फर्जी सर्टिफिकेट में आजम खां, बेटे और पत्नी पर एफआईआर,धोखाधड़ी का आरोप

उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान, उनके बेटे अब्दुल्ला आजम और आजम की पत्नी ताजीन फातिमा के खिलाफ धोखाधड़ी के मामले में एफआईआर दर्ज की गई है।

आजम खान, उनके बेटे और पत्नी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

हाइलाइट्स

  • समाजवादी पार्टी नेता और पूर्व मंत्री आजम खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज
  • बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी ताजीन फातिमा के खिलाफ भी एफआईआर
  • फर्जी बर्थ सर्टिफिकेट मामले में आरोप सही पाए जाने पर हुई कार्रवाई
  • बीजेपी नेता आकाश सक्सेना की शिकायत पर तीनों के खिलाफ दर्ज हुई है FIR
रामपुर
समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे आजम खान के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

विधायक अब्दुल्ला आजम के दो जन्म प्रमाणपत्र बनवाने के आरोप में गंज थाना की पुलिस ने पूर्व मंत्री आजम खां, उनकी पत्नी राज्यसभा सदस्य डॉ. तजीन फात्मा और अब्दुल्ला आजम के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।
पुलिस ने यह रिपोर्ट भाजपा लघु उद्योग प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय संयोजक आकाश सक्सेना के तहरीर पर दर्ज की है। वहीं विधायक अब्दुल्ला का कहना है कि इन सभी ज्यादतियों का बदला जनता आगामी लोकसभा चुनाव में लेगी।
आकाश सक्सेना ने 17 दिसंबर को लखनऊ में प्रमुख सचिव गृह को ज्ञापन सौंपकर आरोप लगाया था कि विधायक अब्दुल्ला आजम के जन्म के दो-दो प्रमाणपत्र बने हुए हैं।
आकाश के आरोप हैं कि विधायक अब्दुल्ला आजम का एक जन्म प्रमाणपत्र 28 जून 2012 को रामपुर नगरपालिका परिषद से जारी किया गया है। ये प्रमाण पत्र आजम खां और डॉ. तजीन फात्मा के शपथ पत्र के आधार पर जारी किया गया है, जिसमें अब्दुल्ला का जन्म स्थान रामपुर दिखाया गया है।

जबकि दूसरा प्रमाण पत्र 21 जनवरी 2015 को लखनऊ नगर निगम से बना है, जो क्वीन मेरी अस्पताल के डुप्लीकेट जन्म प्रमाणपत्र के आधार पर जारी किया गया है। इसमें अब्दुल्ला का जन्म स्थान लखनऊ दिखाया गया है।  इसके पीछे गहरी साजिश है। आकाश ने आरटीआइ के जरिये अहम साक्ष्य भी जुटाये। पूरे प्रकरण में नगर पालिका व पासपोर्ट विभाग के अधिकारियों की भूमिका भी कठघरे में थी।
आकाश सक्सेना का आरोप है कि रामपुर नगरपालिका से जारी जन्म प्रमाणपत्र का पासपोर्ट में गलत इस्तेमाल कर विदेश यात्राएं की गईं जबकि लखनऊ नगर निगम से जारी जन्म प्रमाणपत्र का सरकारी दस्तावेजों और जौहर यूनिवर्सिटी की विभिन्न मान्यताओं में उपयोग में किया गया है।
प्रमुख सचिव गृह ने इस मामले की जांच का आदेश एसपी रामपुर को दिया था। एसपी की जांच पूरी होने के बाद गंज थाने पूर्व मंत्री आजम खां, राज्यसभा सदस्य डॉ. तजीन फात्मा और विधायक अब्दुल्ला आजम के खिलाफ आईपीसी की धारा 193, 420, 467. 468 और 471 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली है। वहीं विधायक अब्दुल्ला आजम का कहना है कि यह ज्यादती है और इसका बदला जनता 2019 के लोकसभा चुनाव में लेगी।

इससे पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेता आकाश सक्सेना ने 20 दिसंबर को लखनऊ प्रेस क्लब में प्रेस वार्ता के दौरान आजम खान के बेटे अब्दुल्ला आजम खान पर दो जन्म प्रमाण पत्र रखने का आरोप लगाया था। इसी मामले में जांच पूरी होने और आरोप के सही पाए जाने पर गुरुवार को जनपद रामपुर के थाना गंज में मोहम्मद आजम खान, उनकी सांसद पत्नी ताजीन फातिमा और विधायक बेटे अब्दुल्ला आजम खान पर धारा 193, 420, 467, 468 और 471 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।
बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने मुकदमा दर्ज होने पर इसको न्याय की जीत बताया है और भरोसा व्यक्त किया है कि जल्द ही इस मामले में गिरफ्तारी भी होगी। आकाश सक्सेना ने आरोप लगाया था, ‘आजम खान और ताजीन फातिमा ने अपने बेटे आजम अब्दुल्ला के लिए दो बर्थ सर्टिफिकेट बनवाए हैं। इन दोनों (आजम खान और ताजीन फातिमा) ने रामपुर में जन्म स्थान दिखाकर नगर पालिका रामपुर से पहला सर्टिफिकेट बनवाया। सूचना मांगने पर आगजनी में कागजात जलने की बात कही गई। दूसरे सर्टिफिकेट के लिए क्वीन मैरी हॉस्पिटल लखनऊ का जन्म प्रमाण पत्र लगाकर लखनऊ नगर निगम से दूसरा प्रमाण पत्र बनवाया।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *