भूमि कटाव बचाव को नगर निगम व सिंचाई के सुधारीकरण के कार्यों का स्थलीय निरीक्षण

19 वर्षीय तासीन की वाहन पेड़ की चपेट में आने से दबकर मृत्यु, यूटीलिटी वाहन दुर्घटनाग्रस्त, चार सवार में से जय बहादुर की मृत्यु
देहरादून, 12 जुलाई !  जिलाधिकारी एस ए मुरुगेशन व नगर आयुक्त विजय कुमार जोगदंडे ने बरसात से नदियों के किनारे बसे लोगों के घरों को भूमि के कटाव से बचाने हेतु नगर निगम और सिंचाई विभाग के तरली राजीव नगर कंडोली, ऋषिनगर, डीएल रोड, ईश्वर विहार लाडपुर, और बलबीर रोड में किए जा रहे सुधारीकरण के कार्यों का संयुक्त  स्थलीय निरीक्षण किया।
जिलाधिकारी ने इस दौरान इन स्थानों पर नदी किनारे गिरे पुस्तों और सुरक्षा दीवारों के साथ ही नदी किनारे पर बसी मानव आबादी को संभावित खतरों का भी आकलन किया। उन्होंने काम में लगे कार्मिकों और कार्य की प्रगति जांचते हुए खतरे वाली जद में आने वाले मकानों से लोगों को सुरक्षित अंदर की शिफ्ट होने के लिए सूचना करने के सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने कार्य की प्रगति से संतुष्टि व्यक्त की और संबंधित अधिकारियों को अधिक मानव संसाधन उपलब्ध कराते हुए कार्यों में और तेजी लाने के भी निर्देश दिए ।
इस अवसर पर सिंचाई विभाग के सहायक अभियंता बी.एस  असवाल सहित नगर निगम, सिंचाई विभाग के साथ ही संबंधित अधीनस्थ कार्मिक उपस्थित थे।

आपदा परिचालन केन्द्र से प्राप्त जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से विभिन्न विभागों से सम्बन्धित प्राप्त अद्यतन सूचना के अनुसार तहसील विकासनगर में 19 वर्षीय तासीन (पुत्र यामीन ) का वाहन पेड़ की चपेट में आने से दबकर मृत्यु हों गयी। इसी प्रकार  पांच व्यवसायिक वस्तुओं की क्षति हुई है जिनमें टैन्ट का सामान, डी.जे सेट, रूई गोदाम, वैल्डिंग सामान, किराना स्टोर जिसकी लागत लगभग 15 लाख 80 हजार बताई गयी है।  आर0के0 विकासनगर ने अवगत कराया  है कि पी0-20 के 05 फार्म भरे गये है,  जिसमें अनुमानित क्षति रू0 2,50,000 बतायी गयी है तथा वर्तमान तक  13 प्रभावितों को  अहेतुक में  25,600 रू0 धनराशि बाटी गयी है। कालसी क्षेत्रान्तर्गत लखवाड़ बैंड के पास एक यूटीलिटी वाहन दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें कुल चार सवार लोगों में से दो लोग घायल हुए तथा  45 वर्षीय जय बहादुर ग्राम कुन्ना चकराता (नेपाल मूल निवासी) की मृत्यु हो गयी।                                      

तहसील सदर क्षेत्रान्तर्गत जल भराव से 141 घरों में खाद्य एवं अन्य सामग्री की क्षति हुई है तथा 02 दुकानों में पानी के कारण किराना सामग्रियो की  क्षति और 01 मुर्गे की दुकान में पानी भरने से 30 मुर्गीयां मर गयेी ! साथ ही  01 पक्का तथा 01 कच्चा  आवासीय  मकान  आंशिक  क्षतिग्रस्त हो गया है। आर0के0 सदर द्वारा अवगत कराया गया है कि पी0-20 के 26 फार्म भरे गये है जिसमें अनुमानित क्षति  24,26,000 रू0 बतायी गयी है तथा वर्तमान तक कुल 176 प्रभावितों को कुल 12,78,600 रू0 की मुआवजा  धनराशि वितरित की गयी है।
सिचांई विभाग से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार वाणी विहार शिवाजी एन्कलेव में पुस्ता टूटने से मिटटी -कूडा बहकर स्थानीय निवासियों के घर में जा रहा है, राघव विहार 03 04 व 05 में नाली चोक हो गयी है, सोग नदी का जल स्तर बढने से गोहरी माफी नहर का हेड का बन्दा क्षतिग्रस्त हो गया, आई0एस0बी0टी0 के आगे चन्द्रबनी में कैनाल 11 जुलाई से क्षतिग्रस्त होने से घरों मे पानी भर गया है।  निम्मी रोड डालनवाला देहरादून में रिस्पना नदी के तेज बहाव के कारण घरों के अन्दर एवं सडक पर मलबा इक्ठठा हो गया है जिसकी सुधारीकरण की कार्यवाही गतिमान है। 
लो0नि0वि0 प्रान्तीय खण्ड के अन्तर्गत लम्बीधार- किमाड़ी- देहरादून मोटर मार्ग, ग्रामीण मार्ग, कैरवान गांव मोटर मार्ग, चामासारी मझाड़ा -ग्रामीण मार्ग, कर्लीगाड सरोना मोटर – ग्रामीण मार्ग, सहस्त्रधारा चामासारी मार्ग- ग्रामीण मार्ग, छमरौली सरोना मार्ग- ग्रामीण मार्ग, सलाण गांव -भण्डार गांव- ग्रामीण मार्ग, मालदेवता सेरकी सिल्ला मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। लो0नि0वि0, निर्माण खण्ड देहरादून के अन्तर्गत ब्रहमपुरी वार्ड नं0 42 के बिन्दाल नदी के किनारे वाली सड़क-ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। अस्थाई खण्ड लो0नि0वि0 सहिया के अन्तर्गत हरिपुर इच्छाड़ी क्वानू मीनस मोटर मार्ग राज्य मार्ग, बिजऊ क्वेथा खतार मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग, गडोल सकरोल मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। अस्थाई खण्ड, लो0नि0वि0, चकराता के अन्तर्गत त्यूनी पुरोला नौगांव मोटर मार्ग राज्य मार्ग, पुरोडी-रावना-डामटा मोटर मार्ग – प्रमुख जिला मार्गखारसी मोटर मार्ग-ग्रामीण मार्ग, अच्छेड़ पुुल से मटियावा ग्रामीण मार्ग, छोटऊ सम्पर्क मार्ग- ग्रामीण मार्ग, मेघाड़-म्यंूडा मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग, रामताल गार्डन मोटर मार्ग-ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। अस्थाई खण्ड, लो0नि0वि0 ऋषिकेश क्षेत्रान्तर्गत मालदेवता हिलासवाली मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग, धारकोट बडेरना मार्ग- ग्रामीण मार्ग, भोगपुर बागी नवाकोट डिम्मर सम्पर्क मार्ग- ग्रामीण मार्ग, कालागांव डांडा लखौण्ड अस्थल मार्ग- ग्रामीण मार्ग, बसन्तपुर मादसी मार्ग ग्रामीण मार्ग, देहरादून सहस्त्रधारा मार्ग (सहस़्धारा रिंग रोड़ प्रभाग) ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। निर्माण खण्ड-2 (ए0डी0बी0) लो0नि0वि0, देहरादून के अन्तर्गत कोटी- डिमाऊ से ग्र्राम -सराड़ी तक (सम्पर्क मार्ग) मोटर मार्ग- ग्रामीण मार्ग, कालसी-बैराट-खाई मार्ग से काहा-नेहरा- उनाहा मोटर मार्ग –  ग्रामीण मार्ग, लोहनबैण्ड -बबड़ीधार मोटर मार्ग-ग्रामीण मार्ग अवरूद्ध है। जिनको खोलने का कार्य विभाग द्वारा गतिमान है। 
जल संस्थान के अन्तर्गत चांदमारी में 80 एम.एम. व्यास की 42 मी0 पाइप लाइन भूस्खलन के कारण क्षतिग्रस्त, गुजराडा में कार्लीगाड गधेरे में मलवा आने से श्रोत मलवे के नीचे दब गया है एवं 150 एम.एम. व्यास की पाइप लाइन के सुरक्षात्मक कार्य क्षतिग्रस्त हो गये हैं। डांडा लखौण्ड में श्रोत मलवे के नीचे दब गया है एवं 100 एम.एम. व्यास की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त।  धनोला में श्रोत मलवे के नीचे दब गया है एवं 100 एम.एम. व्यास की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त,  भरतवाला में श्रोत एवं 100 एम.एम. व्यास की 50 मी0 पाइप लाइन क्षतिग्रस्त, थानों में श्रोत एवं 80 एम.एम. व्यास की 60 मी0 पाइप लाइन क्षतिग्रस्त, चलंग में श्रोत एवं 50 एम.एम. व्यास की 36 मी0 पाइप लाइन क्षतिग्रस्त,  धोरण में श्रोत एवं 100 एम.एम. व्यास की 45 मी0 पाइप लाइन क्षतिग्रस्त। कड़वापानी में आम श्रोत एवं मल्हान में  100 एम0एम0 व्यास की क्रमशः 25 मीटर पाइप लईन बाढ़ के कारण क्षतिग्रस्त हो गयी है।  सभावाला में बाढ़ के कारण शेखोवाला पम्प हाऊस की चार दीवारी एवं सुरक्षा पुस्ता, तार जाल  क्षतिग्रस्त हो गया है। रूद्रपुर-केदारवाला श्रोत पर बी0एफ0जी0 क्षतिग्रस्त, गुरूत्व मेंन 100 एम0एम0 व्याय जी0आई0 की 48 मी0 पाईप बह गयें। बडवा में बडवा एवं सोरना श्रोत पर एस0एस0सी0 क्षतिग्रस्त – 02 नग, गुरूत्व मेंन 80 एम0एम0 व्याय जी0आई0 की 32 मी0 पाईप बह गयें, गुरूत्व मेंन 65 एम0एम0 व्याय जी0आई0 की 36 मी0 पाईप बह गयें तथा गुरूत्व मेंन 50 एम0एम0 व्याय जी0आई0 की 72 मी0 पाईप बह गयें। लांघा में श्रोत पर पानी का बहाव अधिक होने के कारण श्रोत तक पहुचना सम्भव नही है। अतः क्षति की सूचना बाद में प्रेषित की जायेगी। ढलानी में श्रोत पर पानी का बहाव अधिक होने के कारण श्रोत तक पहुचना सम्भव नही है जिसके  क्षति की सूचना बाद में प्रेषित करने की बात कही गयी है। मसूरी नगरीय में  150, 125 व 80 एम.एम. व्यास की क्रमशः 45, 55 व 50 मी0 राईजिंग मेन व बांसी, कण्डीघाट एवं न्यू बी श्रोत क्षतिग्रस्त हो गयी है। जल संस्थान द्वारा क्षतिग्रस्त पेयजल लाईनों व स्त्रोतों को पुनः सुचारू करने की कार्यवाही गतिमान है।            
नगर निगम द्वारा पूरण बस्ती, मित्रलोक कालोनी, गोविन्दगढ, कांवली पुल, टीचर्स कालोनी, बलबीर रोड के अन्त में तथा  रिस्पना नदी किनारे पर मलवा हटाने का कार्य पूर्ण किया गया है। इसके अतिरिक्त राजीव कालोनी व लक्खीबाग में नाला सफाई एवं मलबा हटाने तथा वार्ड न 51 इन्दिरा नगर हिल व्यू कालोनी में सफाई हेतु फटीक वर्क तथा फाॅंिगंग का कार्य किया गया।
जिलाधिकारी एस.ए मुरूगेशन द्वारा विगत 11 जुलाई को अतिवृष्टि से इन्दिरा नगर कालोनी के हिल व्यू काॅलोनी में एशियन स्कूल की दीवार ढहने से आसपास के क्षेत्र में पानी की निकासी नही होने के कारण जलभराव से वर्षा का पानी आस-पास घरों में घुसने की घटना को गम्भीरता से लेते हुए जलभराव के कारणों की जांच हेतु नगर आयुक्त नगर निगम की अध्यक्षता में समिति का गठन किया गया है, जिसमें उप जिलाधिकारी सदर, अधिशासी अभियन्ता निर्माण खण्ड लो.नि.वि तथा अधिशासी अभियन्ता सिंचाई खण्ड देहरादून को सदस्य नामित किया गया हैं। उपरोक्त समिति जल भराव के प्रमुख कारणों , आस-पास रहने वाले लोगों को भविष्य में किसी भी प्रकार की हानि न होने की सम्भावना, एशियन स्कूल की ड्रेनेज व्यवस्था भविष्य में जल भराव की पुनरावृत्ति न होने और नाले के पानी निकासी सुचारू करने से सम्बन्धित बिन्दुओं पर अपनी जांच रिपोर्ट 15 दिवस कि भीतर जिलाधिकारी को प्रस्तुत करेगी। इसी तरह जिलाधिकारी ने उप जिला मजिस्टेªट सदर को विगत 11 जुलाई को अतिवृष्टि से शास्त्री नगर खाले में एक कच्चा मकान गिरने से एक ही परिवार के चार लोगों की मृत्यु की घटना को गम्भीरता से लेते हुए जांच अधिकारी नियुक्त करते हुए घटना स्थल का स्तरीय निरीक्षण कर आवश्यक जांच, इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति रोकने, क्षतिग्रस्त कच्चा मकान के निर्माण में किसी भी प्रकार की लापरवाही यदि बरती गयी हो, शास्त्री नगर खाला क्षेत्र के आस-पास इस तरह के किये गये निर्माण तथा स्वामित्व धारक इत्यादि बिन्दुओं पर सुरक्षा दृष्टि से आख्या प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये हैं।
 विभाग विभिन्न क्षेत्रों में सुधारीकरण की प्रक्रिया लगातार जारी रखे हैं तथा जिलाधिकारी ने सम्बन्धित विभागों को कार्यों में तेजी लाते हुए जनसुविधा व जन सुरक्षा के कार्यों को शीघ्रता से बहाल करने के निर्देश दिये साथ ही आवश्यकतानुसार राहत, पुर्नवास, तत्तकाल युद्धस्तर पर वैकल्पिक व्यवथा अमल में लाने और किसी भी प्रकार के वित्तीय, संसाधन इत्यादि से सम्बन्धित यदि जरूरत हो तो उसका  प्रस्ताव भी प्रेषित करने के निर्देश दिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *