कमांडर अभिनंदन की 36 घंटे में वापसी  मोदी के बढ़ते कद का नतीजा ?

अभिनंदन की 36 घंटे के अंदर ही भारत भेजने के ऐलान को मोदी सरकार की बड़ी कूटनीतिक सफलता के तौर पर देखा जा रहा है.

इंडियन एयरफोर्स के विंग कमांडर अभिनंदन को पाकिस्तान शुक्रवार को रिहा करेगा. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपने देश की संसद में इस बात की जानकारी दी है. 36 घंटे से पूरा देश अभिनंदन की सकुशल वापसी की प्रार्थना कर रहा था. अभिनंदन की 36 घंटे के अंदर ही भारत भेजने के ऐलान को मोदी सरकार की बड़ी कुटनीतिक सफलता के तौर पर देखा जा रहा है.

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अपने संसद को यह जानकारी दी कि वह भारतीय एयरफोर्स के विंग कमांडर को 1 मार्च यानी शुक्रवार को लौटा सकते हैं. इमरान खान ने कहा, ‘दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए बातचीत की पहल के तौर पर मैंने अभिनंदन को रिहा करने का ऐलान किया है.’

इससे पहले पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भी कहा था कि अगर दोनों देशों में तनाव कम होता है तो भारत के पायलट को लौटने को तैयार हैं. पाकिस्तान के द्वारा एक भारतीय विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को कैद में रखने के बाद देश के लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया था. देश में जगह-जगह विंग कमांडर अभिनंदन की सकुशल वापसी को लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बनाने का प्रयास किए जाने लगा.

अंतरराष्ट्रीय दबाव और भारत की जबरदस्त दबाव के आगे पाकिस्तान को आखिरकार झुकना पड़ा. इससे पहले भी साफ था कि जेनेवा एक्ट के तहत अभिनंदन को भारत को सौंपना पड़ेगा. पाकिस्तान ने कारगिल युद्ध के दौरान साल 1999 में पायलट नचिकेता को भी 8 दिनों के अंदर सोंप दिया था. पाकिस्तान को घायल अवस्था में अभिनंदन को इलाज मुहैया कराना और उसे सुरक्षित रखना भी अहम जिम्मेदारी थी.

बता दें कि कारगिल ऑपरेशन के दौरान भी हमारा एक मिग दुर्घटना का शिकार हो गया था. पायलट विमान को छोड़ने के दौरान पैराशूट अनियंत्रत होकर पाकिस्तान के इलाके में उतर गया था. पाकिस्तान ने फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता को बंदी बना लिया था. भारत ने रेडक्रॉस और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निचकेता को छुड़ाने की कोशिशें तेज कर दी थीं. इसके दबाव में पाकिस्तान को झुकना पड़ा.

हालांकि, दूसरी गुरुवार दोपहर तक अभिनंदन की सकुशल वापसी को लेकर देश में कई तरह की बातें चल रही थीं. सुरक्षा मामलों के कई जानकारों का मानना था कि कारगील युद्ध के दौरान कैप्टन सौरभ कालिया के साथ जो हुआ क्या उसमें जिनेवा संधि का पालन हुआ था? उस देश से कितनी उम्मीद रखी जाए, जिसने सौरभ कालिया के साथ घिनौना वर्ताव किया था? लेकिन, भारत सरकार ने पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव जबरदस्त स्तर पर बना रखा था. ऐसे में पाकिस्तान के पीएम इमरान खान को 36 घंटे के अंदर ही अभिनंदन को भारत को सौंपना पड़ा.

कुछ जानकारों का मानना था कि जेनेवा कन्वेंशन घोषित युद्ध पर लागू होता है. इसलिए पाकिस्तान द्वारा पकड़ा गया हमारा पायलट युद्ध बंदी नहीं कहलाएगा. ऐसे में सवाल यह उठ रहा था कि अभिनंदन के साथ पाकिस्तान किस तरह का सलूक करेगा और कर रहा है?Security along the international border Attari: Border Security Force (BSF) personnel stand guard along the international border as security beefs up amid escalating tension between India and Pakistan, at Attari near Amritsar, Thursday, Feb. 28, 2019. (PTI Photo) (PTI2_28_2019_000121B)

अभिनंदन की गिरफ्तारी के बाद देश के कई हिस्सों में पाकिस्तान के खिलाफ प्रदर्शन, नारेबाजी और पुतला दहन किया जाने लगा. देश की प्रमुख राजनीतिक दलों ने भी केंद्र सरकार से मांग करनी शुरू कर दी कि वह पाकिस्तान पर दबाव बना कर विंग कमांडर अभिनंदन की सकुशल वापसी कराए.

बॉलीवुड और टीवी कलाकारों ने भी अभिनंदन की सकुशल घर वापसी को लेकर लगातार ट्वीट्स कर रहे थे. अभिनेत्री निम्रत कौर ने कहा कि, ‘विंग कमांडर अभिनंदन के परिवार और प्रियजनों को मजबूती और ताकत मिले. इस कठिन घड़ी में राष्ट्र की प्रार्थना और आत्मा उनके साथ है. आशा करती हूं कि प्रतिष्ठित अधिकारी शीघ्र ही भारत की धरती पर वापस आएंगे.’ वहीं, सुष्मिता सेन ने कहा है कि, ‘हम सभी विंग कमांडर अभिनंदन की सुरक्षित वापसी के लिए प्रार्थना कर रहे हैं.’

सेलिना जेटली ने कहा कि, ‘भारत की मंगलवार को कार्रवाई आतंकवाद के खिलाफ थी और किसी भी नागरिक को चोट नहीं आई थी और किसी भी सैन्यकर्मी को निशाना नहीं बनाया गया था. लेकिन पाकिस्तान ने जो किया वो युद्ध का कार्य किया. उन्होंने सैन्य कर्मियों को निशाना बनाया, जबकि कोई भी युद्ध नहीं चाहता. पाकिस्तान ने तनाव को बढ़ा दिया है. विंग कमांडर अभिनंदन की सुरक्षित वापसी के लिए प्रार्थना.’

दूसरी तरफ बीजेपी कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम मोदी के संवाद कार्यक्रम को लेकर कांग्रेस ने गुरुवार को उन पर निशाना साधा था. कांग्रेस ने कहा था कि जब देश वायुसेना के पायलट विंग कमांडर अभिनंदन की वापसी के लिए व्याकुल है तो उस वक्त प्रधानमंत्री सत्ता में बने रहने के लिए व्याकुल हैं.

कांग्रेस पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘देश जाबांज, विंग कमांडर अभिनंदन की अविलंब सुरक्षित वापसी को व्याकुल है और प्रधान सेवक सत्ता वापसी के लिए.’

सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में कहा, कांग्रेस ने गुरुवार को होने वाली महत्वपूर्ण CWC की बैठक व रैली को रद्द कर दिया. देश और सब दल सशस्त्र सेनाओं के साथ हैं, पर मोदीजी वीडियो कांफ्रेंसिंग का रिकॉर्ड बनाने को बेचैन हैं.’

राजनीतिक विश्लेषकों का भी मानना है कि अभिनंदन की सकुशळ वापसी ही मोदी सरकार के बढ़ते हैसियत का प्रमाण है. शुक्रवार को जब अभिनंदन की वापसी होगी तो विपक्षी दलों के प्रश्नों ता जवाब मिल जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *