जायरा वसीम का फिर ट्वीट, नाराज़ लोग बोले- ट्वीटर भी हराम,बुर्का पहन घर बैठो बीबी

अपने फैसले को लेकर जायरा ने फिर किया ट्वीट, नाराज लोग बोले- ट्विटर भी हराम, घर बैठो
नई दिल्ली, 1 July,।सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए बॉलीवुड से संन्यास लेने की घोषणा कर चुकीं दंगल स्टार जायरा वसीम लगातार चर्चा में हैं.
सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए बॉलीवुड से संन्यास लेने की घोषणा कर चुकीं ‘दंगल’ स्टार जायरा वसीम लगातार चर्चा में हैं. इस बीच ऐसी खबरें भी आई थीं कि जायरा ने जिस पोस्ट में फिल्मी दुनिया छोड़ने की बात कही वो उन्होंने नहीं लिखी थी. जायरा के मैनेजर ने भी ऐसा ही बयान दिया था. हालांकि आज तक से खास बातचीत में जायरा ने ऐसी चर्चाओं को खारिज कर दिया था अब पूरे मामले पर जायरा ने फिर ट्वीट किया है.
जायरा ने ट्वीट कर लिखा, “मैं इस बात की पुष्टि करती हूं कि मेरा कोई भी सोशल मीडिया अकाउंट न तो हैक हुआ था, और न हैक हुआ है. और इन्हें मैं निजी तौर पर ही हैंडल कर रही हूं. कृपा करके बाकी की बातों को शेयर करने से और उन पर यकीन करने से बचें. शुक्रिया.” जायरा के इस ट्वीट पर यूजर्स ने ढेरों निगेटिव कमेंट किए हैं.
एक यूजर ने लिखा, “इस्लाम में ट्विटर भी हराम है बीवी. बुरका पहन कर घर बैठो.” एक अन्य यूजर ने लिखा, “सोशल मीडिया भी इस्लाम में हराम है… इससे भी दूर हो जाओ जल्दी.” एक यूजर ने लिखा, “किसे तुम्हारी परवाह है? कोई तुम्हारे लिए रोने वाला नहीं है, न किसी को खुशी होने वाली है. ये तुम्हारा फैसला है तो खुशी और गम दोनों तुम्हारे ही हैं.” लोगों ने आरोप लगाया कि जायरा के पास क्योंकि अब सुर्खियों में रहने की कोई वजह नहीं है तो वह ऐसा कर रही हैं.
क्या बोले थे जायरा के मैनेजर?
बता दें कि जायरा के मैनेजर ने ये बात कही थी कि वह बॉलीवुड नहीं छोड़ रही हैं और उनका अकाउंट हैक हो गया है. जायरा के मैनेजर तुहिन ने मीडिया से बातचीत में कहा है कि जायरा के सभी सोशल मीडिया अकाउंट कम्प्रोमाइज हुए हैं और उन्होंने ये पोस्ट नहीं लिखे. उधर, आज तक से बातचीत में एक्ट्रेस जायरा वसीम ने खुद पुष्टि किया कि पोस्ट उन्होंने ही लिखे हैं. ये पोस्ट जायरा के सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर हैं.
बता दें कि साल 2016 में जायरा ने आमिर खान की फिल्म दंगल से अपना बॉलीवुड डेब्यू किया था. इस फिल्म में उन्होंने भारतीय रेसलर गीता फोगाट के बचपन का रोल निभाया था. फिल्म में जायरा के काम की दर्शकों और आलोचकों ने खूब सराहना की थी और इसी के चलते वे देशभर में मशहूर हो गई थीं. इतना ही नहीं जायरा उन कुछ बॉलीवुड एक्टर्स में से एक हैं, जिनकी पहली फिल्म दंगल की रिलीज से पहले ही दूसरी फिल्म के लिए साइन कर लिया गया था. जायरा जल्द ही प्रियंका चोपड़ा और फरहान अख्तर के साथ फिल्म द स्काई इज पिंक में नजर आने वाली है

जायरा के बॉलीवुड छोड़ने पर फारूक अब्दुल्ला बोले- शायद उनके बॉयफ्रेंड ने कहा हो?

फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि क्या पता उनके (ज़ायरा) बॉयफ्रेंड या फिर होने वाले पति ने उन्हें फिल्में छोड़ने के लिए कह दिया हो. अब्दुल्ला बोले कि अगर मैं उन्हें कभी मिलूंगा तो उन्हें ज़रूर बोलूंगा कि वह काफी अच्छा काम कर रही थीं
बॉलीवुड अभिनेत्री ज़ायरा वसीम ने इस्लाम का हवाला देकर फिल्मों को अलविदा कह दिया. इसपर एक तीखी बहस छिड़ गई है, हर कोई अपने-अपने तर्क रख रहा है. इस बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री फारूक अब्दुल्ला का कहना है कि इस्लाम काफी लिबरल धर्म है, ये किसी को कोई भी काम करने से नहीं रोकता है. उन्होंने कहा कि ज़ायरा का फिल्मों को छोड़ने का निर्णय सही नहीं है.
हालांकि, इसी के साथ फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि क्या पता उनके (ज़ायरा) बॉयफ्रेंड या फिर होने वाले पति ने उन्हें फिल्में छोड़ने के लिए कह दिया हो. अब्दुल्ला बोले कि अगर मैं उन्हें कभी मिलूंगा तो उन्हें ज़रूर बोलूंगा कि वह काफी अच्छा काम कर रही थीं.
उनके निर्णय की आलोचना करने के साथ-साथ फारूक अब्दुल्ला ने ये भी कह दिया कि ये उनकी पर्सनल च्वाइस है. उन्होंने कहा कि बॉलीवुड में काम करने से कोई गैरमुस्लिम नहीं बन जाता है.
दंगल गर्ल के नाम मशहूर जायरा वसीम ने रविवार को इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट करते हुए बॉलीवुड छोड़ने का ऐलान किया था. उन्होंने लिखा था कि 5 साल पहले मैंने एक ऐसा फैसला लिया था, जिसने मेरी ज़िंदगी बदल दी. लेकिन उन्हें लगता है वह ईमान से भटक गई थीं, इसलिए वह इस क्षेत्र को छोड़ने का फैसला करती हैं.
जायरा के इस फैसले के बाद सोशल मीडिया पर एक तीखी बहस शुरू हो गई थी. कुछ सेलेब्स ने जायरा के निर्णय को सराहा और कहा कि वह खुद क्या करना चाहती हैं इसके लिए आज़ाद हैं. तो वहीं कुछ ने धर्म के नाम पर काम छोड़ने को बेतुकी बात बताया.
जायरा वसीम बॉलीवुड से चुपचाप चली जातीं तो बेहतर होता
बॉलीवुड एक्टर जायरा वसीम ने जिन बातों को फेसबुक पर आधार बना कर एक्टिंग छोड़ी है उसने उन लोगों को वाकई सकते में डाल दिया है जो जायरा की उपलब्धियां देखकर उन्हें फॉलो करते थे और उनके जैसा बनना चाहते थे.
दंगल गर्ल जायरा वसीम ने इस्लाम की राह में अपना करियर कुर्बान कर दिया है. ‘धार्मिक’ बनने से पहले जायरा ने एक फेसबुक पोस्ट लिखा है. पोस्ट को यदि पढ़ा जाए तो मिल रहा है कि जैसे जायरा अब तक कितना बोझ अपने कंधों पर रखे हुए थीं. पोस्ट के अनुसार जायरा को अपनी सफलता काट रही है. उन्हें लग रहा है कि इस सफलता से उनका धर्म प्रभावित हुआ है और बरकत उठकर उनसे कहीं दूर चली गई है. अपनी पोस्ट में जायरा इमान और अल्लाह की बात कर रही हैं, कुरान का हवाला दे रही हैं और बता रही हैं कि कैसे बॉलीवुड के चलते वो अपने दीन से अलग हो गयीं हैं.

तकरीबन 1945 शब्दों का जायरा का ये पोस्ट सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है और उनके इस पोस्ट के बाद हमारा समाज दो वर्गों में बंट गया है जिसमें एक वर्ग जायरा के फैसले को आध्यात्मिक बता रहा है तो वहीं दूसरा वर्ग वो है जिसका मानना है कि जायरा कट्टरपंथ की आग में इस हद तक जल गईं हैं कि उन्होंने अपना अच्छा भला फिल्मीं करियर बर्बाद कर दिया.

बॉलीवुड एक्टर जायरा वसीम ने खुद के अलावा बहुतों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है

जायरा मुस्लिम धर्म से आती हैं. मुस्लिम धर्म में लड़कियों/ महिलाओं की स्थिति कैसी है ये किसी से छुपा नहीं है. जायरा के इस फैसले के बाद, मुस्लिम समुदाय की कोई लड़की जिसकी आंखों में सपने थे, अगर आने वाले वक़्त में उसके सपनों का क़त्ल होता है तो इसकी जिम्मेदार जायरा रहेंगी. रूढ़ीवादी परिवार लड़कियों के करियर में रोड़ा अटकाने के लिए जायरा की मिसाल देंगे. खासतौर पर ऐसी लड़कियों के, जिनका सपना फिल्‍म इंडस्‍ट्री में किस्‍मत आजमाने का है.

बात सीधी और एकदम साफ है. यदि जायरा को ये फैसला लेना ही था तो इसके लिए उन्हें 1945 शब्दों का फेसबुक पोस्ट लिखने की जरूरत हरगिज नहीं थी. वो चुपचाप उठती और चुपचाप चली जातीं. किसी को फर्क नहीं पड़ता मगर अब क्योंकि ये फैसला सार्वजनिक हो चुका है तो ये एकदम साफ है कि उन्होंने अपना करियर तो चौपट किया ही साथ में उन्होंने उन मुस्लिम लड़कियों को गफ़लत में डाल दिया है जो घरवालों के विरोध के बावजूद या फिर उनसे लड़ते हुए कुछ बड़ा करना चाहती थीं.

किसकी मुश्किल कर दी

इस बात का जवाब उपरोक्त पंक्तियों में है. समुदाय कि बात हो चुकी है समुदाय में लड़कियों की बात हो चुकी है. उनकी स्थिति और शिक्षा का स्तर कैसा है वो भी हमारे सामने हैं ऐसे में जायरा का कहना कि,’मैं अपनी आत्मा के साथ लगातार जूझ रही थी. मैं अपने विचारों और सहजता को समेटने के लिए अपने ईमान की स्थिर तस्वीर को ठीक करने में बुरी तरह से असफल रही और मैंने इसके लिए एक नहीं बल्कि कई बार प्रयास किये.’ खुद बताता है कि इन्होंने उन मुस्लिम लड़कियों के पैरों में जंजीर डाल दी है जो तमाम मुश्किलों का सामना करते हुए अपने पैरों पर खड़ी हुईं थीं.

जायरा ने अपनी कट्टरपंथी सोच के पीछे जो तर्क दिए हैं उसपर बातें होनी शुरू हो गयीं हैं

सवाल ये है कि वो लड़कियां जिन्होंने जायरा को देखकर ये मान लिया था कि एक लड़की को ऐसा होना चाहिए और इतना ही सशक्त होना चाहिए था क्या अब अपनी नजरों से नजरें मिला पाएंगी? इसका सीधा जवाब है नहीं.

युवाओं के लिए

जायरा वसीम युवा हैं. इनकी उम्र सिर्फ 19 साल है. 19 साल का कोई व्यक्ति यदि इस छोटी सी उम्र में इतनी बड़ी बड़ी बातें करें और बातें भी ऐसी जो साफ तौर पर कट्टरपंथ को बढ़ावा देती नजर आ रहीं हों तो सवाल उठने लाजमी है. यदि मुस्लिम धर्म को कुछ वक़्त के लिए छोड़ भी दें तो ऐसे तमाम युवा हैं जो जायरा में सफलता का अक्स देखते हैं. जायरा दो फ़िल्में (दंगल और सीक्रेट सुपरस्टार) कर चुकी हैं, और इनकी तीसरी फिल्म (The Sky Is Pink) जल्द ही हमारे सामने होगी.

सिर्फ तीन फिल्मों ने आज जायरा को जो मुकाम दिया है इंडस्ट्री के बड़े बड़े पुरोधा उसके लिए तरसते हैं. आज जायरा हिंदुस्तान के अलावा चीन और गल्फ तक में लोकप्रिय है. ऐसे में उनका ताजा फैसला न सिर्फ युवाओं को दिग्भ्रमित कर रहा है बल्कि उन्हें ये तक बता रहा है कि देश में करियर नहीं, बल्कि धर्म महत्वपूर्ण है. वह भी अजीबोगरीब तर्क के साथ.

लड़कियों के लिए

जायरा कश्मीर से हैं और लड़की हैं, और लड़की होना आसन तो बिल्कुल नहीं है. तमाम चुनौतियां हैं जिसका सामना एक लड़की करती है. धर्म कोई भी हो जैसी भारतीय समाज में लड़कियों की स्थिति है, एक मान्यता चली आ रही है कि लड़कियों को थोड़ा बहुत पढ़ा लिखा दिया जाए, उसके बाद शादी हो जाएगी और वो ‘अपने घर’ चली जाएंगी.

साफ तौर पर जायरा वसीम ने लोगों के भरोसे के साथ खिलवाड़ किया है

वो लड़कियां जो इस मान्यता का शिकार थीं उन्हें जायरा से बहुत उम्मीदें थीं वो जायरा को एक रोल मॉडल की तरह देख रखीं थीं. जायरा की सफलता को देखकर इन लड़कियों को लग रहा था कि अब शायद उनके अच्छे दिन आ गए हैं मगर जिस तरह जायरा ने उन्हें धोखा दिया है स्थिति फिर वही ढाक के तीन पात वाली हो गई है.

जायरा का ये फैसला निजी बिल्कुल नहीं है

बॉलीवुड एक्टर जायरा वसीम के इस फैसले के बाद एक वर्ग वो भी है, जो इस बात का समर्थन कर रहा है कि ये जायरा का निजी फैसला है. लोग कह रहे हैं कि इस फैसले का सभी को सम्मान करना चाहिए. अब जब बात यहां तक आ ही गई है तो हम भी इस बात को ढंके की चोट पर कहेंगे कि जायरा के इस फैसले को निजी फैसला कहना कहीं से भी समझदारी के दायरे में नहीं आता.
जायरा के इस फैसले पर जितने मुंह हैं उतनी बातें हैं और ज्यादातर बातें उनके खिलाफ ही हो रही हैं

सवाल होगा क्यों? तो जवाब इतना है कि जायरा हमारी आपकी तरह कोई आम व्यक्ति नहीं बल्कि एक सेलेब्रिटी हैं जिन्होंने अपने फैसले की जानकारी फेसबुक पर दी है. फेसबुक एकपब्लिक फोरम है और जब बात पब्लिक फोरम पर आती है तो न सिर्फ़ वाद विवाद की सम्भावना ज्यादा प्रबल रहती है बल्कि निजता का कॉन्सेप्ट खत्म हो जाता है.

जायरा कामयाब हैं, लेकिन उनका फैसला ‘नाकामयाबी’ है

ये बात सुनने में थोड़ी अजीब लग सकती है मगर सत्य यही है. जायरा सिर्फ 5 सालों के अंतराल में उस मुकाम पर हैं जहां अच्छे अच्छों को आने में लंबा वक़्त लगता है. मगर इन तमाम बातों और ‘कामयाबी’ के बावजूद वो नाकाम हैं. जायरा कश्मीर से हैं वो कश्मीर जहां आम कश्मीरियों के बीच कला की नहीं किसी और चीज की अहमियत हैं. वो कश्मीर जहां लोग बुरहान वानी और सबज़ार भट्ट जैसों को अपना रोल मॉडल मानते हैं.

इन पांच सालों में जायरा को इस बात का भली प्रकार एहसास हो गया था कि वो इंडस्ट्री में कितने ही झंडे क्यों न गाड़ लें मगर अपने लोगों के बीच उन्हें तब तक पहचान नहीं मिलेगी मगर तक वो कुछ बड़ा या तूफानी न कर लें. कह सकते हैं कि यदि जायरा ने 5 साल एक्टिंग न की होती और उसकी जगह भड़काऊ ट्वीट्स का सहारा लिया होता तो स्थिति कुछ और होती आज घाटी का बच्चा बच्चा उन्हें जानता. अब जबकि ऐसा नहीं हो पाया है तो कहीं न कहीं जायरा ने भी ये मान लिया है कि वो कामयाब होते हुए भी ‘नाकामयाब’ हैं.

बहरहाल अब जबकि सच खुलकर हमारे सामने आ गया है तो ये अपने आप ही साफ हो गया है कि जायरा ने अपने एक फैसले से जितना नुकसान अपना नहीं किया उससे कहीं ज्यादा नुकसान उन लोगों का किया है जो उसके जैसा बनना चाह रहे थे. बात बहुत साफ है. धार्मिक होना एक अलग बात है और कट्टर होना दूसरी बात है. जो अनुसरण जायरा ने किया है वो कहीं से भी धार्मिक नहीं है इसलिए उनके द्वारा किया गया कृत्य लोगों को ज्यादा आहत कर रहा है. कह सकते हैं कि जायरा को देख्कारे लोग कहीं न कहीं अपने आपको ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *