राजीव कुमार से शिलॉन्ग में पूछताछ करेगी सीबीआई, सुको की अगली सुनवाई 20 को

कोलकाता हाई कोर्ट राजीव कुमार की याचिका पर 7 फरवरी को करेगी सुनवाई, ममता बनर्जी का धरना 8 फरवरी तक चलेगा

  • ममता बनर्जी और सीबीआई की जंग में सुप्रीम कोर्ट ने ममता बनर्जी को झटका दे दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि राजीव कुमार को सीबीआई के सामने आना होगा.लेकिन सीबीआई  उनकी गिरफ्तार नहीं कर  सकती है.   हालांकि ममता बनर्जी ने इस फैसले को नैतिक जीत बताई है. उन्होंने कहा, ‘हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं.’ यह फैसला बिल्कुल सही है. उन्होंने कहा, मैं सिर्फ राजीव कुमार के लिए नहीं लड़ रही हूं. मैं देश की हर जनता के लिए लड़ रही हैं.इसके साथ ही कमिश्नर, पश्चिम बंगाल डीजीपी और मुख्य सचिव को अवमानना मामले में नोटिस जारी कर 18 फरवरी तक जवाब मांगा है. इसके बाद तय किया जाएगा कि तीनों को तलब किया जाए या नहीं.गौरतलब है कि रविवार को शाम को सारदा चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई की एक टीम पूछताछ के लिए कमिश्नर राजीव कुमार के आवास पर पहुंची थी लेकिन उसको कोलकाता पुलिस ने गेट पर ही रोक लिया और पूरी टीम को हिरासत में ले लिया. इसके बाद सीएम ममता बनर्जी धरने पर बैठ गईं. दूसरी ओर सीबीआई मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई.

    सीबीआई का हलफनामा 
    इससे पहले आज हुई सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से एक हलफनामा पेश किया गया जिसके मुताबिक सीबीआई चिटफंड घोटाले की जांच के लिए गठित  SIT चीफ राजीव कुमार की भूमिका की जांच कर रही है.  राजीव कुमार ने चिट फंड केस में निष्क्रियता और सेलेक्टिव कार्रवाई की है.  सीबीआई के पास पुलिस और चिट फंड कंपनियों के बीच गठजोड़ के सबूत हैं.  ये एसआईटी, सारदा, मेसर्स रोज वैली और टॉवर ग्रुप जैसी चुनिंदा कंपनियों को ढाल देती थी जिन्होंने पश्चिम बंगाल राज्य में सत्ता में पार्टी को बहुत बड़ा योगदान दिया है.  सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि इस संबंध में एजेंसी ने कुछ लेनदेन का रिकार्ड भी हासिल किया है.  ये रिकार्ड कोलकाता के सीबीआई दफ्तर में है जहां तीन फरवरी को कोलकता पुलिस ने घेराव किया था.  सीबीआई का दावा है कि एसआईटी ने उन कंपनियों को सरंक्षण दिया है जिन्होंने  टीएमसी को  ‘योगदान’ दिया.

    पश्चिम बंगाल सरकार की ओर पेश अभिषेक मनु सिंघवी की दलील
    वहीं पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि यह प्रताड़ित करने की कोशिश है. सीबीआई इतनी हड़बड़ी में क्यों है. 5 सालों से कोई एफआईआर नहीं हुई है. सबूतों से छेड़खानी के मामले में राजीव कुमार के खिलाफ एक भी शिकायत आईपीसी के तहत नहीं दर्ज की गई है.

  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर मेघालय के शिलॉन्ग में सीबीआई के सामने पेश होंगे. लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाएगा. सीबीआई ने बंगाल के बाहर पूछताछ करने की मंजूरी मांगी थी.

  • सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद ममता बनर्जी का कहना है कि राजीव कुमार ने कभी ऐसा नहीं कहा कि वह सीबीआई के सामने नहीं आएंगे.

  • सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि राजीव कुमार को सीबीआई के सामने आना होगा लेकिन राजीव कुमार को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है.ऐसे में उन्हें पेश होने में दिक्कत नहीं होनी चाहिए.वहीं सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में पश्चिम बंगाल सरकार, राज्य के डीजीपी और कमिश्नर राजीव कुमार से अवमानना के मामले में जवाब तलब किया है.

    बंगाल के बाहर शिलॉन्ग में होगी पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार की CBI के सामने पेशी सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस गोगोई ने कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को शारदा चिटफंड घोटाले के सिलसिले में पूछताछ के लिए सीबीआई के सामने पेश होने का आदेश दिया है

  • फैसले से नाराज कार्यकर्ताओं को शांत करा रही हैं ममता बनर्जी

  • चीफ जस्टिस ने पूछा, क्यों राजीव कुमार को सीबीआई के सामने नहीं आना चाहिए. सुप्रीम ने कहा, हमारे प्रस्तावित ऑर्डर में पश्चिम बंगाल की सरकार को क्या आपत्ति है.

  • ममता बनर्जी सरकार की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी पैरवी कर रहे हैं. सिंघवी का कहना है कि राजीव कुमार के खिलाफ FIR क्यों नहीं हुआ. अभी तक तीन समन जारी किए थे. सीबीआई की तरफ से कोई फॉरमल ऑर्डर नहीं आया था.

  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि हम ममता बनर्जी सरकार की बातें सुनेंगे. कोर्ट ने आगे कहा कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होना चाहिए, ताकि सीबीआई पूछताछ कर सके. सीबीआई ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट में वह और दस्तावेज जमा करना चाहते हैं लेकिन सीलबंद पैकेट में देंगे. केके वेणुगोपाल सीबीआई की पैरवी कर रहे हैं. सीबीआई की तरफ से वेणुगोपाल ने कहा कि जिस तरह की पेमेंट दी गई है वह संदेहास्पद है. उनका कहना है कि पेमेंट चेक से हुई हैं.सीबीआई ने इस मामले सुप्रीम कोर्ट में अतिरिक्त दस्तावेज सौंपे हैं.

  • कोलकाता हाईकोर्ट इस मामले की सुनवाई गुरुवार 7 फरवरी को करोगी. पुलिस की शिकायत है कि जब कोलकाता हाई कोर्ट ने 13 फरवरी तक किसी भी तरह की गिरफ्तारी या हिरासत में लेने पर पाबंदी थी तो फिर कैसे सीबीआई रविवार को पुलिस कमिश्नर के घर पहुंच गई. कोलकाता हाईकोर्ट इस मामले की सुनवाई गुरुवार 7 फरवरी को करोगी. पुलिस की शिकायत है कि जब कोलकाता हाई कोर्ट ने 13 फरवरी तक किसी भी तरह की गिरफ्तारी या हिरासत में लेने पर पाबंदी थी तो फिर कैसे सीबीआई रविवार को पुलिस कमिश्नर के घर पहुंच गई.Image result for supreme court

  • पश्चिम बंगाल: अभिनेत्री और टीएमसी की इंद्राणी हल्धर सीएम ममता बनर्जी से मिलीं. ममता 3 फरवरी से ‘संविधान बचाओ’ धरना दे रही हैं.

    पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर भड़के अरुण जेटली- उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि कोलकाता पुलिस कमिश्नर से पूछताछ के लिए गई सीबीआई टीम को रोकने में ममता बनर्जी ने जो जल्दबाजी में प्रतिक्रिया दी, उससे कई मुद्दे जनता के बीच चर्चा के लिए आ गए हैं. उन्होंने कहा है कि सबसे महत्वपूर्ण यह है कि एक क्लेपटोक्रेट क्लब (एक ऐसा शासक जो अपनी ताकत के इस्तेमाल से देश के संसाधनों का दोहन करता है) भारत पर शासन करना चाहता है.

    कोलकाता की ताजा तस्वीरें: पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी मेट्रो चैनल के नजदीक धरना दे रही हैं. स्टेज को रात में पर्दों से ढंक दिया गया था. कोलकाता पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार पर सीबीआई की कार्रवाई के खिलाफ ममता बनर्जी 3 फरवरी की रात से धरने पर बैठी हैं. ममता बनर्जी का धरना तीसरे दिन भी जारी रहा. ममता बनर्जी का कहना है कि वह 8 फरवरी तक धरना जारी रखेंगी. आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और डीएमके नेता कनिमोझी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री से मुलाकात की और उनके साथ ‘सेव द कॉन्स्टिट्यूशन’ मंच साझा किया.आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और डीएमके नेता कनिमोझी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलने के लिए कोलकाता एयरपोर्ट पहुंच गई हैं.

    सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोलकाता के पुलिस कमिश्नर मेघालय के शिलॉन्ग में सीबीआई के सामने पेश होंगे. लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया जाएगा. सीबीआई ने बंगाल के बाहर पूछताछ करने की मंजूरी मांगी थी. 

    अहम बातें

    न्‍यायालय ने कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार को आदेश दिया कि वह सीबीआई के सामने हाजिर हों और शारदा चिटफंड घोटाले की जांच में पूरा सहयोग करें.

    कोलकाता पुलिस चीफ की गिरफ्तारी समेत कोई दंडात्मक कदम नहीं उठाया जाएगा: SC | अहम बातें

     सीबीआई बनाम ममता बनर्जी मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को शारदा चिटफंड घोटाला मामले में जांच एजेंसी की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कई अहम आदेश दिए. न्‍यायालय ने कोलकाता पुलिस कमिश्‍नर राजीव कुमार को आदेश दिया कि वह सीबीआई के सामने हाजिर हों और शारदा चिटफंड घोटाले की जांच में पूरा सहयोग करें. इसके साथ ही मामले की आगली सुनवाई 20 फरवरी को तय की गई है.

    जानें, सुप्रीम कोर्ट में चली सुनवाई के अहम प्‍वाइंट्स…

    -कोलकाता पुलिस ने छेड़छाड़ किए हुए कॉल डेटा रिकॉर्ड मुहैया कराए : अटॉर्नी जनरल

    -चिटफंड घोटाले की जांच के लिए पश्चिम बंगाल सरकार द्वारा गठित एसआईटी का नेतृत्व कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार कर रहे थे : अटॉर्नी जनरल

    -कोलकाता पुलिस प्रमुख से जांच के लिए पेश होने को कह सकते हैं और सीबीआई की अवमानना याचिका पर नोटिस जारी किया जाएगा : न्यायालय

    -कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता ए एम सिंघवी ने आरोप लगाया कि सीबीआई ने अपना नंबर बढ़ाने के लिए यह कदम उठाया.

    सुप्रीम कोर्ट ने राजीव कुमार को सीबीआई के सामने पेश होने को कहा, ममता बोलीं, 'हमने कब मना किया'-न्यायालय ने कोलकाता पुलिस आयुक्त राजीव कुमार को सीबीआई के समक्ष स्वयं को उपलब्ध कराने और शारदा घोटाला जांच में पूरा सहयोग करने का आदेश दिया.

    -कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार की गिरफ्तारी समेत कोई दंडात्मक कदम नहीं उठाया जाएगा : उच्‍चतम न्यायालय

    -न्यायालय ने पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव, डीजीपी, कोलकाता पुलिस आयुक्त को सीबीआई द्वारा उनके खिलाफ दायर अवमानना याचिकाओं पर जवाब दायर करने को कहा.

    -उच्चतम न्यायालय पश्चिम बंगाल के प्रमुख सचिव, डीजीपी, कोलकाता पुलिस प्रमुख से 20 फरवरी को अदालत में पेश होने को कह सकता है.

    -उच्चतम न्यायालय ने अगली सुनवाई के लिए 20 फरवरी की तारीख तय की.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *