कांग्रेस का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष तय होने के बाद प्रदेशों में बदलाव होगा। इसी को देखते हुए फिलहाल प्रियंका गांधी को पूर्वी उत्तर प्रदेश के साथ पश्चिमी उत्तर प्रदेश की भी जिम्मेदारी दी गई है।

प्रियंका गांधी वाड्रा को उत्तर प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी पद की जिम्मेदारी मिलने की सूचना आते ही प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में नेता एक-दूसरे को बधाई देते दिखे। पार्टी कार्यकर्ताओं का कहना है कि एक प्रभारी महासचिव होने से फैसले लेने में अनावश्यक देरी नहीं होगी। अब तो यहां संगठन को मजबूती मिलेगी। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता ब्रजेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय महासचिव पार्टी संगठन को मजबूती देने में लगी हैं। एक ओर विधानसभा की एक दर्जन सीटों पर होने वाले उपचुनाव की तैयारी के लिए दो-दो नेताओं की प्रभारी बना कर क्षेत्रों में भेज दिया गया है तो दूसरी ओर, जिलों में संगठन में बदलाव को लेकर बैठकें हो रही हैं। अनुशासन समिति लोकसभा चुनाव में भीतरघात की शिकायतों पर अपनी जांच रिपोर्ट को अंतिम रूप दे रही है। प्रियंका गांधी सब कामों की निगरानी कर रही हैं। ऐसे में, फैसले जल्दी लिये जा सकेंगे।

प्रदेश प्रवक्ता अंशू अवस्थी ने कहा कि इससे संगठन को मजबूती देने के काम को गति मिलेगी। पश्चिमी यूपी के लोग इस बारे में शिकायत करते थे कि प्रियंका जी को वहां का प्रभार न देकर उन लोगों के साथ भेदभाव किया गया है। अब उनके पूरा प्रदेश देखने से कार्यकर्ताओं में उत्साह है।