प्रेम संबंधों में चार परिवार तबाह, बहन की हत्या कर पुलिस के सामने कुबूला जुर्म

 मुजफ्फरनगर:उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में तहेरे-चचेरे भाई-बहन के बीच चल रहे प्रेम संबंधों में चार परिवार तबाह हो गए। मेरठ निवासी परिवार के इकलौते बेटे की उसी की पत्नी ने शादी के चार दिन बाद हत्या करा दी, जिसमें नवविवाहिता के चचेरे भाई को जेल जाना पड़ा। इस खुलासे के बाद बदनामी के चलते नवविवाहिता की उसी के तहेरे भाई ने रविवार शाम हत्या करने के बाद सरेंडर कर दिया।
तितावी थाना क्षेत्र के गांव हैदरनगर जलालपुर निवासी शिवानी पुत्री आजाद के प्रेम संबंधों ने चार परिवार बर्बाद कर दिए। दरअसल, शिवानी के अपने चचेरे भाई अनुज से काफी समय से प्रेम संबंध थे, जिसकी जानकारी परिवार में किसी को नहीं थी।
28 फरवरी को शिवानी की शादी फलावदा क्षेत्र के गांव समसपुर निवासी शैलेंद्र पुत्र उर्फ हैप्पी से हंसी-खुशी के माहौल में हुई। उस समय किसी को जरा भी भनक तक नहीं थी कि महज 10 दिन के भीतर इस शादी के चलते चार परिवार तबाह हो जाएंगे।
चचेरे भाई से प्रेम संबंधों के चलते शिवानी अपनी शादी से खुश नहीं थी। नतीजतन शादी के चार दिन बाद ही शिवानी ने चचेरे भाई अनुज से मिलकर चार मार्च की रात अपने पति हैप्पी की हत्या करा दी। हैप्पी शिवानी से मिलने अपनी ससुराल हैदरनगर आया था।
शिवानी के भाई संजय ने अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी, जिसका पुलिस ने रविवार को खुलासा करते हुए शिवानी के चचेरे भाई अनुज को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।
सूत्रों के अनुसार शिवानी व अनुज के प्रेम संबंधों और उनके चलते शैलेंद्र की हुई हत्या से पूरा परिवार बेहद गम और गुस्से में था। इसी के चलते रविवार शाम शिवानी के तहेरे भाई सुमित ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी और थाने पहुंचकर सरेंडर कर दिया।
पूछताछ में सुमित का कहना था कि चचेरे भाई अनुज व शिवानी ने प्रेम संबंधों की आड़ में जिस तरह से बेकसूर हैप्पी की हत्या की, उससे पूरे परिवार की मान प्रतिष्ठा दांव पर लग गई।
इसके चलते उसके पास कोई चारा नहीं था। सुमित को शिवानी की हत्या का जरा भी अफसोस नहीं है। इस पूरे प्रकरण में जहां एक और समसपुर निवासी शैलेंद्र का परिवार बर्बाद हो गया, वहीं दूसरी और शिवानी की हत्या होने से हैप्पी व शिवानी की हत्या में उसके चचेरे व तहेरे भाइयों को जेल जाना पड़ेगा।
व्हाट्सएप के जरिये अनुज को दी हैप्पी की जानकारी
शैलेंद्र उर्फ हैप्पी की शादी 28 फरवरी को तितावी क्षेत्र के गांव हैदरनगर जलालपुर निवासी शिवानी पुत्री आजाद से हुई थी। चार मार्च की देर रात हैप्पी चचेरे भाई मनीष के साथ शिवानी से मिलने हैदरनगर पहुंचा था। वहां से लौटते समय रात करीब डेढ़ बजे गांव के रिक्शा स्टैंड पर हैप्पी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।
मनीष गंभीर रूप से घायल हो गया था। जांच में सामने आया कि शिवानी ने पति के घर पहुंचने की जानकारी व्हाट्सएप के जरिये प्रेमी व चचेरे भाई अनुज को दी थी, जिसके बाद अनुज ने हत्या की वारदात की थी।

पुलिस फरार बताती रही, हत्या हो गई
शैलेंद्र उर्फ हैप्पी की हत्या के मामले में पुलिस शिवानी को फरार बताती रही, जबकि वह अपने घर पर ही मौजूद थी। पुलिस ने शिवानी के चचेरे भाई अनुज को गिरफ्तार करने के बाद हत्या का खुलासा कर दिया।

एसएसपी सुधीर कुमार सिंह ने पत्रकार वार्ता कर इस घटना का खुलासा किया और शिवानी के फरार होने का दावा किया। उधर, इस खुलासे के कुछ देर बाद ही शिवानी की उसके तहेरे भाई ने गोली मारकर हत्या कर दी। वह घर पर ही मौजूद थी। यदि पुलिस उसे पहले गिरफ्तार कर लेती तो इस हत्या को रोका जा सकता था।

खुद ही उजाड़ लिया सुहाग
शिवानी का प्रेम प्रसंग काफी समय से चल रहा था। लेकिन परिजनों को भनक तक नहीं थी। शिवानी इस शादी से खुश नहीं थी। इसी के चलते उसने अनुज से मिलकर पति से छुटकारा पाने की साजिश रच डाली और शादी के चार दिन बाद अपने हाथों अपना सुहाग उजाड़ डाला। हैप्पी परिवार का इकलौता बेटा था। पिता सुभाष की भी मौत हो चुकी है। इकलौते बेटे की हत्या के बाद हैप्पी की मां को भी हार्टअटैक के चलते मेरठ के एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है।

गुस्सा इस कदर था कि सिर में मारी गोली
शिवानी की करतूत से परिजनों का खून खौल रहा था। तहेरे भाई सुमित से बर्दाश्त न हुआ तो उसने शिवानी की हत्या करने की ठान ली। परिवार की हुई बदनामी के गुस्साए सुमित ने शिवानी को बाइक पर बैठा लिया और जंगल में ले गया। वहां ले जाकर उसने शिवानी के सिर में गोली मार दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *