रुद्रप्रयाग, । शीतकाल प्रवास के बाद शुभ लग्नानुसार केदारनाथ के कपाट गुरुवार सुबह ठीक 5 बजकर 35 मिनट पर खोल दिए गए।  इस अवसर पर हजारों श्रद्धालु दर्शनों को पहुंचे। कपाट खुलने की प्रक्रिया प्रात:चार बजे से शुरू हो गयी थी दक्षिण द्वार पर केदारनाथ के रावल भीमाशंकर लिंग, केदारनाथ के पुजारी केदार लिंग  वेदपाठियों ने कपाट खुलने की रस्मों को विधि-विधान से निभाया।अब आने वाले छह महीनों तक भोले बाबा की पूजा यहीं पर होगी। देश-विदेश से आने वाले यात्री केदार बाबा का आशीर्वाद ले सकेंगे। कपाट खुलने के मौके पर 5 हजार से अधिक भक्त शुभ अवसर के साक्षी बने।

बाबा केदार की उत्सव डोली को मुख्य पुजारी केदार लिंग द्वारा पूजा-अर्चना के साथ ही भोग लगाया गया, जिसके बाद डोली को सजाया गया। केदारनाथ रावल भीमाशंकर लिंग, वेदपाठियों, पुजारियों, हक्क हकूकधारियों की मौजूदगी में कपाट पर वैदिक परंपराओं के अनुसार मंत्रोच्चारण किया गया।

डोली ने मंदिर में प्रवेश किया।सर्वप्रथम पुजारियों व वेदपाठियों द्वारा गर्भगृह में साफ-सफाई करने के बाद पूजा-अर्चना की गई फिर केदारनाथ को भोग लगाया गया। ठीक 6 बजे मुख्य कपाट भक्तों के दर्शनाथ खोल दिए गए।

अब आने वाले छह महीने तक यहीं पर भक्त केदार बाबा के दर्शन कर सकेंगे। भारी बर्फबारी के बावजूद बड़ी संख्या में भक्त केदारनाथ आए। इस अवसर पर सुबेदार शशिधर के नेतृत्व में सेना की जम्मू-कश्मीर लाइट इन्फेंटरी के बैंड की धुनों से पूरा केदारनाथ का वातावरण भोले बाबा के जयकारों से गुंजायमान हो गया।kedar nath temple door open for devotees

इस अवसर पर श्री केदारनाथ धाम के रावल भीमाशंकर लिंग, हरिद्वार के सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, तीर्थपुरोहित श्रीनिवास पोस्ती,मंदिर समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री, मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह, कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी मंदिर समिति राजकुमार नौटियाल, मंदिर सुपरवाइजर एवं  डोली प्रभारी यद्धुवीर पुष्पवाण, वेदपाठी यशोधर मैठाणी, वेदपाठी विश्वमोहन जमलोकी,  पुलिस अधीक्षक अजय सिंह, पुलिस चौकी प्रभारी विपिन पाठक सहायक अभियंता गिरीश देवली लेखाकार रमेश तिवारी,  लोकेन्द्र रिवाड़ी, स.धर्माधिकारी ओंकार शुक्ला, वेदपाठी यशोधर मैठाणी,‌स्वयंबर सेमवाल, सुपरवाइजर यदुबीर पुष्पवाण, प्रबंथक अरविंद शुक्ला, प्रबंधक  प्रदीप सेमवाल मनोज शुक्ला मृत्युंजय हीरेमठ, सूरज नेगी  आदि समेत बड़ी संख्या में भक्त मौजूद थे।

श्रद्धालुओं के स्वागत को तैयार उत्तराखंड: त्रिवेंद्र

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने चारधाम यात्रा पर आने वाले देश-विदेश के श्रद्धालुओं का उत्तराखंड में स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं के स्वागत को उत्तराखंड तैयार है। यहां आने वाले श्रद्धालुओं की सुविधा एवं सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गंगोत्री व यमुनोत्री के बाद आज केदारनाथ धाम के कपाट खुल गए। शुक्रवार 10 मई को बदरीनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुल जाएंगे।

उन्होंने कहा कि सभी स्थानों पर राज्य सरकार द्वारा व्यापक व्यवस्थाएं की गई हैं। यात्रियों की सुविधा के मद्देनजर चारधाम सड़क निर्माण कार्य को रोक दिया गया है। केदारनाथ पुनर्निर्माण का कार्य 80 प्रतिशत पूर्ण हो चुका है। अवशेष पुनर्निर्माण के कार्यो पर भी तेजी से कार्य किया जा रहा है। बदरीनाथ धाम में आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई हैं।

केदारनाथ धाम में पूजा सामग्री ले जाने में एयरफोर्स द्वारा भी मदद दी जा रही है। बदरीनाथ में विवेकानंद स्वास्थ्य मिशन के माध्यम से चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। केदारनाथ में भी बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा चार धाम यात्रा मार्गो पर प्रत्येक दो किलोमीटर पर चिकित्सकों की तैनाती कर बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। यात्रा मार्गो के संवेदनशील स्थानों पर लोक निर्माण विभाग, सीमा सड़क संगठन व राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के अधिकारियों को सतर्क रहने तथा समन्वय से कार्य करने को कहा गया है। चारधाम को पॉलिथीन मुक्त बनाए जाने की व्यवस्था बनाई जा रही हैं।*

*ट्रैफिक प्लान चारधाम यात्रा सीजन 2019*

*1.* हरिद्वार की ओर से बद्रीनाथ जाने वाले सभी वाहन मुख्य बाजार रुद्रप्रयाग से होकर श्रीबद्रीनाथ की ओर जाएंगे
*2.* श्रीकेदारनाथ जाने वाले वाहन जावडी बाईपास होते हुए PWD पुल पर निकलेंगे तथा श्रीकेदारनाथ की ओर जाएंगे
*3.* श्रीबद्रीनाथ की ओर से आने वाले सभी प्रकार के वाहन केदारनाथ तिराहे से बेलनी होते हुए बाईपास से होकर जाएंगे उक्त वाहन नगर मे प्रवेश नहीं करेंगे
*4.* क़स्बा रुद्रप्रयाग हेतु नो एंट्री का समय प्रातः 8:00 बजे से रात्रि 8:00 बजे तक रहेगा
*5.* अगस्तमुनि मे आने वाले वाहनों पर भी यही नियम लागू होगा तथा वे सभी वाहन PWD पुल से डाइवर्ट होकर बाईपास जाएंगे
*6.* यातायात की स्थिति को देखते हुए दिन मे एक घंटे के लिए दोपहर 2:00 बजे से 3:00 बजे तक हलके प्राइवेट वाहनों के लिए नो एंट्री मे ढील दिए जाने की व्यवस्था की गयी हैं परन्तु यह व्यवस्था यातायात की स्थिति को देखते हुए ही लागू की जायेगी
*7.* एम्बुलेंस तथा फायर के वाहनों के लिए अथवा कोई अन्य आपात सेवा के लिए नो एंट्री लागू नहीं होंगी
*8.* बाज़ार मे आने वाले सब्ज़ी के ट्रको आदि का अनलोड करने का समय प्रातः 7:00 बजे से पहले व रात 8:00 बजे के बाद का रहेगा
*9.* इसी दौरान 2 घंटे पिक उप वाहनों को बाजार मे सामान पहुंचाने की अनुमति होंगी व इसका समय प्रातः 9:00 बजे se पहले व दोपहर 2:00 बजे के बाद का होगा
*10.* यदि सिरोहबगड़ मे मार्ग अधिक देर तक बंद रहता है तो उस दशा मे वाहनों को खांकरा से खांकरा छातीखाल डूंगरीपंथ मार्ग पर डाइवर्ट किया जाएगा इसी प्रकार श्रीनगर की ओर से आने वाले वाहनों को भी डूंगरीपंथ से डाइवर्ट कर दिया जाएगा ऐसी स्थिति आने पर चौकी कालिया सोड जनपद पौड़ी से समन्वय स्थापित किया जाएगा
*11.* यदि यात्रा के दौरान मार्ग बांसबाड़ा मे अवरुद्ध होता हैं रो रुद्रप्रयाग की तरफ से गुप्तकाशी जाने वाले वाहनों को गंगानगर से बसुकेदार होते हुए गुप्तकाशी हेतु डाइवर्ट किया जाएगा एवं गुप्तकाशी से रुद्रप्रयाग/टेहरी जाने वाले वाहनों को बस्टी होते हुए बसुकेदार मायली मार्ग से डाइवर्ट किया जाएगा अन्यथा गुप्तकाशी से गुप्तकाशी मयाली मार्ग से रुद्रप्रयाग/टेहरी के लिए डाइवर्ट किया जाएगा
*12.* यदि सोनप्रयाग और गुप्तकाशी मे जाम की स्थिति उत्पन्न होती हैं तो जब तक जाम की स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक बड़े एवं छोटे वाहनों की पार्किंग अगस्तमुनि मैदान मे अस्थाई रूप से की जायेगी।