बग स्कैन, डीब्रिफिंग और साइको टेस्ट से गुजरेंगे विंग कमांडर अभिनंदन

पाक से लौटे विंग कमांडर अभिनंदन को घर जाने में लगेगा वक्‍त, जानें पूरी प्रक्रिया,अटारी बॉर्डर से स्वदेश वापसी के बाद रात 12 बजे वह विशेष विमान से पालम एयरपोर्ट पहुंचे. यहां से उन्‍हें आरआर अस्‍पताल के लिए रवाना कर दिया गया.भारतीय वायुसेना के नियमों में उन्हें कुछ कड़ी परीक्षाओं से गुजरना होगा. इस बारे में  रिसर्च एंड एनॉलिसिस विंग (RAW) के लिए काम करने वाले वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी से बात .विंग कमांडर अभिनंदन शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह से फिट होने के बाद ही उनको दोबारा तैनात किया जाएगा.

नई दिल्‍ली :भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान शुक्रवार रात को पाकिस्‍तान से वाघा बॉर्डर के जरिए भारत वापस लौट आए. अटारी वाघा बॉर्डर क्रॉस करते ही उन्हें वायुसेना के हेलीकॉप्टर से दिल्ली लाया गया. वायुसेना के नियम के तहत शनिवार को विंग कमांडर को ‘डीब्रिफिंग’और ‘बग स्कैनिंग’ से गुजरना होगा. इस दौरान सेना और खुफियां एजेंसियों के अधिकारी उनसे पूछताछ करेंगे. इसके बाद मेडिकल चेकअप होगा.
भारतीय वायुसेना के नियमों के तहत उन्हें कुछ कड़ी परीक्षाओं से गुजरना होगा. इस बारे में रिसर्च एंड एनॉलिसिस विंग (RAW) के लिए काम करने वाले वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी  ने कहा, “अभिनंदन को वापस लौटने के बाद कई तरह की परीक्षाओं से गुजरना होगा. ये बेशक अच्छा नहीं है लेकिन इंडियन एयरफोर्स नियम-कानून सख्त हैं. उन्हें युद्ध के दौरान दूसरे देश में पकड़े जाने के बाद वापस लौटने वाले टेस्ट से गुजरना ही होगा. इसका कोई विकल्प नहीं होगा.”
इन जांच प्रक्रियाओं से गुजरेंगे विंग कमांडर अभिनंदन:-
1. शनिवार को उनसे डीब्रिफिंग होगी. इस दौरान वायुसेना के अधिकारी उनसे पाकिस्तान में बिताए वक्त को लेकर पूछताछ करेंगे. वायुसेना इंटेलिजेंस की डीब्रीफिंग बहुत दर्द देने वाली होती है. खास बात ये है कि वायुसेना नियमों के अनुसार ये अनिवार्य है. इसमें जाना जाता है कि दुश्मन ने कारावास के दौरान उनसे कौन सी जानकारियां प्राप्त कीं. इस बात का विश्वास दिलाना होता ‌कि दुश्मन देश की सेना ने उन्हें अपनी सेना में शामिल तो नहीं किया.

2. इसके बाद विंग कमांडर को कई तरह के मेडिकल टेस्ट से गुजरना होगा. इसमें फुल बॉडी चेकअप शामिल है.
3. फिर अभिनंदन की स्कैनिंग होगी. इसमें ये जानने की कोशिश होगी कि कहीं पाकिस्तानी आर्मी ने उनपर कोई बग तो नहीं फिट कर रखा है.
4. विंग कमांडर का साइकोलॉजिकल टेस्ट भी किया जाएगा. क्योंकि वो दुश्मन की धरती पर अकेले पकड़े गए थे. उन्हें वहां बंदी के तौर पर रखा भी गया. इस बात की आशंका है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित गुप्त जानकारियों के लिए उन्हें मानसिक और शारीरिक तौर पर प्रताड़ित किया गया हो. इससे उन्हें आघात लगा हो. ये पता करना जरूरी होगा कि उनकी मानसिक स्थिति फिलहाल कैसी है?
5.इसके अलावा विंग कमांडर से इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) और रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) भी अलग से पूछताछ कर सकती है. हालांकि, इसकी संभावनाएं कम ही हैं. वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान की पाकिस्तान से देश में सकुशल वापसी से पहले पाकिस्‍तान ने विंग कमांडर अभिनंदन को को हैंडओवर करने में दो बार समय में परिवर्तन किया. काले रंग के कोट में जैसे ही अभिनंदन भारतीय सीमा में घुसे लोगों ने उनका स्वागत तिरंगा लहराकर और भारत माता की जय के नारों से किया. पाकिस्तानी सरजमीं पर 48 घंटे का समय  बाद बेशक से अभिनंदन स्वदेश लौट आए हों, लेकिन अभी घर नहीं जा सकें.

4 दिन दिल्ली के अस्पताल में रहेंगे अभिनंदन
अटारी बॉर्डर से स्वदेश वापसी के बाद रात 12 बजे वह विशेष विमान से पालम एयरपोर्ट पहुंचे. यहां से उन्‍हें आरआर अस्‍पताल के लिए रवाना कर दिया गया. चार दिन तक वह अस्‍पताल में ही रहेंगे. इस दौरान डॉक्‍टरों की एक टीम उनकी निगरानी करेगी.

सिलसिलेवार तरीके से ली जाएगी जानकारी
सुरक्षा कारणों से भारतीय सुरक्षा अधिकारियों द्वारा अभिनंदन से वहां हुई तमाम घटनाओं की सिलसिलेवार जानकारी ली जाएगी. ये जानकारी बेहद जरूरी होती है. इस पूछताछ के दौरान अधिकारी इस बात का जानने की कोशिश करेंगे कि कहीं दवाब में लेकर अन्य देश ने भारत को नुकसान पहुंचाने वाली किसी चीज को जानकारी हासिल तो नहीं कर ली है.

हालांकि इस बात के रत्ती भर आसार भी नहीं हैं कि दुश्मन देश उनसे कुछ भी ऐसी-वैसी जानकारी ले पाया होगा. क्योंकि अभिनंदन की जीवटता देश ने पाकिस्तानी धरती पर होते हुए भी दो मौकों पर देख ली थी. पहले तो पाकिस्तानियों के कब्जे में जाते-जाते हुए भी उन्होंने कुछ गोपनीय जानकारियों को नष्ट कर दिया. और जब उनके कब्जे में चले गए, तो भी पाकिस्तानी सैन्य अधिकारियों को खुद के बारे में कुछ बेहद सामान्य जानकारी से आगे कुछ भी बताने से साफ इनकार कर दिया.

अभिनंदन की दोबारा तैनाती कब ?
इसके बाद देखा जाएगा कि विंग कमांडर अभिनंदन शारीरिक और मानसिक रूप से पूरी तरह से फिट हुए या नहीं? सेवा के लिए फिट होते ही दोबारा उनकी उपयुक्त जगह पर तैनाती कर दी जाएगी. हालांकि ऐसे मामलों के बाद इस बात के आसार बेहद कम रहते हैं कि ठीक वही जिम्मेदारी उन्हें दोबारा दी जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *