लखनऊ, । लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भारतीय जनता पार्टी ने आज जारी अपनी 21वीं सूची में उत्तर प्रदेश से सात प्रत्याशियों का नाम घोषित किया है। भाजपा ने संतकबीर नगर में विधायक पर जूतों की बौछार करने वाले शरद त्रिपाठी का टिकट काट दिया है। उनके पिता तथा उत्तर प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष रमापति राम त्रिपाठी को भाजपा ने देवरिया ने प्रत्याशी बनाया है।

भाजपा ने पांच सांसदों का टिकट फिर काटा है। अब सिर्फ घोसी सीट पर प्रत्याशी की घोषणा बाकी है। पार्टी ने योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा को अम्बेडकरनगर से प्रत्याशी बनाया है। भाजपा ने प्रतापगढ़ अपना दल सांसद हरिवंश सिंह का टिकट काटा है। यहां से पार्टी ने अपना दल विधायक संगम लाल गुप्ता को उम्मीदवार बनाया है।

जौनपुर से पार्टी के सांसद केपी सिंह टिकट बचाने में कामयाब रहे हैं। देवरिया से सांसद कलराज मिश्रा चुनाव लडऩे से मना कर चुके हैं। संत कबीरनगर से सांसद शरद त्रिपाठी को अनुशासनहीनता का खामियाजा उठाना पड़ा है। भदोही से सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त को बलिया से टिकट दिया गया है। पार्टी ने संत कबीर नगर से प्रवीण निषाद को प्रत्याशी बनाया है। प्रवीण निषाद फिलहाल गोरखपुर से सांसद हैं।

भोजपुरी फिल्म के अभिनेता रवि किशन को पार्टी ने गोरखपुर से प्रत्याशी बनाया है। घोसी लोकसभा सीट को छोडकर पूर्वांचल में सभी सीटों पर प्रत्याशियों की सूची तय हो चुकी है। चर्चा है कि घोसी लोकसभा सीट भाजपा सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) को देना चाह रही थी मगर सीटों के बंटवारे से असंतुष्ट सुभासपा ने अलग राह चुन ली है।

पार्टी ने प्रतापगढ़ से अपना दल के विधायक संगम लाल गुप्ता, भदोही से रमेश बिंद, संतकबीर नगर से निषाद पार्टी के प्रवीण निषाद, देवरिया से डॉक्टर रमापति राम त्रिपाठी, जौनपुर से डॉक्टर के पी सिंह, गोरखपुर से रवि किशन व अम्बेडकरनगर से मुकुट बिहारी वर्मा को प्रत्याशी बनाया है।

राजभर बोले- सुभासपा को खत्म करना चाहती है भा ज पा , 25 सीटों पर उतारेंगे उम्मीदवार

Om Prakash Rajbhar (File Pic)सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) अध्यक्ष और प्रदेश सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा है कि वह भा ज पा से अलग होकर लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि आज उनकी पार्टी 25 उम्मीदवारों की सूची जारी करेंगी। उन्होंने कहा है कि वह भारतीय समाज पार्टी के सिंबल पर चुनाव लड़ेंगे।

राजभर ने बताया है कि वह छठे व सातवें चरण के लिए उम्मीदवार उतारेंगे। उन्होंने कहा कि भा ज पा हमारी पार्टी को खत्म कर देना चाहती है। हम अपने सिंबल पर एक सीट से भी लड़ने को तैयार थे। आपको बता दें कि राजभर ने घोसी से भा ज पा के टिकट पर चुनाव लड़ने का प्रस्ताव ठुकरा दिया था।  पार्टी नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करने बलिया पहुंचे मंत्री राजभर आज उम्मीदवारों की घोषणा करेंगे।  सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) अध्यक्ष और प्रदेश सरकार में मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा है कि वह भा ज पा से अलग होकर लोकसभा का चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि आज उनकी पार्टी 25 उम्मीदवारों की सूची जारी करेंगी।

गौरतलब है कि शनिवार देर रात मुख्यमंत्रीआवास में भा ज पा प्रदेश प्रभारी जेपी नड्डा और मुख्यमंत्री ने एक घंटे तक राजभर को समझने का प्रयास किया। मंत्री उपेंद्र तिवारी भी साथ में थे। भा ज पा नेताओं ने राजभर को समझाया कि वह भा ज पा के सिम्बल पर चुनाव लड़े। जिसे राजभर ने ठुकरा दिया। इसके बाद रात करीब दो बजे मंत्री उपेंद्र तिवारी राजभर को समझाने उनके आवास तक गए। इस दवाब के बाद राजभर रात में करीब तीन बजे फिर मुख्यमंत्री आवास पहुंच गए। उन्होंने मुख्यमंत्री से मिलने की बात कही लेकिन स्टॉफ ने मना कर दिया। स्टॉफ से इस्तीफे का पत्र रिसीव करने को कहा लेकिन मुख्यमंत्री  स्टॉफ ने ऐसा नहीं किया।

रविवार सुबह उन्होंने फिर से मुख्यमंत्री आवास फोन कर इस्तीफा देने के लिए समय मांगा था लेकिन उन्हें कोई समय नहीं दिया गया। माना जा रहा है कि मंगलवार को बलिया में होने वाली पार्टी की वैठक में राजभर अपनी पार्टी के प्रत्याशियों की सूची जारी कर सकते हैं।