देहरादून, । लोकसभा चुनाव से ऐन पहले प्रदेश की भाजपा सरकार ने पार्टी नेताओं के लिए अपनी झोली पूरी तरह खोल दी है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने लगातार दूसरे दिन दायित्वधारियों की दूसरी सूची जारी कर दी है। इस सूची में छह नेताओं को राज्यमंत्री स्तर के दायित्व दिए गए हैं। बृहस्पतिवार को 51 दायित्वधारियों की सूची जारी होने के बाद कई दावेदारों में निराशा व्याप्त हो गई थी।शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन सरकार ने छह पार्टी नेताओं को विभिन्न विभागों के अहम पदों के दायित्व से नवाज दिया। इन सभी छह नेताओं को राज्य मंत्री का दर्जा दिया गया है।

गौरतलब है कि गुरुवार को कुल 51 लोगों को दायित्व दिए गए थे, जिनमें दो कैबिनेट व 17 राज्य मंत्री स्तर के पद शामिल हैं। विभिन्न आयोगों, निगमों, परिषदों व प्राधिकरणों में हुए इस दायित्व वितरण में भी सरकार ने पार्टी कार्यकर्ताओं को तवज्जो दी है।

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विभिन्न विभागों में जिन पार्टी नेताओं को राज्य मंत्री स्तर का दायित्व सौंपा है, उनमें पंडित राजेंद्र अंथवाल Image result for पंडित राजेंद्र अंथवालको उपाध्यक्ष गो सेवा आयोग, रिपुदमन सिंह रावत को उपाध्यक्ष राज्य स्तरीय पेयजल अनुश्रवण समिति,  पार्टी में सह मीडिया प्रभारी की जिम्मेदारी देख रहे विरेंद्र सिंह  बिष्ट Image result for वीरेंद्र सिंह बिष्ट उत्तराखंडको अध्यक्ष उत्तराखंड वन पंचायत सलाहकार समिति, राजकुमार पुरोहितImage result for राजकुमार पुरोहित को अध्यक्ष उत्तराखंड राज्य खनिज विकास परिषद,पार्टी के वरिष्ठ नेता सुरेश परिहारImage result for सुरेश परिहार उत्तराखंड को अध्यक्ष उत्तराखंड वन विकास निगम और विश्वास डाबर Image result for उत्तराखंड विश्वास डाबरको अध्यक्ष राज्य अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास परिषद बनाया गया है।

दायित्व बंटवारे की तीसरी सूची में भी विधायकों को दरकिनार किया गया है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक विधायकों को पार्टी पहले ही टिकट का तोहफा दे चुकी है। विधायक बनने के बाद वे जनता की सेवा कर रहे हैं। ऐसे में कार्यकर्ताओं को सरकार में मौका दिया गया है। दूसरी तरफ, सियासी गलियारों में चर्चा है कि लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए सरकार ने कार्यकर्ताओं को दायित्व बांटे हैं, ताकि चुनाव में किसी प्रकार का कोई असंतोष न उभरे।दायित्वधारियों की लगातार दूसरी सूची जारी होने के बाद दावेदारों की उम्मीदों को पंख लग गए हैं।

माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने से पहले मुख्यमंत्री कुछ और नेताओं को दायित्व बांट सकते हैं। इस बारे में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष अजय भट्ट का कहना है कि दायित्वधारियों की और सूची जारी हो सकती है। ये सूची लोस चुनाव से पूर्व जारी होगी या बाद में, इस पर उन्होंने स्पष्ट जवाब नहीं दिया।

मुख्‍यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि दायित्व वितरण से संबंधित विभागों के कार्यों में तेजी आने के साथ ही अनुश्रवण कार्यों को भी गति मिलेगी। सभी दायित्वधारी राज्य और राज्यवासियों के हित में कार्य करेंगे।