पोते ने कहा, कांग्रेस ने नरसिम्हा राव को किया दरकिनार

नरसिम्हा राव के पोते एनवी सुभाष
एनवी सुभाष ने शुक्रवार को कहा कि नेहरू-गांधी परिवार पर ध्यान केंद्रित रखने के लिए कांग्रेस ने पीवी नरसिम्हा राव को दरकिनार कर दिया. पूर्व प्रधानमंत्री की अनदेखी के लिए सोनिया और राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए.
हैदराबाद, 28 जून ! पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के पोते ने कांग्रेस द्वारा अपने दादा की अनदेखी का आरोप लगाया है. नरसिम्हा राव के पोते एनवी सुभाष ने पूर्व प्रधानमंत्री की अनदेखी किए जाने पर कांग्रेस से माफी मांगने की मांग की है.एनवी सुभाष ने शुक्रवार को कहा कि नेहरू-गांधी परिवार पर ध्यान केंद्रित रखने के लिए कांग्रेस ने पीवी नरसिम्हा राव को दरकिनार कर दिया. पूर्व प्रधानमंत्री की अनदेखी के लिए सोनिया और राहुल गांधी को माफी मांगनी चाहिए. तेलंगाना बीजेपी के प्रवक्ता एनवी सुभाष ने कहा कि नरसिम्हा राव की आज जयंती है, लेकिन कांग्रेस नेताओं ने उनकी जयंती पर पूर्व प्रधानमंत्री को सम्मान नहीं दिया. 1996 की पराजय के बाद कांग्रेस ने कई वजहों से नरसिम्हा राव को दरकिनार कर दिया.

बीजेपी नेता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी सोचती है कि अगर गांधी-नेहरू परिवार के अलावा किसी और को तरजीह दी जाएगी तो उन पर कोई ध्यान नहीं देगा. इसीलिए नरसिम्हा राव को दरकिनार कर दिया गया. सुभाष ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की सभी असफलताओं का दोष पीवी नरसिम्हा राव के सिर मढ़ दिया गया, लेकिन उनके योगदान का श्रेय उन्हें नहीं मिला. मैं सोनिया और राहुल गांधी से मांग करता हूं कि वे इसके लिए माफी मांगे और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करें.

बता दें कि 28 जून नरसिम्हा राव की जयंती है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर उन्हें श्रद्धांजलि दी है. शुक्रवार सुबह प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर लिखा कि नरसिम्हा राव ने देश के विकास में जो योगदान किया है, उन्हें हमेशा याद किया जाएगा. प्रधानमंत्री के अलावा देश के अन्य नेता भी उन्हें श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को उनकी जयंती के अवसर पर श्रद्धांजलि देता हूं. वह एक महान नेता, विद्वान, अनुभवी प्रशासक थे, जिन्होंने महत्वपूर्ण समय पर देश के विकास में योगदान दिया. उनके योगदान को देश हमेशा याद रखेगा.’

नरसिम्हा राव को हमेशा देश में किए गए आधुनिक आर्थिक सुधारों, लाइसेंस राज की समाप्ति के लिए जाना जाता है. 1991 में जब भारत को दुनिया के बाजार के लिए खोला गया, तो नरसिम्हा राव ही प्रधानमंत्री थे. वह 21 जून 1991 से लेकर 16 मई 1996 तक देश के प्रधानमंत्री रहे थे.

गौरतलब है कि अभी कुछ ही दिन पहले जब प्रधानमंत्री लोकसभा में भाषण दे रहे थे, तब भी उन्होंने नरसिम्हा राव का जिक्र करते हुए कांग्रेस पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि कांग्रेस के भाषणों में सिर्फ एक ही परिवार का गुणगान किया जाता है, ना किसी ने मनमोहन सिंह के योगदान को याद किया और ना ही नरसिम्हा राव के योगदान को.

बाबरी विध्वंस के समय कैसा था नरसिम्हा राव का मूड? डॉक्टर ने बताई असली कहानी

सलमान खुर्शीद कहते हैं कि राव साहब के साथ सबसे बड़ी परेशानी यह रही कि आम सहमति बनाने की कोशिश ने ही उन्हें नुकसान पहुंचाया. आम सहमति बनाने के पीछे कारण यह था कि नरसिम्हा राव पूरी तरह से मस्जिद की रक्षा करने के बजाय हिंदू और मुस्लिम दोनों वोट बैंकों को तुष्ट करना चाहते थे.
पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और सुब्रमण्यम स्वामी (फाइल फोटो)पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और सुब्रमण्यम स्वामी (फाइल फोटो)

कांग्रेस के बाहर और भीतर एक बड़ा तबका है, जो अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराये जाने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव को जिम्मेदार मानता है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी एक बार कहा था कि उस समय अगर मेरे परिवार से कोई प्रधानमंत्री होता तो मस्जिद नहीं गिरती. मगर अभी तक कोई ऐसा सबूत सामने नहीं आया जिससे उन्हें इसका जिम्मेदार माना जाए.

नरसिम्हा राव जब जून 1991 में प्रधानमंत्री बने तो लगभग उसी समय कल्याण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री चुने गए थे और भारत के पास सिर्फ दो सप्ताह के आयात के लायक विदेशी मुद्रा भंडार था. इन दोनों मामलों में नरसिम्हा राव को तीखी राजनीतिक आलोचना झेलनी पड़ी. अर्थव्यवस्था और बाबरी मस्जिद पर विपक्षी दलों और अपनी कांग्रेस पार्टी की विचारधारा दांव पर लगी थी, और इससे इन समस्याओं का हल तलाशने में राव की क्षमता सीमित हो गई. इन बड़ी राजनीतिक बाधाओं के बीच राव ने अर्थव्यवस्था के मामले में सही निर्णय लिए और 6 दिसंबर को एक गलत फैसला लिया.

हिंदू और मुस्लिम वोट का सवाल

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद उस समय को याद करते हैं. उनका कहना है कि राव साहब की त्रासदी यह थी कि आम सहमति बनाने की कोशिश ने ही उन्हें नुकसान पहुंचाया. आम सहमति बनाने के पीछे कारण यह था कि नरसिम्हा राव पूरी तरह से मस्जिद की रक्षा करने के बजाय हिंदू और मुस्लिम दोनों वोट बैंकों को तुष्ट करना चाहते थे. राव मस्जिद की हिफाजत के साथ-साथ हिंदू भावनाओं की रक्षा करना चाहते थे और खुद को भी बचाना चाहते थे. लेकिन ठीक इसका उलटा हुआ. मस्जिद ढहा दी गई. हिंदू कांग्रेस से दूर हुए और राव की अपनी प्रतिष्ठा की धज्जियां उड़ गईं.

मस्जिद की सुरक्षा और राम मंदिर आंदोलन को लेकर राव कई मोर्चों पर जूझ रहे थे. शुरू के दिनों में नागपुर में पढ़े लिखे और ब्राह्मण नेता होने के नाते उन्हें विश्वास था कि वह हिंदूवादी संगठनों और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेताओं से निपट लेंगे. नरसिम्हा राव की जीवनी ‘हाफ लॉयन’ लिखने वाले पत्रकार विनय सीतापति इस विषय पर विस्तार से चर्चा करते हैं. विनय सीतापति बताते हैं कि राव ने उस दौरान बीजेपी नेताओं और अन्य हिंदू नेताओं से कई गुप्त बैठकें कीं. इन बैठकों में उन्हें आश्वस्त किया गया कि अदालत के फैसले के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया जाएगा. इन नेताओं में बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भी थे.

धड़कन तेज चल रही थी और रक्तचाप बढ़ा हुआ था

विनय सीतापति 28 जून 1921 को जन्मे नरसिम्हा राव के निजी डॉक्टर के हवाले से मार्मिक कहानी बताते हैं. छह दिसंबर 1992, रविवार होने के कारण नरसिम्हा राव अपने सामान्य समय के बाद यानी 7 बजे सोकर उठे. उन्होंने उस दिन के अखबार पढ़े. टाइम्स ऑफ इंडिया में रिपोर्ट थी कि विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के 2.25 लाख से अधिक कार्यकर्ता बाबरी मस्जिद के पास पूजा अर्चना करने वाले थे. इस आलेख में वीएचपी के प्रवक्ता के वादे का उल्लेख था कि स्वयंसेवक अदालत के आदेशों का उल्लंघन नहीं करेंगे. फिर प्रधानमंत्री विशेष रूप से लगाए गए ट्रेडमिल पर तीस मिनट तक चलते रहे. थोड़ी देर बाद उनके निजी डॉक्टर के. श्रीनाथ रेड्डी वहां पहुंचे. तेलुगू और अंग्रेजी में बात करते हुए रेड्डी ने उनके रक्त और मूत्र के नमूने लिए.

रेड्डी एम्स में हृदय रोग के विशेषज्ञ थे और रविवार होने के कारण वह घर में ही थे. दोपहर को जब उन्होंने टेलीविजन चलाया तो चैनलों में अयोध्या में शांति का माहौल बताया जा रहा था, और बाबरी मस्जिद के तीनों गुम्बद दिख रहे थे. दोपहर 12.30 बजे रेड्डी ने टीवी पर हजारों हिंदू कार्यकर्ताओं द्वारा पहले गुम्बद पर हमले का सीधा प्रसारण देखा. उनके पिता केवी रघुनाथ रेड्डी पक्के समाजवादी थे और उनके बेटे पर इसका असर पड़ा था. रेड्डी याद करते हैं वह धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के लिए वह सबसे बुरा दिन था. उसके तुरंत बाद रेड्डी के मन के ख्याल आया कि प्रधानमंत्री दिल के मरीज हैं. उन्हें कैसा महसूस हो रहा होगा? 1990 में हुई एक बायपास सर्जरी की वजह से राव राजनीति से रिटायर होने की हालत में पहुंच गए थे.

रेड्डी तुरंत प्रधानमंत्री कार्यालय पहुंचे. वहां पहुंचने पर उन्होंने देखा कि राव खड़े थे और उनके चारों तरफ कई अधिकारी और नेता थे. वे सब टेलीविजन देख रहे थे. मस्जिद का तीसरा गुम्बद उसी समय गिरा था. राव ने गुस्से में उनसे पूछा- आप अभी क्यों आए हैं. लेकिन डॉक्टर अपने मरीज की जांच करने की बात पर अड़े रहे. राव को एक छोटे कमरे में ले जाया गया. रेड्डी याद करते हैं उनका मन कहीं और था लेकिन राव डॉक्टर की बात मानने वाले मरीज थे.

श्रीनाथ रेड्डी ने उनके धड़कन और उनके रक्तचाप की जांच की. जैसा कि मुझे उम्मीद थी उनका दिल तेजी से धड़क रहा था. नब्ज काफी तेज हो गई थी. रक्तचाप बढ़ गया था. उनका चेहरा लाल हो गया था, वह उत्तेजित थे. डॉक्टर रेड्डी ने राव को बीटा बलॉकर की अतिरिक्त खुराक दी और उनके शांत हो जाने पर ही वहां से गए. इतने सालों बाद भी रेड्डी नरसिम्हा राव की शारीरिक स्थिति को याद करते हैं. डॉक्टर होने के नाते मुझे यकीन है कि मस्जिद गिरने पर उनका उद्देलित होना उनकी सच्ची प्रतिक्रिया थी. यह उस व्यक्ति की प्रतिक्रिया नहीं हो सकती जिसने उसकी योजना बनाई हो या उसमें शामिल रहा है.  ‘शरीर झूठ नहीं बोलता.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *