बाराबंकी : जहरीली शराब  से 22 की मौत, 15 अफसर सस्पेंड; जांच के आदेश,आरोपितों पर रासुका की तैयारी

जिला आबकारी अधिकारी रामनगर के सीओ एसएचओ व आबकारी निरीक्षक सहित 15 को निलंबित कर दिया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि दुकानदार नकली शराब बनाकर बेचता था।
बाराबंकी, । उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में मंगलवार को जहरीली शराब पीने से 22 की मौत हो गई। वहीं, 52 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। मरने वालों एक ही परिवार के चार लोग शामिल हैं। हालांकि प्रशासन 12 लोगों के मरने की ही आधिकारिक पुष्टि कर रहा है। पूरे मामले की मजिस्ट्रेटी जांच के आदेश दिए गए हैं। आरोपितों पर रासुका लगाने की तैयारी की जा रही है। वहीं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की आर्थिक मदद देने की घोषणा की है।एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण ने बताया कि जहरीली शराब पीने से अब तक 12 लोगों की मौत हुई है, जबकि 32 पीड़ितों को लखनऊ तथा 10 को बाराबंकी के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। लखनऊ में भर्ती चार मरीजों की हालत नाजुक है। उन्होंने बताया कि फरार आरोपित जल्द गिरफ्तार किए जाएंगे।
यह शराब अलग-अलग गांव के ग्रामीणों ने रामनगर क्षेत्र के एक सरकारी देशी शराब की दुकान से खरीद कर पी थी। ऐसे में पीने वाले व मरने वालों के बारे में सही आकलन करना मुश्किल हो रहा है। वहीं, पूरे मामले में जिला आबकारी अधिकारी, रामनगर के सीओ, एसएचओ व आबकारी निरीक्षक सहित 15 को निलंबित कर दिया गया है। साथ ही दोषियों की गिरफ्तारी के लिए प्रशासन ने तीन टीमें गठित की हैं।

मामले में पुलिस ने शराब की दुकान के अनुज्ञापी (लाइसेंस धारक) दानवीर सिंह निवासी बहराइच समेत तीन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर सेल्समैन सुनील कुमार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने आरोपित दानवीर सिंह और पप्पू जायसवाल पर 20-20 हजार की इनाम घोषित किया गया है। सोमवार को रानीगंज ठेके से शराब खरीदकर पीने वालों की तबीयत रात से ही खराब होने लगी थी। हालात बिगड़ने पर सीएचसी (सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र) सूरतगंज, फतेहपुर व रामनगर ले जाया गया। जहां से जिला अस्पताल और फिर लखनऊ रेफर किया गया, लेकिन सीएचसी से लखनऊ तक मौतों का सिलसिला जारी रहा।

अफसरों की संलिप्तता की भी जांच

जांच समिति इस घटना में आबकारी विभाग, पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की संलिप्तता की जांच भी करेगी। इसके अलावा जहरीली शराब की आपूर्ति का स्रोत क्या है? इसके लिए कौन जवाबदेह है? इससे पहले दिए गए आदेशों के अनुपालन में क्या शिथिलता बरती गई? इसका भी उल्लेख होगा। साथ ही समिति ऐसी घटनाओं की रोकथाम के लिए सुझाव भी देगी।

घटना की जांच के लिए कमिश्नर, आईजी अयोध्या और आयुक्त आबकारी की जांच समिति बनाई गई है, 48 घंटे में रिपोर्ट देगी। कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने बताया कि 16 को KGMU रेफर किया गया है। बाद मेें पीडि़तोंं का आंकड़ा बढ़ गया। लोहिया और बलरामपुर अस्पताल में भी पीड़ित लोगों के इलाज की व्यवस्था की गई है।

वहीं, जिले में एक दर्जन लोगों का इलाज अलग-अलग अस्पतालों में चल रहा है। देशी शराब रामनगर क्षेत्र के ग्राम रानीगंज बाजार स्थित ठेके से खरीदी गई थी। ऐसे में पीने वाले व मरने वालों के बारे में सही आंकलन करना मुश्किल हो रहा है।

प्रकरण में सीओ पवन गौतम और इंसपेक्टर रामनगर राजेश कुमार को निलंबित किया है। वहीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले में संवेदना व्यक्त करते हुए जांच के आदेश दिए हैं। उधर, एडीजी राजीव कृष्णा के मुताबिक, आरोपित की शराब की दुकान सील कर दी गई है। इसके साथ ही आरोपित सेल्समैन सुनील कुमार को गिरफ्तार किया गया। जिन घरों में शराब की बोतल मिली है, वहां पर फोरेंसिक टीम छानबीन कर रही है।

एक ही परिवार के चार की मौत
मरने वालों में एक ही परिवार के चार लोग शामिल हैं। जिसमें तीन भाई रामेश कुमार(35)पुत्र छोटेलाल, सोनू (25)पुत्र छोटेलाल, मुकेश (28) पुत्र छोटे लाल के साथ उनके पिता छोटेलाल (60) पुत्र घूरू की मौत हो गई। रमेश की पत्नी रामावती ने बताया कि घर में लाशें उठाने वाला भी कोई नहीं बचा।

मृतकों की संख्या

विनय प्रताप उर्फ राजू सिंह पुत्र देवीदयाल(30) कटेहरी
राजेश पुत्र सालिक राम(35) अकोहरा घाघरा किनारे स्थित देवरिया गांव का है।
रमेश कुमार पुत्र छोटेलाल (35) निवासी रानीगंज
सोनू पुत्र छोटे लाल (25) निवासी रानीगंज
मुकेश पुत्र छोटे लाल(28) रानीगंज
छोटेलाल पुत्र घूरू (60) रानीगंज
सूर्य भान पुत्र सूर्य बक्श निवासी पिपरी महार
राजेन्द्र वर्मा पुत्र जगमोहन निवासी उमरी
शिवकुमार (38) अमराई भुंड
महेन्द्र पुत्र दलगंजन, ततहेरा
राम सहारे पुत्र मंशाराम यादव (20) लोहारनपुरवा जुरौंदा
शिवकुमार उर्फ मुन्ना पुत्र श्रीराम यादव (45) रानीगंज
महेश सिंह पुत्र कप्तान(45), तेलवारी
रामस्वरूप पुत्र श्रीकेशन (55) कजियापुर, रामनगर (लखनऊ में मौत)
रविशंकर पुत्र रामकुमार(40) निवासी कजियापुर
हरिलाल पुत्र मनीराम (40), उमरी रामनगर-ट्रामा ले जाते वक्त मौत
चेतराम पुत्र केशव रावत(45), मुरारीपुर, रामनगर। (ट्रामा ले जाते वक्त रास्ते में मौत)
माधवराम पुत्र रामानुज(50), पिपरी। (लोहिया में मौत)
प्रेम-इनका नाम पिता का नाम उम्र संदीप जी से कंफर्म कर लें। (लोहिया में मौत)
विजय पुत्र रामतेज (35) निवासी पिपरी, रामनगर। (लोहिया में मौत)
ओमकार गोस्वामी पुत्र गोकरन निवासी महार।(सीएचसी सूरतगंज से जिला अस्पताल ले जाते समय तोड़ा दम)
रजनीश जायसवाल पुत्र बालक जायसवाल (40) निवासी रानीगंज। (ट्रामा में तोड़ा दम)उप्र के बाराबंकी में जहरीली शराब पीने से 22 की मौत, 15 अफसर सस्पेंड; जांच के आदेश

इनको किया गया जिला अस्पताल से ट्रामा सेंटर रेफर

सुंदर सिंह पुत्र जयनरायन सिंह (65) निवासी रानीगंज, रामनगर।
सतीश कनौजिया पुत्र बरसाती लाल (25) निवासी रानीगंज, रामनगर।
फूल कुमार पुत्र सीताराम (40), निवासी महुआपुर, रामनगर।
देवीशरण पुत्र ननकऊ (45), निवासी कुतुलूपुर, रामनगर।
निर्मल पुत्र रामकरन (35) पिपरी महार, रामनगर।
तिलकराम पुत्र पुत्ती लाल, (40), निवासी कुतुलूपुर, रामनगर।
जंगी प्रसाद पुत्र रामदास (45), निवासी कुतुलूपुर, रामनगर।
छेदी (56) पुत्र भल्लू निवासी गुजरा नतई, थाना विशेश्वरगंज, जिला बहराइच।
पप्पू कश्यप पुत्र ननकू प्रसाद (25) कुतुलूपुर, रामनगर
राकेश यादव पुत्र श्याम लाल (44), महार, रामनगर।
राजाराम पुत्र संतराम (29), निवासी कटियारा, रामनगर।
तिलकराम पुत्र गुरूचरन (39), निवासी उमरी रामनगर।
सहजराम पुत्र मेड़ई (45), कुतुलूपुर, रामनगर।
जितेंद्र पुत्र प्रेमचंद्र (28), निवासी अमरई गांव भुंड रामनगर।
राजेश सिंह पुत्र राम बक्स सिंह (22) ततेहरा, रामनगर।
मनोज कुमार पुत्र मायाराम (26), निवासी कजियापुर, रामनगर।
दयाशंकर पुत्र सतगुरु (27), निवासी कजियापुर, रामनगर।
संदीप सिंह पुत्र रूपनाथ सिंह (25), निवासी गोहकनपुरवा परसपुर (गोंडा)
दयाराम पुत्र जगदीश (35), निवासी पिपरी महार, रामनगर।
नेम कुमार पुत्र सुंदर लल (50) पुत्र उमरी, रामनगर।
कल्लू (40) पुत्र दुर्जन निवासी अकोहरा, रामनगर।
छोटे लाल, पुत्र बंसी लाल(25), निवासी रानीगंज, रामनगर।
कौशल पुत्र बैजनाथ (21), निवासी अकोहरा, रामनगर।
कुलदीप कुमार पुत्र रामतेज (25) निवासी रानीगंज, रामनगर।
नरेंद्र कुमार पुत्र अयोध्या प्रसाद (50) निवासी अमराई, रामनगर।
मायाराम पुत्र राम बक्स सिंह (42) निवासी अमराई भुंड, रामनगर।
विजय पुत्र रामतेज (35) निवासी पिपरी, रामनगर।
योगेंद्र पुत्र चंद्रिका (26) निवासी पिपरी।
होली पुत्र हुसैनी (25), निवासी ततेहरा, रामनगर।
पप्पू पुत्र विशाल (45) निवासी ततेहरा, रामनगर।
बुद्धु पुत्र कन्हैया लाल (38), निवासी कजियापुर।
सुलेश चंद्र पुत्र कालीदीन (37) निवासी कजियापुर।
राजकुमार पुत्र ऊदल (24) निवासी कजियापुर।
विक्रम पुत्र सुकई (35), निवासी नीजामपुर त्रिलोकपुर, रामनगर।
कुन्मू पुत्र सतगुरु (32) निवासी कजियापुर, रामनगर।
माधवराम पुत्र राम अनुज (45) निवासी पिपरी
कमलेश पुत्र रामसरन(45) निवासी पिपरी 41-मनोज पुत्र रामनरेश (25)निवासी पिपरी
दिनेश पुत्र भरोसे (35) निवासी लोहारनपुरवा
रामू पुत्र राजाराम (30) निवासी कुतलूपुर
प्रमोद पुत्र मल्हू(40) निवासी कुतलूपुर

उधर, सूचना मिलते ही मौके पर बाराबंकी जिलाधिकारी उदयभानु त्रिपाठी पहुंचे और घटना का जायजा लिया।

फतेहपुर सीएचसी से रेफर

अशोक कुमार पुत्र गोपे (35), निवासी कजियापुर।
शिवशंकर पुत्र श्याम (32), निवासी रानीगंज, रामनगर।

जिला अस्पताल में भर्ती

नन्हें पुत्र सूर्यदेव(60), निवासी मरौचा
जगपाल पुत्र राधेश्याम (18), निवासी-अमराई गांव
रामवृत्त पुत्र फेंकू (50), निवासी अमराई
रामा,(68) निवासी धौछरिया
रामबली पुत्र नरायण (46)
रमेश प्रताप पुत्र राजेश (65) निवासी पिपरी करौउडा़
पिंटू पुत्र रामऔतार (20) अमराई गांव।
नकली शराब बनाकर बेचने का आरोप
इलाके के लोगों का आरोप है कि दानवीर सिंह के ठेके से नकली शराब बनाकर बेची जाती थी। उनका ग्रामीण इलाके में शराब की अवैध फैक्ट्री है। वह यहां पर नकली शराब बनवाकर अपने सरकारी ठेके से बेचते थे। आरोप है कि सरकार की ओर से आने वाली शराब की बोतलों में उतना फायदा नहीं होता, जितना नकली शराब बनाकर बेचने में होता है इसलिए वह नकली शराब बनाकर दो से तीन गुना फायदा कमाते थे।Yogi Adityanath✔
@myogiadityanath
बाराबंकी जनपद में कल रात्रि जहरीली शराब पीने से हुई मौतों की खबर से मन क्षुब्ध है।
दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।जिले के DM व SP को तत्काल मौके पर पहुँच कर पीड़ितों को उपचार दिलाने एवं प्रमुख सचिव आबकारी को जाँच कर दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए।

14.8 हज़ार
11:42 am – 28 मई 2019
सीओ व इंसपेक्टर निलंबित, मुख्यमंत्री ने दिए जांच के आदेश
उधर, डीजीपी ओपी सिंह ने प्रकरण में जिले के सीओ पवन गौतम और इंसपेक्टर रामनगर राजेश कुमार को निलंबित किया है। इसके साथ ही मामले में तीन हेड कांस्टेबल और सर्कल के पांच कांस्टेबल को निलंबित किया गया है। यूपी के आबकारी मंत्री जय प्रताप सिंह ने जिला आबकारी अधिकारी शिव नारायण दूबे को सस्पेंड कर दिया। वहीं, मामले में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मामले में संवेदना व्यक्त करते हुए प्रमुख सचिव आबकारी को मामले की जांच के आदेश दिए हैं।

जांच कमेटी का गठन, 48 घंटे में देगी रिपोर्ट
कैबिनेट की बैठक के बाद पत्रकार वार्ता में सरकार के प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने बताया कि छह लोगों की मौत हुई है। सभी मृतकों के परिवारीजन को दो-दो लाख रुपये आर्थिक सहायता दी जाएगी। मुख्य सचिव आबकारी को जांच सौंपी गई है। आबकारी आयुक्त अयोध्या ने नेतृत्व में जांच कमेटी का गठन किया गया है। कमेटी 48 घंटे में रिपोर्ट देगी। इसके बाद लापरवाही करने वालों को चिन्हित किया जाएगा और कार्रवाई होगी। इस मामले में राजनीतिक साजिश की जांच होगी।

इससे पहले भी हुईं थी मौतें
बता दें, 11 जनवरी 2018 को जिले के देवा और रामनगर क्षेत्र में 24 घंटे के अंदर 11 लोगों की मौत हुई थी। सभी को पेट दर्द व उल्टी-दस्त की शिकायत पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था। प्रथमदृष्टया मौतों का कारण शराब अथवा स्प्रिट का सेवन बताया जा रहा था। बारांबंकी के गांव सलारपुर में दावत करने वाले राम नरेश के पिता अर्जुन को पुलिस ने हिरासत में लिया गया था। मरने वालों में देवा थाना क्षेत्र के मुनियापुरवा निवासी कमलेश (26) पुत्र बैरागी, ग्राम रीवां रतनपुर निवासी उमेश (22) पुत्र राम हरख, सलारपुर गांव निवासी सत्यनाम (30) पुत्र मेढ़ीलाल, ग्राम ढिढोरा मजरे सलारपुर निवासी राकेश (40) पुत्र नौमीलाल, मुनियापुरवा मजरे ताजपुर निवासी रामफल (27) पुत्र बैरागी, कचहरान निवासी मुन्ना बाल्मीकि (35), हुज्जाजी मुहल्ले के निवासी संजय, देवगांव निवासी नौमीलाल (40) पुत्र गंगाराम, जसनवारा गांव के माता प्रसाद (50) व रामनगर थाना क्षेत्र के थालखुर्द गांव निवासी अवनीश (29) और कांशीराम (28) शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *