मसूरी,। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने देहरादून-मसूरी रोपवे परियोजना का शिलान्यास किया। 300 करोड़ की इस परियोजना का निर्माण फ्रांस की एक्सपर्ट कंपनी करेगी। तीन साल में परियोजना का निर्माण कार्य पूरा होगा। पुरुकुल से मसूरी के लाइब्रेरी बस स्टैंड तक 5.58 किमी लंबे रोपवे का निर्माण किया जाएगा। इसमें 21 टावर और करीब 20 केबिन रोप पर चलेंगे और हर घंटे 1200 से 1500 यात्री इसमें सैर करेंगे। आपको बता दें कि हर दिन 8000 से 11000 लोग इसमें सफर कर सकेंगे। यह रोपवे परियोजना दुनिया भर की पांच सबसे लंबी-बड़ी परियोजनाओं में एक होगी। इससे पुरुकुल से मसूरी की दूरी 13 मिनट में तय की जा सकेगी। मसूरी तक पहुंचने में उत्तराखंड परिवहन बस से एक से सवा घंटा लगता है। सीजन में मसूरी पहुंचने के लिए पर्यटकों को मार्ग पर घंटो जाम की समस्या से जूझना पड़ता है। यह दूरी करीब 35 किमी हैजो रोपवे से मात्र 10 से 12 मिनट में तय की जा सकेगी।  देहरादून के पुरुकुल गांव से मसूरी के निकट गांधी चौक बस स्टेंड तक साढ़े पांच किमी लंबे रोपवे का बुधवार को  मुख्यमंत्री ने शिलान्यास किया है। यह रोपवे विश्व का पांचवां सबसे लंबा रोपवे होगा ! हंगम नजारों को भी देख सकेंगे। पहले रोपवे का मुख्य पड़ाव जॉर्ज एवरेस्ट किया गया था, लेकिन अब इसे सीधे देहरादून से मसूरी किया गया है। साथ ही यहां पार्किंग की समस्या से भी रूबरू होना पड़ता है। इस समस्या से भी निजात मिल सकेगी।

वहीं, बहुप्रतीक्षित सिविल अस्पताल की सौगात मिलने से नगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों सहित पर्यटकों को अब स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सिविल अस्पताल का लोकार्पण किया। इसके अलावा नगर पालिका परिसर में निर्माणाधीन टाउन हॉल में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने देहरादून-मसूरी रोपवे का भी शिलान्यास किया।

परियोजना के शिलान्यास के दौरान  मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि मसूरी-देहरादून हाईवे पर यातायात दबाव कम करने के प्रयास किए जा रहे हैं। देहरादून के डूंगा से हाथीपांव मोटर मार्ग निर्माण शीघ्र शुरू होगा। प्रस्तावित क्यारा-धनोल्टी मोटर मार्ग का शासनादेश हो गया है जिसका निर्माण जल्द शुरू किया जाएगा

वहीं, बहुप्रतीक्षित सिविल अस्पताल की सौगात मिलने से नगर व आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों सहित पर्यटकों को अब स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। बुधवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सिविल अस्पताल का लोकार्पण किया। इसके अलावा नगर पालिका परिसर में निर्माणाधीन टाउन हॉल में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने देहरादून-मसूरी रोपवे का भी शिलान्यास किया।

मुख्यमंत्री रावत ने कहा कि करीब साढ़े पांच करोड़ की लागत से बने अस्पताल में स्थानीय लोगों और पर्यटकों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध होंगी। लोगों को लंबे समय से इस अस्पताल के शुरू होने की प्रतीक्षा थी जो अब खत्म हो गई है। इसके अलावा देहरादून-मसूरी रोपवे की सौगात जल्द दी जाएगी। इसके निर्माण पर करीब 300 करोड़ की लागत आएगी। रोपवे निर्माण फ्रांस की कंपनी पोमा कर रही है।

इस रोपवे को जोलीग्रांट एयरपोर्ट और देहरादून रेलवे स्टेशन से भी जोड़े जाने के लिए भी प्रयास किया जा रहा है। जिससे देश-विदेश से मसूरी से आने वाले पर्यटकों को किसी प्रकार की दिक्कतें न हों। उन्होंने बताया कि हाथीपांव सड़क को स्वीकृति दे दी गई है।

चामासारी मार्ग पर भी जल्द फारेस्ट की अड़चन को दूर कर लिया जाएगा। सीएम ने बताया कि मसूरी में पीपीपी मोड पर हाईटेक पार्किंग के लिए कार्य किया जा रहा है। मसूरी में पेयजल की समस्या को दूर करने के लिए केंद्र सरकार से मसूरी-यमुना पेयजल योजना को सैद्धांतिक स्वीकृति मिल गई है। शीघ्र ही इसकी वित्तीय स्वीकृति मिल जाएगी। जिसके बाद जल्द ही इस पेयजल योजना का काम शुरू हो जाएगा। इसकी लागत करीब 500 करोड़ आएगी।

इस दौरान मुख्यमंत्री  ने ये भी कहा कि सिविल संयुक्त हॉस्पिटल में डॉक्टर्स और दवाइयों की कमी नहीं होने दी जाएगी।