मुजफ्फरनगर, । खतौली मेन रोड पर कीर्ति स्तंभ के पास स्थित हनुमान मंदिर में गुरुवार सुबह खुर्जा निवासी एक व्यक्ति ने भगवान हनुमान की मूर्ति पर लगे कांच के बॉक्स का शीशा तोड़कर सामाजिक वातावरण तथा कानून व्यवस्था में जहर घोलने का प्रयास किया। पुजारी व मंदिर समिति के सदस्य ने उसे पकड़ने का प्रयास किया तो उसने हाथापाई की और धार्मिक भावना भड़काने को नारे लगाए। लोगों ने उसे दबोचकर पुलिस को सौंप दिया। बाद में हिदू संगठनों के लोगों ने थाने का घेराव कर नारेबाजी की। उसके विरुद्ध सख्त कार्रवाई की मांग की। पुलिस ने समझा-बुझाकर शांत किया।

हनुमान मंदिर में सुबह पुजारी नितिन पूजा पाठ एवं प्रबंध समिति के सदस्य मनोज सैनी सफाई कर रहे थे। इस बीच संप्रदाय विशेष का एक व्यक्ति मंदिर में घुसा। उसने हनुमान जी की मूर्ति पर लगे कांच के बॉक्स के शीशे को मुक्का मारकर तोड़ दिया। उसे पकड़ने का प्रयास किया तो उसने हाथापाई की और धार्मिक भावनाएं भड़काने के नारे लगाए। किसी तरह लोगों ने उसे पकड़ा। घटना से मंदिर पर श्रद्धालुओं, हिदू संगठनों के कार्यकर्ताओं की भीड़ लग गई। पुलिस में हड़कंप मच गया। इंस्पेक्टर हरशरण शर्मा मंदिर में पहुंचे और आरोपित को हिरासत में लिया। हिदू संगठनों के कार्यकर्ताओं ने थाने का घेराव कर नारेबाजी की और आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। इंस्पेक्टर ने आरोपित के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई का भरोसा देकर शांत किया। पूछताछ में आरोपित ने अपना नाम मूसा (पुत्र इस्लाम निवासी मोहल्ला राधा-कृष्ण कस्बा खुर्जा जिला बुलंदशहर) बताया। मनोज सैनी ने मंदिर में तोड़फोड़ की लिखित शिकायत  दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर उसका चालान कर दिया। पुलिस क्षेत्राधिकारी आशीष प्रताप सिंह ने घटना की जानकारी ली।सर्कल ऑफिसर (सीओ) आशीष प्रताप ने कहा, “आरोपी शख्स ने भगवान हनुमान की प्रतिमा पर पत्थर फेंके. हालांकि, उसका निशाना चूक गया और इसके बजाय कांच टूट गया. आरोपी ने मंदिर में मौजूद लोगों को भी घूंसा मारा और उनके खिलाफ कई आपत्तिजनक टिप्पणियां की.”उस शख्स को मंदिर के पुजारी ने दबोच लिया और पुलिस के हवाले कर दिया.

पुलिस क्षेत्राधिकारी ने कहा, “उसने धार्मिक भावनाओं को आहत करने और मूर्ति को क्षतिग्रस्त करने की कोशिश की. उसे गिरफ्तार कर गंभीर आरोपों में जेल भेज दिया गया है. इस तरह की हरकत बर्दाश्त नहीं की जाएगी. मामले की जांच जारी है.

“घेराव करने वालों में प्रवीण ठकराल, विनोद गुंबर, मदन छाबड़ा, मोनू मंगवानी, गुरुदत्त अरोरा, अमित गगनेजा, श्याम सुंदर आदि शामिल रहे।यूपी के मंदिर में तोड़फोड़ की इस घटना से कुछ ही दिन पहले पुरानी दिल्ली के हौज काजी इलाके में पार्किं ग को लेकर दो समूहों में झड़प हुई थी और एक दुर्गा मंदिर में तोड़फोड़ की गई थी.