पशु चिकित्सक हत्याकांड में दो महिलाओं समेत चार गिरफ्तार

पशु चिकित्सक हत्याकांड में दो महिलाओं समेत चार आरोपित गिरफ्तार
भोपा (मुजफ्फरनगर) : पशु चिकित्सक हत्याकांड में पुलिस ने दो महिलाओं समेत चार आरोपितों को 

भोपा (मुजफ्फरनगर) : पशु चिकित्सक हत्याकांड में पुलिस ने दो महिलाओं समेत चार आरोपितों को गिरफ्तार कर रविवार को न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें जेल भेजा गया है, जबकि पांच आरोपित पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ पाए हैं। सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के मद्देनजर भोपा व मोरना में पुलिस बल तैनात रहा।

प्रभारी निरीक्षक डॉक्टर बीपी सिंह  ने बताया कि मोरना कस्बा निवासी पशु चिकित्सक डॉक्टर सतीश मलिक का शव ककरौली थाना क्षेत्र के दौलतपुर गांव के जंगल में बोरे से बरामद हुआ था। मृतक के भाई विनोद ने ककराला के कामिल, उसके पिता अय्यूब, मां सरवरी, पत्नी सोनम, नईम तथा चुड़ियाला निवासी आशू, दिलशाद व आरिफ समेत आठ के विरुद्ध हत्या व हत्या की साजिश रचने का मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने हत्यारोपित कामिल, उसकी मां सरवरी व पत्नी सोनम को गिरफ्तार करने के साथ प्रकाश में आए नौवें आरोपित सलीम उर्फ भूरा बंगाली को गिरफ्तार कर लिया। मृतक की आरोपित की ओर 36 लाख की रकम थी।पुलिस ने कामिल की निशानदेही पर आला-ए-कत्ल रॉड, डायरी, 860 रुपये तथा आरोपित का मोबाइल बरामद किया। पुलिस ने रविवार को आरोपितों को न्यायालय में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेजा गया।Image result for मंदौड़ निवासी डॉक्टर सतीश मलिक वहीं, सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के मद्देनजर भोपा में सीओ जानसठ सोमेंद्र नेगी व प्रभारी निरीक्षक जानसठ आनंददेव मिश्र तथा मोरना कस्बे में थानाध्यक्ष तितावी सूबे सिंह  पुलिस बल के साथ दिनभर तैनात रहे। आरोपित के घर पर तैनात रही पुलिस

ककराला गांव में भी सुरक्षा और शांति-व्यवस्था के मद्देनजर हत्यारोपी कामिल के घर के बाहर शाहपुर थाना प्रभारी निरीक्षक यशपाल सिंह, दारोगा बीर सिंह व चंद्रपाल सिंह पुलिस फोर्स के साथ मौजूद रहे।

गमगीन माहौल में हुआ पशु चिकित्सक का अंतिम संस्कारसिखेड़ा : मंदौड़ गांव निवासी पशु चिकित्सक का अंतिम संस्कार गमगीन माहौल में हुआ।भीड़ को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा। सांसद ने गांव पहुंचकर पीड़ित परिवार को सांत्वना दी।

मंदौड़ निवासी डॉक्टर सतीश मलिक का शव रविवार सुबह जैसे ही उनके पैतृक गांव में पहुंचा तो माहौल गमगीन हो गया। परिजन दहाड़ मारकर रोने लगे। लोगों की आंखें भी नम हो गई। पुत्र आयुष ने उन्हें मुखाग्नि दी। सांसद संजीव बालियान व पूर्व सांसद सोहनवीर सिंह  गांव में पहुंचे और परिजनों को सांत्वना दी। लोगों ने उनसे बाकी हत्यारोपियों को शीघ्र गिरफ्तार करने की मांग की। सांसद संजीव बालियान ने एसपीआरए आलोक शर्मा से बात करके बाकी हत्यारोपियों की गिरफ्तारी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

डॉक्टर सतीश मलिक काफी समय पहले गांव से जाकर मोरना में रहने लगे थे। दो दिन पहले वह घर से ककराला खल व्यापारी के यहां जाने के लिए निकले थे। उसके बाद लापता हो गए थे। पुलिस ने ककराला निवासी खल-चोकर व्यापारी कामिल से पूछताछ की तो राजफाश हो गया। कामिल ने डॉक्टर की हत्या का जुर्म स्वीकार करते हुए बताया कि उसने अपने दो साथियों के साथ मिलकर उनकी हत्या कर दी और शव ठिकाने लगाने के लिए मीरापुर थाना क्षेत्र के चुड़ियाला निवासी दिलशाद, आरिफ व आशू के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने शनिवार शाम उनका शव ककरौली थाना क्षेत्र में खेत से बरामद किया था। हत्या से क्षेत्र में सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया था। प्रशासन ने शव का अंतिम संस्कार कराकर राहत की सांस ली है।

हत्यारोपितों ने दस घंटे तक छिपाकर रखा घर में शवहत्यारोपितों ने दस घंटे तक छिपाकर रखा घर में शव

भोपा (मुजफ्फरनगर) : पशु चिकित्सक के हत्यारोपितों ने दस घंटे तक शव घर में छिपाकर रखा। 

भोपा (मुजफ्फरनगर) : पशु चिकित्सक के हत्यारोपितों ने दस घंटे तक शव घर में छिपाकर रखा। इतने शातिर थे कि रेहड़े में रखा शव तीन गांव के बीच से निकालकर ले गए। रास्ते में यूपी-100 भी मिली, लेकिन शातिरों को भय नहीं था। पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल रॉड भी बरामद कर लिया है।

सिखेड़ा थाना क्षेत्र के मंदौड़ गांव निवासी पशु चिकित्सक डॉक्टर सतीश मलिक (45) करीब 25 साल से मोरना में रह रहे थे। शुक्रवार सुबह ककराला गांव में पशु देखकर आने की बात कहकर घर से निकले थे। किसी को भी गुमान नहीं था कि वह अनहोनी की ओर बढ़ रहे हैं। ककराला में पशु देखा और उसके मालिक को दवाई लाने को कहकर कामिल के घर चले गए। चिकित्सक ने कारोबारी से उधार की रकम का तगादा किया। हर बार की तरह आरोपित ने कहा कि कुछ समय बाद ब्याज सहित लौटा दूंगा। इसी तरह के बहानों के चलते रकम 36 लाख तक पहुंच चुकी थी। इतना पैसा वापस करने के बजाय शातिर ने चिकित्सक की जान लेना मुनासिब समझा। सुबह नौ बजे कामिल ने चिकित्सक को घर के अंदर बुलाया और चाय में नशीली दवा मिलाकर बेहोश कर दिया और साथियों संग मिलकर सिर में रॉड मारकर उनकी हत्या कर दी। शव घर में ही छिपा लिया। पूरे दिन आरोपित काम करते रहे। प्लान बनाते रहे कि किस तरह शव बाहर ले जाना है। दस घंटे बाद शाम को शव बोरे में भरकर रेहड़े में रखकर बराबर में कई और बोरी रख ली। करीब छह किलोमीटर दूर ककराला के बाद भेडाहेड़ी गांव फिर चौरावाला गांव से होते हुए दौलतपुर गांव के जंगल में जाकर शव गन्ने के खेत में फेंक दिया। शातिर तीन गांवों के बीच से लाश लेकर निकले। रास्ते में यूपी-100 पुलिस से सामना भी हुआ, लेकिन कोई डर नहीं था।

किराए पर रह रहा था पशु चिकित्सक

मृत पशु चिकित्सक खुद सालों से किराए के मकान पर रहता था। मृतक की आरोपित की ओर 36 लाख की रकम थी। आरोपित के घर में एसी के साथ ही तमाम सुख सुविधाएं हैं। पशु चिकित्सक की जान लेने के बाद से ही उसका मोबाइल फोन ऑफ कर दिया था। लोग व परिजन चिकित्सक को बाहर तलाश रहे थे और उसका शव कामिल के घर में पड़ा था।

 हत्या से क्षेत्र में तनाव Image result for मंदौड़ निवासी डॉक्टर सतीश मलिक

शुक्रवार को लापता पशु चिकित्सक की बरादमगी को लेकर ग्रामीणों ने भोपा थाना घेर लिया। पुलिस की कार्यशैली के खिलाफ नाराज लोगों ने मुजफ्फरनगर शुक्रताल मार्ग को जाम कर दिया। कस्बे में करीब छह घंटे तक जाम लगाए रखा। शाम के समय पुलिस ने पशु चिकित्सक का शव दौलतपुर गांव के जंगल से बरामद कर लिया। मामला दो अलग पक्षों से जुड़ा होने के कारण तनावपूर्ण माहौल होने से कई थानों का फोर्स बुला लिया गया।

मोरना निवासी पशु चिकित्सक डॉक्टर सतीश कुमार शुक्रवार सुबह दस बजे अपने घर से निकले थे। शाम तक वापस न आने पर परिजन उनकी तलाश में जुट गए। मोबाइल स्विच ऑफ आने के कारण अनहोनी की आशंका जताते हुए परिजनों ने पुलिस को घटना की जानकारी दी। शनिवार सुबह लापता पशु चिकित्सक की बरामदगी को लेकर परिजनों व ग्रामीणों ने भोपा थाने पर पहुंचकर हंगामा कर दिया। आक्रोशित लोगों की भोपा सीओ राममोहन शर्मा से तीखी नोकझोंक भी हो गयी। उसके बाद ग्रामीणों ने भोपा में जाम लगा दिया। जाम लगा होने की सूचना पर मिलते ही आस पास के थानों का फोर्स बुला लिया गया। मोरना व भोपा के बाजार भी बंद करा दिया है। पुलिस ने शक के आधार पर कामिल निवासी ककराला को हिरासत में लिया। पुलिस पूछताछ में उसने सुपारी देकर हत्या कराने की बात स्वीकार कर ली। डॉग स्क्वायड टीम के साथ पुलिस टीम ने मीरापुर के गांव चुड़ियाला में दबिश दी। फरार तीन आरोपी चुड़ियाला गांव के रहने वाले हैं। शाम के समय पुलिस को लापता पशु चिकित्सक सतीश का शव ककरौली थाना क्षेत्र के गांव दौलतपुर के जंगल से मिल गया। शव को बोरे में बंद करके ईंख के खेत में फेंका गया था। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। एसएसपी सुधीर कुमार सिंह व एसपी देहात आलोक शर्मा फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस अधिकारियों के आश्वासन पर शाम के समय जाम खोल दिया गया।

–बेहोश कर पशु चिकित्सक के सिर पर रॉड से वार

पुलिस को पकड़े गए आरोपित कामिल ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि शुक्रवार को पशु चिकित्सक डॉक्टर सतीश उसके घर पर आया था। आरोपित ने उसे चाय में बेहोशी की दवाई मिलाकर पिला दी। बेहोश होने के पश्चात उसके तीन अन्य साथी घर में आ गए। आरोपितों  ने उसके सिर में लोहे की रॉड से वार कर हत्या कर दी। शव को बोरे में डालकर घर में रख लिया। तीनों आरोपित वापस चले गए। रात्रि में आरोपित फिर से ककराला गांव में पहुंचे। आरोपितों  ने बोरे में बंध शव को रेहड़े में रख लिया। शव के ऊपर आरोपित ने खल चोकर की बोरी डाल दी ताकि किसी को शक न हो।

आरोपी शव को रात्रि में जंगल में फेंक आए

–तनावपूर्ण माहौल बनने से कई थानों का फोर्स बुलाया भोपा। पशु चिकित्सक की हत्या करने वाले आरोपित  दुसरे पक्ष के निकले। इस कारण क्षेत्र में जबर्दस्त तनावपूर्ण माहौल बन गया। पुलिस के अनुसार हत्या करने में गिरफ्तार आरोपित  कामिल के साथ दिलशाद, आरिफ व आशु निवासी चुड़ियाला शामिल थे। जाम लगाने के बाद ककरौली, जानसठ, छपार, सिखेड़ा, मीरापुर व आरआरफ को बुला लिया गया। पुलिस को समझाकर मामले को शांत करने में जुटी रही।

–लास्ट कॉल से खुला हत्या का राज

पुलिस ने लापता पशु चिकित्सक सतीश के मोबाइल की सीडीआर मंगायी। कॉल डिटेल में लास्ट कॉल ककराला के आरोपित कामिल की निकली। पुलिस ने उसे गांव पहुंचकर हिरासत में ले लिया। सख्ती से पूछताछ में आरोपित ने हत्या की बात कबूल ली। गिरफ्तार आरोपित ने अपने तीन साथियों को एक लाख रुपए देकर हत्या कराने की बात मानी।

–कई नेता व अधिकारी भी भोपा पहुंचे भोपा

थाने पर जाम लगा रही भीड के बीच भाजपा के वरिष्ठ नेता डॉक्टर वीरपाल निर्वाल, पूर्व प्रमुख वीरेंद्र सिंह, भाजपा जिला उपाध्यक्ष अमित राठी, रालोद के जिलाध्यक्ष अजित राठी, जिला पंचायत सदस्य हरीश राठी, योगेश शर्मा, सुक्रम पाल प्रधान धीराहेडी, संसार सिंह प्रधान बेलडा, राजेश चेयरमैन भोकरहेडी, अमित कश्यप आदि काफी नेता पहुंच गए। एसएसपी सुधीर कुमार सिंह, अपर जिला मजिस्ट्रेट प्रशासन अमित सिंह, एसपी देहात आलोक शर्मा, एडीएम वित्त आलोक कुमार, सीओ भोपा, सीओ जानसठ आदि थाना भोपा पर ही जमे रहे। एसएसपी खुद पशु चिकित्सक की डैडबॉडी की तलाश के अभियान को कोऑर्डिनेट करते रहे। जब मृतक का शव मिला तो जाम समाप्त कर दिया गया और हत्यारोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की गई। तनाव पूर्ण स्थिति को देखते हुए मंसूरपुर, जानसठ, मीरापुर, ककरौली समेत कई थानों का फोर्स, आरआरएफ की टुकडी भी एहतियात के तौर पर भोपा बुला ली गई।

मोरना से शुक्रवार की सुबह से लापता हुए पशु चिकित्सक डा. सतीश कुमार का शव शनिवार देर शाम ककरौली क्षेत्र से बरामद हो गया। शव बरामद होने से पूर्व दोपहर में भोपा पुलिस हत्या कराने वाले आरोपित कामिल निवासी ककराला थाना भोपा को साथ लेकर चिकित्सक के शव की तलाश व हत्या में शामिल अन्य आरोपितों  की तलाश में मीरापुर थाने पहुंची तथा मीरापुर पुलिस को साथ लेकर ग्राम चुड़ियाला में दबिश दी। यहां से पुलिस ने हत्या में शामिल आरोपितों  के परिवार की दो महिलाओं समेत चार लोगों को हिरासत ले लिया। इस दौरान पुलिस ने हत्यारों द्वारा हत्या करने जाने के लिए प्रयोग की गयी एक बाइक व हत्या के बाद शव को छिपाने के लिए शव को ले जाने में प्रयोग किए गए रेहड़े को पुलिस ने चुड़ियाला से बरामद कर लिया। पुलिस के अनुसार चिकित्सक सतीश कुमार के ककराला निवासी कामिल पर करीब 25 लाख रुपये उधार थे। जिन्हें चिकित्सक वापस मांग रहा था। इसी के चलते आरोपित ने चुड़ियाला गांव के तीन युवकों एक लाख रुपए की सुपारी देकर उसकी हत्या करा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *