मुस्लिम ध्रुवीकरण विडियोः कमलनाथ का विभीषण कौन ?

मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के एक के बाद एक कथित विडियो ने राज्य की सियासत को गरमा दिया है। सवाल यह है कि जिस कमरे के अंदर बिना कमलनाथ या उनके सिपहसालारों की अनुमति के बिना प्रवेश की इजाजत नहीं है, उस कमरे से ये विडियो कैसे लीक हुए।

 हाइलाइट्स
  • कांग्रेस नेता कमलनाथ के कथित लीक विडियो चर्चा का विषय बने हुए हैं
  • एक विडियो में कमलनाथ 90 फीसदी मुस्लिम वोटों पर दे रहे हैं जोर
  • सवाल उठता है कि कांग्रेस के ‘वॉर रूम’ से आखिर ऐसे विडियो लीक कैसे हुए
  • मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को 230 सीटों पर विधानसभा चुनाव होने वाले हैं
“धर्म की राजनीति में ये बौखला गए हैं। ये विडियो और वॉट्सऐप की राजनीति पर उतर आए हैं। मुझे इसकी चिंता नहीं है, क्योंकि जनता इन सब बातों से प्रभावित होने वाली नहीं है। सच्चाई सबके सामने है।”-कमलनाथ का बीजेपी पर पलटवारभोपाल :मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में मतदान की तारीख नजदीक आने के साथ ही सियासत पूरे उफान पर है। आरोपों और प्रत्यारोपों के बीच इन दिनों कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के कथित लीक विडियो चर्चा का विषय बने हुए हैं। ताजा विडियो मुस्लिमों के ध्रुवीकरण की कोशिश से जुड़ा है। मतदान से हफ्तेभर पहले सोशल मीडिया में तैर रहे इन विडियोज से कांग्रेस बैकफुट पर है, तो वहीं बीजेपी को नया मुद्दा मिल गया है। ये विडियो कमलनाथ के कमरे के बताए जा रहे हैं। बता दें कि कांग्रेस का यह वह ‘वॉर रूम’ है, जहां कोई पार्टी के सिपहसालारों की इजाजत के बिना घुस नहीं सकता। ऐसे में सवाल है कि आखिर कमलनाथ का ‘विभीषण’ कौन है, जो विडियो बना-बनाकर सार्वजनिक करने में लगा है।
मध्य प्रदेश के मालवा-निमाड़ अंचल को छोड़ दिया जाए, तो अन्य किसी भी हिस्से में ध्रुवीकरण की सियासत नहीं रही है। यही वजह थी कि चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी मंदिर-मंदिर घूमकर बस हिंदू छवि गढ़ने की कोशिश में जुटे दिखे। लेकिन कमलनाथ के कथित विडियो ने राहुल की कोशिशों पर पानी फेरने का काम शुरू कर दिया है।

क्या है कमलनाथ के कथित विडियो में
मुस्लिमों से 90% वोट की अपीलः कमनाथ के दोनों विडियो एक ही कार्यक्रम के हैं, जिन्हें अलग-अलग जारी किया गया। ताजे विडियो में कमलनाथ मुस्लिम समाज के प्रतिनिधियों से मुलाकात करते हुए कह रहे हैं कि मुस्लिम बहुल पोलिंग बूथों पर 90 प्रतिशत मतदान होना चाहिए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो कांग्रेस का नुकसान होगा।

‘… हम चुनाव बाद RSS से निपट लेंगे’: कमलनाथ के विडियो का यह हिस्सा पहले सामने आया था। इसमें वह कहते दिख रहे हैं, आरएसएस के कार्यकर्ता आकर केवल दो लाइन में कहते हैं अगर हिंदू को वोट देना है, तो हिंदू शेर मोदी को वोट दो और मुसलमान को वोट देना है तो कांग्रेस को वोट दो। केवल दो लाइन और कोई पाठ पढ़ाने नहीं जाते हैं। ये इनकी रणनीति है, आपको बड़ा सतर्क रहना पड़ेगा। हम निपट लेंगे इनसे बाद में। पर मतदान के दिन तक आपको सबकुछ सहना पड़ेगा।’

किसने भेदा कमलनाथ का भीतरी कमरा?
यह दोनों विडियो कथित तौर पर उस कमरे के हैं, जहां कमलनाथ बैठते हैं। इस कमरे तक पहुंचने के लिए तीन मंजिल की सीढ़ियां तो पार करनी ही होती हैं, साथ में कई नेताओं के सामने से गुजरना होता है। इतना ही नहीं अंदर तभी जा सकते हैं जब या तो कमलनाथ की अनुमति हो या उनके सिपहसालार आप पर मेहरबान हो जाएं। कमलनाथ भी मानते हैं कि उनसे सीधे मुलाकात न होने की कुछ वजहें हैं। उनकी ओर से इसके लिए एक व्यवस्था बनाई गई है, और उसी के तहत पार्टी के लोग उनसे मुलाकात करते हैं। अब सवाल यह उठ रहा है कि कमलनाथ से मुलाकात की जब चौकस व्यवस्था है तो वे कौन लोग हैं, जिन्होंने कथित विडियो सार्वजनिक कर दिए हैं।

बीजेपी ने कहा, तुष्टीकरण की राजनीति
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने कमलनाथ के विडियो पर हमले तेज कर दिए हैं। बीजेपी प्रवक्ता डॉ. संबित पात्रा ने इस विडियो को कांग्रेस की तुष्टीकरण की नीति का नमूना बताया है। वहीं उपाध्यक्ष प्रभात झा ने चुनाव आयोग से शिकायत कर कमलनाथ पर राज्य की फिजा बिगाड़ने का आरोप लगाया है। 

क्या विडियो में की गई है छेड़छाड़?
कांग्रेस के मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने इस विडियो को झुठलाया नहीं है। उन्होंने इसे गलत तरीके से पेश करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, ‘प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश की महिलाओं से मुलाकात करते वक्त यह बात कही थी कि दृढ़ता से आपको 90 और 100 प्रतिशत वोटिंग करना चाहिए, ताकि महिला अधिकारों का मार्ग प्रशस्त किया जा सके, अन्यथा हम सबको इससे नुकसान होगा।’
उन्होंने कहा, ‘इसी प्रकार किसानों का समूह जब कमलनाथ से भेंट करने आया था, तब भी उन्होंने कहा था कि फसलों के दाम मांगने पर जो सरकार किसानों को मौत के घाट उतार दे, उसे एक क्षण भी रहने का अधिकार नहीं है। आप अधिक से अधिक संख्या में अपना वोट करें, ताकि किसानों का अधिकार सुरक्षित किया जा सके।’ इसी प्रकार विभिन्न समाज के लोगों से भेंट करके कमलनाथ ने चुनाव आयोग के निर्देशों का हवाला देते हुए यह गुहार लगाई कि अधिक से अधिक 90-100 प्रतिशत मतदान करना चाहिए।

‘5 केस हों पर जीतने वाला कैंडिडेट हो…’

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले राजनीतिक दलों का एक-दूसरे पर हमला जारी है। कोई किसी के वादे पर सवाल उठा रहा है तो कोई विडियो के जरिए कठघरे में खड़ा कर खुद को जनता का हिमायती बताने में जुटा है। एमपी कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ का एक कथित विडियो सोशल मीडिया पर इन दिनों जमकर वायरल हो रहा है, जिसके जरिए बीजेपी मुद्दे को भुनाने में जुट गई है।

हाइलाइट्स
  • मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में वायरल विडियो का खेल, बीजेपी ने ट्विटर पर किया शेयर।
  • विडियो में नजर आ रहे हैं मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ। बोले- केस से मतलब नहीं, जीत अहम।
  • बीजेपी ने अपने ऑफिशल ट्विटर अकाउंट पर किया शेयर, लिखा- कांग्रेस का हाथ, अपराध के साथ।
  • विडियो शेयर करते हुए बीजेपी राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी कांग्रेस पर साधा निशाना।

Embedded video

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही एक-दूसरे पर हमला करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ रहे हैं। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक विडियो वायरल हो रहा है। इस विडियो में मध्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ कहते हुए नजर आ रहे हैं, ‘कोई कहता है इसके ऊपर तो चार केस हैं। मैं तो कहता हूं होएं बड़े पांच। मैं तो बड़े स्पष्ट रूप से कहता हूं कि मुझे तो जीतने वाला चाहिए।’ इस विडियो को भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के ऑफिशल ट्विटर हैंडल के साथ-साथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी शेयर किया है।

  • बीजेपी के ऑफिशल ट्विटर से विडियो को शेयर करते हुए लिखा गया है, ‘कांग्रेस का हाथ, अपराध का साथ।’ यही नहीं, इसमें हैशटैग #CriminalKamalnath लिखा गया है।

सीएम शिवराज ने भी कसा तंज
मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने अपने ऑफिशल ट्विटर अकाउंट से विडियो शेयर करते हुए लिखा है, ‘अगर यही कांग्रेस की राजनीति है तो….बाकी जनता खुद समझदार है, वही फैसला करेगी कि 28 नवंबर को मतदान कर किसे विजयी बनाएगी।’

संबित प्रवक्ता ने कहा- मध्य प्रदेश में कांग्रेस बेचैन
बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस विडियो को ट्विटर पर पोस्ट करते हुए लिखा है, ‘कोई कहता है चार केस हैं, कोई कहता है पांच केस हैं…होएं कितने भी केस हमें तो बस जीतनेवाला चाहिए।….यह कांग्रेस की मूलभूत विचारधारा है…कि अपराधियों को राजनीति में बढ़ावा मिले। यह मध्य प्रदेश में कांग्रेस की बेचैनी को साफ दर्शाता है।’  मध्य प्रदेश की कुल 230 विधानसभा सीटों में 28 नवंबर को मतदान होना है, जिसके परिणाम 11 दिसंबर को आएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *