मोदी ने निजी बचत से कुंभ सफाईकर्मियों को दिए 21 लाख

मोदी ने अपने निजी बचत से 21 लाख रुपए की राशि कुंभ मेला के सफाईकर्मियों के कल्याण कोष में दान में दी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी निजी बचत से 21 लाख रुपए कुंभ मेले से जुड़े सफाईकर्मियों के कल्याण संबंधी कोष में बुधवार को दान दिए .प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से किए गए एक ट्वीट में कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने निजी बचत से 21 लाख रुपए की राशि कुंभ मेला के सफाईकर्मियों के कल्याण कोष में दान में दी. इसमें कहा गया है कि यह प्रधानमंत्री मोदी की ओर से उठाए जाने वाले ऐसे कदमों की श्रृंखला में ताजा कदम है.

PMO India
@PMOIndia

Prime Minister Narendra Modi donated Rs. 21 lakh from his personal savings to the corpus fund for the welfare of sanitation workers of Kumbh Mela.
This is just the latest in the series of such steps taken by PM Modi.

पीएमओ ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि हाल ही में दक्षिण कोरिया में सियोल शांति सम्मान प्राप्त करने के तत्काल बाद उन्होंने इसमें मिली 1.3 करोड़ रुपए की राशि नमामि गंगे मद में देने की घोषणा की थी .

इसमें कहा गया है कि हाल ही में नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान मिले उपहारों की नीलामी से एकत्र 3.40 करोड़ रुपए भी नमामि गंगे योजना के लिए दान कर दिया. इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2015 तक उन्हें मिले तोहफों की नीलामी से मिले 8.33 करोड़ रुपए भी नमामि गंगे मिशन को दान में दिए थे .गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यकाल पूरा करने के बाद नरेंद्र मोदी ने अपनी निजी बचत से 21 लाख रुपए गुजरात सरकार के कर्मचारियों की बेटियों के लिए दिए थे.

बहरहाल, उत्तरप्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुंभ मेले को सफल आयोजन बनाने के लिये मंगलवार को मंत्रियों, अधिकारियों और सफाई कर्मियों को बधाई दी.

कुंभ के सफल आयोजन को मुख्य मंत्री योगी का कर्मचारियों को बोनस देने का  ऐलान

प्रयागराज में कुंभ के समापन के बाद  मुख्य मंत्री योगी ने ऐलान किया है कि कुंभ को सफल बनाने के लिए जिन कर्मचारियों ने बेहतर काम किया है, उन्हें बोनस के रूप में एक महीने की सैलरी दी जाएगी।

हाइलाइट्स

  • कुंभ के समापन के मौके पर सीएम योगी ने की अधिकारियों, कर्मचारियों की तारीफ
  • मुख्य मंत्री योगी ने कहा कि कर्मचारियों को एक महीने की सैलरी बोनस के तौर पर मिलेगी
  • मुख्य मंत्री योगी ने यह भी कहा कि इस बार के कुंभ में कई ऐतिहासिक कीर्तिमान बने हैं
प्रयागराज में 15 जनवरी से 4 मार्च के बीच हुए कुंभ मेले का मंगलवार को समापन हुआ। यूपी के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने कुंभ के सफल आयोजन पर अधिकारियों और कर्मचारियों की पीठ तो थपथपाई ही, उन्हें एक महीने का वेतन बोनस के रूप में देने और विशेष मेडल के साथ प्रमाण पत्र देने की बात भी कही है। मुख्य मंत्री योगी ने कहा कहा कि प्रयागराज कुंभ ने अपने आयोजन के दौरान कई ऐसे कीर्तिमान स्थापित किए, जो आने वाले कुंभ ही नहीं कई अन्य आयोजनों के लिए उदाहरण साबित होंगे।
समापन समारोह में मुख्य अतिथि बोलते हुए मुख्य मंत्री ने कहा, ‘2013 के कुंभ में मॉरिशस के प्रधानमंत्री संगम स्नान के लिए आए थे लेकिन गंदगी और बदबू देखकर वापस लौट गए थे। जबकि इस बार कुंभ में बिना किसी कार्यक्रम के वह प्रयागराज पहुंचे और उन्होंने 400 डेलिगेट्स के साथ संगम में स्नान भी किया। यह एक बड़े बदलाव का संकेत है।  उत्तर प्रदेश अब बदल रहा है। कुंभ के दौरान 24 करोड़ लोग प्रयागराज पहुंचे। यह विश्व के सिर्फ 4 देशों की जनसंख्या से कम लोगों की संख्या है। जिस उत्तर प्रदेश का नंबर पर्यटन में 17वें स्थान पर था, कुंभ के आयोजन के बाद वह पहले स्थान पर पहुंच गया है। कुंभ और अप्रवासी भारतीय सम्मेलन के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस की छवि भी बदली है। यह प्रदेश के उज्जवल भविष्य का संकेत है।’
मुख्य मंत्री योगी ने जमकर की अपनी सरकार की तारीफ
योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में जिस तरह भारत एक महाशक्ति के रूप में उभर रहा है, उसकी छवि भी कुंभ के दौरान देखने को मिली। जो भी कुंभ में आया, उसने यहां के इंतजामों की तारीफ की। पहले प्रवासी भारतीय सम्मेलनों में 500 से अधिक लोग नहीं आते थे। जबकि इस बार सात हजार के करीब लोग प्रवासी भारतीय सम्मेलन में शामिल होने पहुंचे और 3200 ने कुंभ में भी स्नान किया। कुंभ ने स्वच्छता को लेकर लोगों की सोच बदली और यही कारण था कि प्रधानमंत्री खुद समापन से पहले यहां पहुंचे। उन्होंने न सिर्फ संगम में स्नान किया बल्कि स्वच्छता में सहायक बने स्वच्छता कर्मियों के पैर भी धुले।’
मुख्य मंत्री ने कहा, ‘वर्षों पहले दूसरे देशों में जाकर बसे लोग श्रद्धा भाव से ही भारत आते हैं और यदि उन्हें उनके अनुरूप चीजें नहीं मिलती तो उनका दिल टूटता है। प्रयागराज कुंभ ने न सिर्फ ऐसे लोगों को दोबारा जोड़ा बल्कि देश के शीर्ष पदों पर बैठे लोग भी इसकी दिव्यता और भव्यता देखने पहुंचे। कुंभ ने सकारात्मकता की शक्ति का उदाहरण भी प्रस्तुत किया है। इस महासमागम में यह देखने को मिला कि सकारात्मक सोच से कितना बदलाव लाया जा सकता है। पीएम चाहते थे कि दिव्य और भव्य कुंभ आयोजित हो लेकिन इसके साथ ही हमने स्वच्छ और सुरक्षित कुंभ भी लोगों को दिया। इसके लिए कुंभ के आयोजन से जुड़े सभी अधिकारी और कर्मचारी बधाई के पात्र हैं।’

साल में 11 महीने हो सकेंगे अक्षयवट-सरस्वती कूप के दर्शन
प्रयागराज कुंभ के समापन समारोह के दौरान मुख्य मंत्री ने घोषणा की कि इलाहाबाद के किले में स्थित अक्षयवट और सरस्वती कूप के दर्शन साल के 11 महीने हो सकेंगे। मुख्य मंत्री योगी ने कहा, ‘लगभग 450 साल बाद अक्षयवट और सरस्वती कूप आम लोगों के लिए खोला गया, यह एक बड़ी उपलब्धि है। पहले इसे मेले के दौरान ही खुला रखने का निर्णय लिया गया था लेकिन अब इसे साल के 11 महीने आम श्रद्धालुओं के लिए खोलने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए सैद्धांतिक स्वीकृति भी मिल चुकी है। प्रयागराज मेला प्राधिकरण अक्षयवट और सरस्वती कूप की देखरेख करेगा और राज्य सरकार इसमें मदद करेगी। साल में एक महीने के लिए सुरक्षा व अन्य वजहों से यह बंद रहेगा।’

  • सीएम योगी ने जमकर की अपनी सरकार की तारीफ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *