बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध  हत्याकांड में चार गिरफ्तार, योगेश राज की तलाश जारी

बुलंदशहर हिंसा: इंस्पेक्टर सुबोध सिंह हत्याकांड में चार लोग गिरफ्तार, योगेश राज की तलाश जारी
बुलंदशहर में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर स्याना सुबोध कुमार सिंह तथा एक युवक सुमित की हत्या के मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। 

बुलंदशहर, । गोवंश मिलने के बाद बुलंदशहर में भड़की हिंसा में इंस्पेक्टर स्याना सुबोध कुमार सिंह तथा एक युवक सुमित की हत्या के मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा चार से पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है। इस प्रकरण को लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ के बेहद गंभीर होने के कारण जांच अधिकारी एडीजी इंटेलिजेंस एसवी शिरोडकर मौके पर पहुंचे हैं। उन्होंने जांच शुरू कर दी है।

बुलंदशहर में हिंसा के दौरान स्याना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के मामले में स्याना कोतवाली में उपनिरीक्षक सुभाष सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई। इसमें बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज, भाजपा युवा स्याना के नगराध्यक्ष शिखर अग्रवाल, विहिप कार्यकर्ता उपेंद्र राघव को भी नामजद किया गया। हालांकि, तीनों की अभी गिरफ्तारी नहीं हुई है। एडीजी आनंद कुमार ने प्रेस वार्ता में इस बात की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि मामले में चमन, देवेंद्र, आशीष और सतीश को गिरफ्तार किया गया है। इस प्रकरण में 88 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, जिसमें 27 लोग नामजद हैं।

बुलंदशहर हिंसा को लेकर पुलिस ने कल रात से ही ताबड़तोड़ छापा मारना शुरू कर दिया था। इसमें तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस ने रातभर महाव और चिंगरावठी गांव में छापेमारी की। पुलिस चश्मदीदों और सामने आई वीडियो-तस्वीरों के आधार पर छापेमारी कर रही है। महाव और चिंगरावठी, दोनों ही गांव घटनास्थल के नजदीक के गांव हैं। माना जा रहा है कि 400-500 लोगों की भीड़ इन्हीं गांवों से आई थी। पुलिस की छह टीमों ने 22 ठिकानों पर छापेमारी की थी। इसके साथ ही आसपास के जिलों में पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं।

बुलंदशहर की इस घटना के बाद से ही गर्माते माहौल को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था को पुख्ता किया गया है। यहां पर आरएएफ की पांच कंपनियां तैनात की गई हैं। यहां आने वाले हर वाहन की जांच की जा रही है, ताकि किसी और तरह से माहौल खराब ना हो पाए। बुलंदशहर हिंसा की जांच करने के लिए एसआईटी का गठन किया गया है।

गौरतलब है कि कल बुलंदशहर के स्याना थाना क्षेत्र के एक खेत में गोकशी की आशंका के बाद बवाल शुरू हुआ। जिसकी शिकायत मिलने पर सुबोध कुमार पुलिसबल के साथ मौके पर पहुंचे थे। इतने में ही तीन गांव से करीब 400 लोगों की भीड़ ट्रैक्टर-ट्राली में कथित गोवंश के अवशेष भरकर चिंगरावठी पुलिस चौकी के पास पहुंच गई और जाम लगा दिया।

इसी दौरान भीड़ जब उग्र हुई तो पुलिस ने काबू पाने के लिए लाठीचार्ज और आंसू गैस के गोले छोड़े और जल्द ही वहां फायरिंग भी होने लगी। जिसमें सुबोध कुमार घायल हो गए और एक युवक भी जख्मी हो गया। सुबोध कुमार को अस्पताल ले जाने से रोका गया और उनकी कार पर जमकर पथराव भी किया गया। सूत्रों के मुताबिक पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पुष्टि हुई है कि सुबोध कुमार की मौत गोली लगने से हुई है।

नम आंखों से कोतवाल सुबोध कुमार को दी अंतिम सलामी

नम आंखों से कोतवाल सुबोध कुमार को दी अंतिम सलामी

बुलंदशहर में गोकशी को लेकर हुए बवाल में मारे गए स्याना कोतवाल सुबोध कुमार सिंह को पुलिस लाइन में अंतिम सलामी दी गई। उनका पार्थिव शरीर परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।
 स्याना में कल हुए बवाल में शहीद हुए कोतवाल सुबोध कुमार सिंह को मंगलवार सुबह पुलिस लाइन में अंतिम सलामी दी गई। एडीजी मेरठ जोन, आईजी मेरठ रेंज, एसएसपी व डीएम समेत अन्य अधिकारी मौजूद रहे। कोतवाल की अंतिम विदाई में पुलिस लाइन में उनके परिजन भी मौजूद रहे। अंतिम सलामी के बाद कोतवाल के पार्थिव शरीर को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। शहीद कोतवाल का अंतिम संस्कार एटा जनपद के उनके पैतृक गांव में होगा।

बवाल में हुई थी मौत
सोमवार को स्याना कोतवाली के महाव गांव के खेत में गोवंश के अवशेष मिलने के बाद भारी बवाल हो गया था। हिंदू संगठन के लोगों ने पुलिस चौकी चिंगरावठी में घुसकर तोड़फोड़ की और आग लगा दी। वाहन भी फूंक डाले। उपद्रवियों ने स्‍याना कोतवाल सुबोध कुमार सिंह पुत्र रामप्रताप सिंह निवासी गांव परगवां थाना जैथरा, एटा की गोली मारकर हत्या कर दी थी। इस दौरान गोली लगने से चिंगरावठी के एक युवक की भी मौत हुई थी। मामले में पुलिस ने 27 आरोपितों को नामजद करते हुए करीब 60 अज्ञात बलवाइयों पर हत्या, लूट, बलवा आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *