मंत्रिमंडल/मोदी-शाह बैठक में नयों पर चर्चा, प्रधानमंत्री के साथ 65 ले सकते हैं शपथ

 नरेंद्र मोदी और अमित शाह। -फाइल

  • सहयोगी दल शिवसेना और जेडीयू के दो-दो नेता भी मंत्रिमंडल में हो सकते हैं
  • नरेंद्र मोदी 30 मई को दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बीच नई सरकार के गठन को लेकर मंगलवार शाम को 5 घंटे बैठक हुई। भाजपा सूत्रों के मुताबिक, 30 मई को प्रधानमंत्री मोदी के साथ 65 मंत्री शपथ ले सकते हैं। इनमें 40% नए चेहरे शामिल होंगे। बैठक में अमित शाह के अलावा अकाली दल से हरसिमरत कौर और लोजपा के रामविलास पासवान समेत युवा नेताओं के नामों पर चर्चा हुई। लोकसभा चुनाव में भाजपा ने 542 में से 303 सीटें जीतकर बहुमत के साथ दोबारा सरकार बनाई। एनडीए को कुल 352 सीटें मिली थीं।

सूत्रों के मुताबिक, नए मंत्रिमंडल में कई दिग्गज और मौजूदा मंत्रियों को दोबारा मौका न देकर नए चेहरों को तरजीह दी जाएगी। हालांकि, लोजपा से रामविलास पासवान और भाजपा के कुछ वरिष्ठ नेता मंत्री बने रह सकते हैं। सहयोगी दलों में शिवसेना और जेडीयू के दो-दो मंत्री बनाए जा सकते हैं। इनमें एक कैबिनेट और एक राज्य मंत्री दर्जा होने की संभावना है।

राजनाथ, गडकरी और सीतारमण को फिर मौका मिल सकता है
इस बार देश को नया वित्त, रक्षा और विदेश मंत्री मिल सकता है। भाजपा अध्यक्ष शाह को मोदी सरकार में बड़ा पद मिल सकता है। वरिष्ठ नेताओं में राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, निर्मला सीतारमण, रवि शंकर प्रसाद, पीयूष गोयल, नरेंद्र सिंह तोमर और प्रकाश जावडेकर को फिर कैबिनेट में जगह मिल सकती हैं। सूत्रों की मानें तो अरुण जेटली पहले ही स्वास्थ्य कारणों के चलते मंत्री पद नहीं लेना चाहते हैं।

मंत्रिमंडल में 25% महिलाएं और 40% विशेषज्ञ हो सकते हैं
संसद के सेंट्रल हॉल में मोदी ने अपने भाषण में यह स्पष्ट कर दिया कि मंत्रियों के नामों के बारे में अटकलें लगाना फिजूल है। नई कैबिनेट का गठन तय मानकों पर ही होगा। इसमें 25% महिलाएं और 40% विशेषज्ञ हो सकते हैं। मोदी मंत्रिमंडल में पहले जिन मानकों को शामिल करते रहे हैं, उनमें वे प्रोफेशनलिज्म, महिला प्रतिनिधित्व, जातीय गणित, शहरी-ग्रामीण तालमेल, विशेषज्ञता, एससी-एसटी प्रतिनिधित्व और घटक दलों की सीटें, युवा एवं वरिष्ठता को प्रमुख तौर ध्यान रखते हैं।

नरेंद्र मोदी-अमित शाह
नरेंद्र मोदी-अमित शाह – फोटो : PTI

बता दें कि पीएम मोदी 30 मई को शाम 7 बजे शपथ ग्रहण करेंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद उन्हें 30 मई के शाम 7 बजे पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे।

पहले से भी भव्य होगा मोदी का शपथ ग्रहण समारोह, शामिल होंगे 6500 मेहमान

लोकसभा चुनाव में महाजीत हासिल करने वाले नरेंद्र मोदी गुरुवार को दोबारा प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. शपथ ग्रहण की तैयारी लगभग पूरी हो गई हैं. मंगलवार को अमित शाह और नरेंद्र मोदी के बीच पांच घंटे की बैठक हुई, ऐसे में कयास लगाया जा रहा है कि इसमें मंत्रियों के नाम पर मुहर लगी होगी. PM ने इस बार शपथ ग्रहण में BIMSTEC देशों के प्रमुख को बुलाया है. साथ ही देश के प्रमुख नेता भी इस कार्यक्रम में शिरकत करेंगे, जिनमें ममता बनर्जी भी शामिल हैं.

    • नरेंद्र मोदी गुरुवार को एक भव्य समारोह में प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे. सूत्रों के अनुसार राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में होने वाले इस समारोह में करीब 6500 मेहमान शिरकत कर सकते हैं. 2014 में नरेंद्र मोदी की शपथ में करीब 5000 मेहमान पहुंचे थे. ये चौथी बार है जब राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में शपथ ग्रहण समारोह होगा. शपथ ग्रहण में शामिल होने वालों में ममता बनर्जी, अरविंद केजरीवाल, रजनीकांत, कमल हासन जैसे बड़े नेताओं का नाम शामिल है.
    • अमित शाह पहुंचे BJP दफ्तर, नए मंत्रियों से कर सकते हैं मुलाकात
      भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह पार्टी दफ्तर पहुंच गए हैं. शाह आज उन सांसदों और नेताओं से मुलाकात करेंगे जिन्हें मोदी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है. मंगलवार को ही नरेंद्र मोदी-अमित शाह के बीच 5 घंटे तक इसी मुद्दे पर बैठक हुई थी.
      मेहमानों की लिस्ट के अलावा हर किसी की नज़र मंत्रिमंडल पर है. लगातार कयास लगाए जा रहे हैं लेकिन किसी का भी नाम फिक्स नहीं दिख रहा है. मंगलवार को नरेंद्र मोदी और अमित शाह के बीच 5 घंटे तक बैठक हुई. बताया जा रहा है कि इस बैठक में मंत्रियों के नाम पर चर्चा की गई.
      प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में ना सिर्फ विदेश बल्कि देश की भी कई बड़ी हस्तियां शामिल हो रही हैं. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, तेलंगाना के सीएम केसीआर, ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई ऐसे नाम हैं जो विपक्षी नेता होने के बाद भी शपथ में शामिल हो सकते हैं.इसके अलावा सभी बीजेपी-एनडीए शासित राज्यों के मुख्यमंत्री, बड़े नेता भी शामिल होंगे. इतना ही नहीं, साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत, कमल हासन भी नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण में शामिल होंगे.
      इस बार नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण में सार्क देशों को छोड़ BIMSTEC देशों के प्रमुख को बुलाया गया है. अभी तक ये तय है कि नेपाल-भूटान-मॉरिशस के प्रधानमंत्री, श्रीलंका-बांग्लादेश-म्यांमार के राष्ट्रपति, थाईलैंड-किर्गिस्तान के प्रमुख भी शपथ ग्रहण में शामिल होंगे. पिछली बार सार्क देशों के प्रमुख शामिल हुए थे, जिसमें पाकिस्तान भी शामिल था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *