशेर शिकायत लेकर एसएसपी दफ्तर पहुंचे, जिसके बाद देहली गेट पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया।

1979 से रोज रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं दिलशेर
अलीगढ़ के देहलीगेट क्षेत्र के महफूज नगर गोश्त वाली गली निवासी दिलशेर 1979 से रोज रामचरित मानस का पाठ कर रहे हैं। उनका यह काम कुछ लोगों को अच्छा नहीं लग रहा है। कल भी रामायण पढ़ रहे 55 वर्षीय श्रद्धालु दिलशेर को रामचरित मानस का पाठ करने के दौरान मुहल्ले के ही लोगों ने पीट दिया। इतना ही नहीं उनका हरमोनियम तोड़ दिया और यह दबंग रामायण (रामचरित मानस) भी उठा ले गए। महफूज नगर निवासी दिलशेर (55) मीट फैक्ट्री में सिक्योरिटी गार्ड हैं। वह गुरुवार रात की ड्यूटी करके सुबह अपने घर आए और स्नान करने के बाद रामायण का पाठ करने बैठ गए। आरोप है इसी दौरान समीर व जाकिर समेत कुछ युवक घर में घुस आए। यह सभी लोग गाली-गलौज करते हुए मारपीट करने लगे। उनके बाजे को तोड़ दिया। आरोपितों ने कहा कि अगर यहां पाठ किया तो जान से मार देंगे। इसके बाद दबंग रामायण भी अपने साथ ले गए। दिलशेर ने सूचना सिक्योरिटी एजेंसी के सुपरवाइजर को दी। उन्होंने पुलिस में शिकायत करने की सलाह दी। दिलशेर ने देहली गेट थाने पहुंचकर पीड़ा बताई। इस सूचना ने पुलिस में खलबली मचा दी। मामला एसएसपी तक पहुंचा तब दोनों लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई। इस संबंध में देहलीगेट इंस्पेक्टर इंद्रेश पाल सिंह ने बताया कि पीड़ित की तहरीर के आधार पर पड़ोसी के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने
और मारपीट करने के तहत समीर व जाकिर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

आदत में शुमार
दिलशेर ने रामायण पाठ को अपनी आदत में शुमार कर लिया है। रोजाना नहाने के बाद रामायण पढऩा नहीं भूलते। कई चौपाइयां उन्हें याद हैं। वह गीता भी पढ़ते हैं। उन्होंने कहा कि 1979 से रामायण पाठ कर रहा हूं। इससे मेरे मन को सुकून मिलता है। इसी बात का कुछ लोग विरोध करते हैं। धमकाते हैं। हर वक्त जान को खतरा बना रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *