नई दिल्ली, टेक डेस्क। भारतीय टेलिकॉम कंपनियां सिर्फ एक-दूसरे को ही नहीं बल्कि WhatsApp को भी टक्कर दे रही हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि WhatsApp ने SMS और वॉयस कॉल को काफीहद तक रिप्लेस कर दिया है। कई ऐप कंपनियां भी इसे टक्कर देने में नाकामयाब रहीं। हालांकि, अब फेसबुक मैसेंजर, जियोचैट, हाइक और वीचैट जैसी ऐप कंपनियों में एक नया नाम जुड़ने वाला है। सरकारी कंपनी BSNL अब इस सेगमेंट में अपने पैर पसारने वाली है। कंपनी ने अपनी नई वॉयस ओवर Wi-Fi (VoWiFi) सर्विस की टेस्टिंग शुरू कर दी है।

BSNL वॉयस ओवर Wi-Fi (VoWiFi) सर्विस: इस सर्विस के तहत यूजर्स खराब से खराब सेल्यूलर कनेक्टिविटी में भी आउटगोइंग कॉल कर पाएंगे। साथ ही किसी भी पब्लिक हॉटस्पॉट या फिर किसी भी स्टैंडर्ड वाई-फाई नेटवर्क से कनेक्ट कर सकेंगे। यही नहीं, इस सर्विस के जरिए यूजर्स को लैंडलाइन और मोबाइल नंबर्स पर भी आउटगोइंग की सुविधा दी जाएगी।

अगर वॉइस ओवर Wi-Fi और WhatsApp के बीच अंतर की बात की जाए तो VoWiFi में किसी भी थर्ड पार्टी ऐप को इंस्टॉल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये पहला अंतर है। वहीं, दूसरे अंतर की बात करें तो WhatsApp में अगर आप किसी को कॉल या मैसेज करना चाहते हैं तो दूसरे व्यक्ति का भी इंटरनेट से कनेक्ट होना आवश्यक है। लेकिन वॉइस ओवर Wi-Fi में इस तरह की कोई परेशानी नहीं है। BSNL VoWiFi यूजर्स अपने फोन के डायलर ऐप से कॉल्स कर सकेंगे।

आपको बता दें कि BSNL अपनी इस सर्विस को टियर-2 और टियर-3 के अलावा भारत के उन शहरों या जगहों पर भी पहुंचाना चाहती है जहां नेटवर्क की समस्या बनी हुई है। BSNL की सर्विस को इस्तेमाल करने के लिए भी यूजर्स को कोई अलग से चार्ज नहीं देना होगा। इस टेक्नॉलजी का इस्तेमाल करने के लिए यूजर का मोबाइल VoLTE और VoWiFi इनेबल होना चाहिए।