क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में मरने वालों की संख्या 49,इनमे छह भारतीय मूल के

मस्जिदों पर हमले में छह भारतीय मूल के लोगों के मारे जाने की आशंकाImage result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में
न्यूज़ीलैंड में क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में मरने वालों की संख्या 49 हो गई है. इस हमले में छह भारतीय मूल के लोगों के मारे जाने की आशंका जताई जा रही है.न्यूज़ीलैंड में भारतीय उच्चायुक्त संजीव कोहली ने बताया कि शुरुआती सूचनाओं के मुताबिक इस घटना में दो भारतीयों और चार भारतीय मूल के लोगों के मारे जाने की आशंका है.हालांकि, उन्होंने कहा कि ये जानकारी आधिकारिक नहीं है और न्यूज़ीलैंड की सरकार ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में
संजीव कोहली के मुताबिक़, “भारतीय उच्चायुक्त की हेल्पलाइन पर कई लोगों के फ़ोन आ रहे हैं और ये जानकारी उसी पूछताछ और क्राइस्टचर्च के भारतीय समुदाय से मिल रही जानकारी पर आधारित है.”कोहली का कहना है कि मारे गए छह लोगों में से दो हैदराबाद, एक गुजरात और एक पुणे का बताया जा रहा है.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में
न्यूज़ीलैंड के शहर क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी में 49 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है. इस हमले में 20 से ज़्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं. न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने इसे ‘आतंकवादी हमला’ क़रार दिया है.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में

न्यूज़ीलैंड की राजधानी वेलिंगटन में रह रहे संजीव कोहली ने फ़ोन पर बताया, “क्राइस्टचर्च पूरी तरह से बंद है इसलिए आधिकारिक तौर पर बहुत जानकारी बाहर नहीं आ रही है. हम अस्पतालों से बात कर रहे हैं, समुदाय के लोगों से बात कर रहे हैं. हमारी हेल्पलाइन नंबरों पर कॉल आ रहे हैं.”उन्होंने बताया कि वेलिंगटन में धार्मिक स्थानों, ख़ासकर मस्जिदों के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई है.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में

संजीव कोहली ने कहा, “हमारे पास ग़ायब हुए लोगों के फ़ोन आ रहे हैं… जो अपुष्ट जानकारियां हैं उसके हिसाब से छह लोगों के हताहत होने की बात सामने आ रही है. लेकिन ये जानकारी अनाधिकारिक है.”
भारतीय उच्चायुक्त संजीव कोहलीन्यूज़ीलैंड में भारतीय उच्चायुक्त संजीव कोहली
न्यूज़ीलैंड में इस घटना से सभी सदमे मेंImage result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में
संजीव कोहली ने कहा, “न्यूज़ीलैंड की ऐसी छवि है कि यहां सहिष्णुतावादी लोग हैं जो एक-दूसरे की इज़्ज़त करते हैं. उस हिसाब से किसी ने भी इसकी कल्पना नहीं की थी.”उन्होंने कहा, “हमने क्राइस्टचर्च में भारतीय समुदाय के लोगों से संपर्क करना शुरू किया, लेकिन सभी घर के अंदर थे. कोई ज़्यादा जानकारी देने की हालत में नहीं था. वहां कर्फ्यू जैसी स्थिति है.”संजीव कोहली के मुताबिक़, उच्चायोग भारतीय विदेश मंत्रालय के संपर्क में है, और “पुख़्ता तौर पर नामों के आने में वक़्त लगेगा.”Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में
भारतीय उच्चायोग ने ट्वीट कर अपना हेल्पलाइन नंबर जारी किया है
‘ज़्यादा लोग मर सकते थे’
मूल रूप से मुंबई के रहने वाले थॉमस शाज़ी क्राइस्टचर्च में एक रेस्तरां ‘बीकानेरवाला’ चलाते हैं. जिन अल-नूर और लिनवुड मस्जिदों पर हमला हुआ, उनका रेस्तरां वहाँ से कुछ ही किलोमीटर की दूरी पर है.शाज़ी के मुताबिक इस गोलीबारी में उनके दो दोस्तों की भी मौत हो गई है. हालांकि पुलिस ने आधिकारिक तौर उनके नाम घोषित नहीं किए हैं.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में

उन्हें फ़ेसबुक पर इस हमले का पता चला. उस वक़्त उनके रेस्तरां में क़रीब 40 ग्राहक मौजूद थे. घटना के बारे में पता चलने के बाद उन्होंने तुरंत होटल बंद करवा दिया.
इसके अलावा क्राइस्टचर्च के सरकारी दफ़्तरों और स्कूलों को भी बंद कर दिया गया है.शाज़ी के मुताबिक़, हर शुक्रवार के दिन जुमे की नमाज़ के लिए मस्जिद में क़रीब 300 से 400 लोग इकट्ठा होते हैं और ये हमला भीड़भाड़ के वक़्त होता तो मरने वालों की तादाद और बढ़ सकती थी.Image result for क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों मेंक्राइस्टचर्च से फ़ोन पर बीबीसी से बातचीत में थाॉमस शॉज़ी ने कहा, “नमाज़ ख़त्म होने के बाद कई लोग घर चले गए थे. मेरा एक दोस्त भीड़भाड़ के कारण मस्जिद नहीं जा पाया.”

न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री ने इसे आतंकवादी हमला क़रार दिया है.न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न ने मरने वालों की संख्या की पुष्टि करते हुए शुक्रवार को अपने देश के लिए ‘काला दिन’ बताया है. उन्होंने बताया कि इस मामले में एक महिला समेत चार लोगों को हिरासत में लिया गया है.प्रधानमंत्री ने कहा, “क्राइस्टचर्च इन पीड़ितों का घर था. इनमें से बहुत लोगों ने शायद यहां जन्म न लिया हो. कई लोगों के लिए न्यूज़ीलैंड उनकी पसंद का देश था.”

न्यूज़ीलैंड: प्रत्यक्षदर्शी ने बताया मस्जिद में कैसे हुआ हमला

कथित हमलावर ने इस घटना की लाइव स्ट्रीमिंग फ़ेसबुक और अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर भी की थी. जिसके बाद सोशल मीडिया पर इस घटना के वीडियो प्रसारित किए जाने लगे.फ़ेसबुक ने ट्वीट कर बताया है कि उसने हमलावर के फ़ेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट से इन वीडियो को हटा दिया है. साथ ही फ़ेसबुक ने कहा है कि वह इस अपराध और हत्यारे की प्रशंसा करने वाले वीडियो को भी हटा रहे हैं.

इसके बाद किए ट्वीट में फ़ेसबुक न्यूज़ीलैंड की मिया गार्लिक ने बताया है कि उनका संस्थान न्यूज़ीलैंड पुलिस के साथ मिलकर काम करेगा क्योंकि उनकी जांच जारी है.

इसके पहले प्रधानमंत्री ने देश के नाम संदेश में कहा था, “मैं आपको बता सकती हूं कि ये न्यूज़ीलैंड के सबसे काला दिन में से एक है.”

न्यूज़ीलैंड के पुलिस कमिश्नर माइक बुश ने बताया है कि इस मामले में चार संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है, जिसमें तीन पुरुष और एक महिला शामिल हैं. अब तक ये नहीं कहा जा सकता कि ख़तरा ख़त्म हो गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *