सहारनपुर, । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर मंडल की समीक्षा के दौरान अधिकारियों से एक-एक योजना की प्रगति रिपोर्ट तलब की। दोपहर से शुरू हुए दौरे के पहले सत्र में योगी ने जिला अस्पताल और गोशाला का निरीक्षण किया। दूसरे सत्र में तीन बजे से देर रात तक विभागीय व पार्टी संगठन की समीक्षा की। कानून व्यवस्था की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री हाल ही सुर्खियों में चल रहे मेरठ पलायन को लेकर खासे नाराज दिखाई दिए। बोले कि भय की वजह से किसी का भी पलायन नहीं होना चाहिए, चाहे वह हिंदू हो या मुसलमान। उन्होंने शामली के कैराना का जिक्र किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बोले- भय में किसी का पलायन हुआ तो नहीं होगा बर्दाश्त

सहारनपुर पहुंचे सीएम योगी
सहारनपुर पहुंचे मुख्यमंत्री  योगी
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था की समीक्षा में स्पष्ट निर्देश दिया कि खौफ में किसी का पलायन नहीं होना चाहिए, यदि कोई कामकाज के सिलसिले में कहीं जाता है, तो बात अलग है। बेटियों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाए और पूर्व में हुई संगीन वारदातों में आरोपियों को सजा दिलाने को मजबूत पैरवी करें। एक जुलाई से इसको लेकर विशेष अभियान चलाया जाए।
मंडलीय समीक्षा बैठक के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को सहारनपुर पहुंचे। जिला अस्पताल में निरीक्षण कर वहां की व्यवस्था देख, मरीजों और तीमारदारों से बातचीत कर, मां शाकंभरी कान्हा उपवन गोशाला का निरीक्षण कर सर्किट हाउस में पहुंचे। पहले तो उन्होंने जनप्रतिनिधियों और भाजपा नेताओं के साथ बैठक की, फिर गंगोह विधानसभा क्षेत्र के उपचुनाव को ले मंथन किया।
इसके बाद कानून व्यवस्था को लेकर बैठक हुई, जिसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सहारनपुर मंडल के तीनों जनपदों में पहले के मुकाबले कानून व्यवस्था में सुधार पर संतोष जताया और कहा कि अपराध पहले से कम हुए हैं, लेकिन अभी और सुधार की जरूरत है।
वहीं, मेरठ के पलायन प्रकरण को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि  भय में किसी भी परिवार का पलायन नहीं होना चाहिए, चाहे वह परिवार हिंदू हो या मुसलमान। नौकरी पेशा के लिए यदि कोई परिवार बाहर जाता है, तो वह बात अलग है।
इसके अलावा उन्होंने बालिका सुरक्षा को लेकर महत्वपूर्ण निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि बालिकाओं के साथ होने वाले अपराध पर प्रभावी अंकुश लगाया जाए। एक जुलाई से विशेष अभियान चलाएं। उच्चाधिकारी खुद छात्र -छात्राओं के बीच पहुंचकर सुरक्षा को लेकर आश्वस्त करें। पूर्व में जो गंभीर अपराध हुए हैं, उनमें आरोपियों को सजा दिलाने के लिए मजबूत पैरवी की जाए।

कड़े तेवर: योगी बोले, बच्चियों से अपराध पर नपेंगे अफसर

offer  chief minister  angry

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कानून व्यवस्था और विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान नौकरशाही के प्रति खासे तल्ख नजर आए। उन्होंने अफसरों को सख्त हिदायत दी कि यदि नाबालिग बच्चियों और महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध नहीं थमे तो कार्रवाई तय है।

उन्होंने कहा कि एसएसपी हर दिन एक थाने का निरीक्षण करें। फरियादियों के पुलिस सलीके से पेश आए। विकास कार्यों में कोताही बरतने वाले अफसरों को भी उन्होंने चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में इन दिनों महिलाओं के प्रति होने वाले अपराध में वृद्धि हुई है। महिला अपराध गंभीर मुद्दा है। महिला अपराध को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। महिला अपराध खासकर पोस्को एक्ट के अपराध पर पूरी तरह रोक लगाई जाए। छात्राओं को भी सुरक्षा का आभास हो। इसके लिए एंटी रोमियो स्क्वॉड को पूरी तरह से सक्रिय किया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस व प्रशासनिक अफसर जनप्रतिनिधियों एवं जनता से सीधे संवाद स्थापित करें। इससे बड़े से बड़े अपराध को रोका जा सकता है। पुलिस अधिकारी पैदल गश्त करें जिससे कानून व्यवस्था दुरुस्त हो। थानावार टॉप-10 अपराधियों की सूची तैयार कर अपराधियों के विरुद्ध प्रभावी कार्रवाई की जाए। पुलिस फ्रंटफुट पर रहकर अपराधियों पर नकेल कसे।

कामचोरों की रिपोर्ट देगी समिति 
कामचोरों की रिपोर्ट देगी समिति पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक में मुख्यमंत्री ने कहा कि जो अफसर काम नहीं करते हैं, उनके बार में रिपोर्ट देने के लिए चार सदस्यीय टीम गठित की जा रही है। कमेटी की रिपोर्ट पर ही ऐसे अफसरों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।’

इस दौरान अपर पुलिस महानिदेशक मेरठ जोन प्रशांत कुमार, आईजी सहारनपुर शरद सचान, आईजी मेरठ रामकुमार, एसएसपी सहारनपुर दिनेश कुमार, एसएसपी मुजफ्फरनगर सुधीर कुमार सिंह, एसपी शामली अजय कुमार सहित अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सवा एक बजे सहारनपुर पहुंचे। यहां से मुख्यमंत्री का काफिला सीधे जिला अस्पताल पहुंचा। मुख्यमंत्री ने इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों का हाल जाना। बच्चा वार्ड में पांच-छह बच्चों से बातचीत की। अभिभावकों को सलाह दी कि बच्चों को पानी उबालकर पिलाएं। दूषित जल ही बीमारी की जड़ है। इससे इतर कार्यकर्ताओं संग बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने लोकसभा चुनाव में भाजपा को पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मिली हार पर मलाल जताते हुए पार्टी नेताओं को जनता से जुड़कर कार्य करने की नसीहत दी।

कान्हा उपवन में गायों को खिलाया चारा

करीब 30 मिनट तक अस्पताल में रुकने के बाद मुख्यमंत्री का काफिला नवादा रोड स्थित कान्हा उपवन की तरफ चल पड़ा। मुख्यमंत्री योगी ने गोशाला में कई गायों को अपने हाथ से गुड़ और चारा खिलाया।

महिला अपराधों में करें सख्त पैरवी

मुख्यमंत्री ने महिला संबंधी अपराधों पर प्रभावी कार्रवाई करने को कहा। पॉक्सो एक्ट के मामलों में जेल जाने वाले आरोपितों को सख्त सजा मिले, इसके लिए कोर्ट में सख्त पैरवी की जाए। एक से 31 जुलाई तक महिला सुरक्षा अभियान चलाने के लिए एंटी रोमियो स्क्वायड को सतर्क करने के निर्देश दिए।

अवैध बूचड़खानों और खनन बंद कराएं

मुख्यमंत्री ने अवैध बूचड़खानों के खिलाफ भी अभियान चलाकर इन्हें बंद करवाने को कहा। भू-माफिया, जहरीली शराब और मादक पदार्थ की बिक्री पर भी पाबंदी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने अवैध खनन में संलिप्त लोगों की संपत्ति जब्त करने को कहा। समीक्षा बैठक के बाद योगी ने यहीं रात्रि विश्राम किया।

तीन तलाक पीड़िताओं को पेंशन की मांग

अधिवक्ता एवं राष्ट्रवादी मुस्लिम महिला सिंह की राष्ट्रीय अध्यक्ष फरहा फैज ने मुख्यमंत्री को अनुरोध पत्र सौंप तीन तलाक पीड़िताओं के लिए भरण पोषण की मांग की।