कठुआ गैंगरेप: कोर्ट के बाहर चीखती रही आरोपी की बेटी- यह सब साजिश, रेप नहीं , हत्या हुई

मर्डर की छानबीन सीबीआई करे, तब ये केस हल होगा, अन्यथा निर्दोष ही फसेंगे,कठुआ गैंगरेप और हत्या मामले में सोमवार (16 अप्रैल) को जिला अदालत में पहली सुनवाई हुई, जिसमें मुख्य आरोपी संजी राम समेत सभी आठ आरोपियों को लाया गया। लेकिन अदालत के बाहर मुख्य आरोपी संजी राम की बेटी मामले को षड़यंत्र बताते हुए जोर-जोर से चीख रही थी कि बच्ची का रेप नहीं हुआ, हत्या हुई।

कठुआ मामले में मुख्य आरोपी संजी राम की बेटी ने सीबीआई जांच की मांग की। (एएनआई के वीडियो से लिया गया स्क्रीनशॉट)

कठुआ गैंगरेप और हत्या मामले में सोमवार (16 अप्रैल) को जिला अदालत में पहली सुनवाई हुई, जिसमें मुख्य आरोपी संजी राम समेत सभी आठ आरोपियों को लाया गया। लेकिन अदालत के बाहर मुख्य आरोपी संजी राम की बेटी मामले को षड़यंत्र बताते हुए जोर-जोर से चीख रही थी कि बच्ची का रेप नहीं हुआ, हत्या हुई। समाचार एजेंसी ने करीब 19 सेकेंड का वीडियो ट्वीट किया है, जिसमें संजी राम के बेटी किसी हुसैन का नाम लेते हुए चीख रही है- ”हुसैन का बनाया हुआ षड़यंत्र है, इस षड़यंत्र को पूरी दुनिया जानें, वो बच्ची किसी हिन्दू-मुसलमान की नहीं है, उस बच्ची का कोई रेप नहीं हुआ, मर्डर हुआ है, उस मर्डर की छानबीन सीबीआई करे, तब ये केस हल होगा, अन्यथा निर्दोष ही फसेंगे।” आरोपियों के वकील अंकुर शर्मा ने मीडिया को बताया कि अदालत ने सभी आरोपियों को चार्जशीट मुहैया कराने का निर्देश दिया है। अदालत ने नार्को टेस्ट को भी हरी झंडी दी है और मामले की अगली सुनवाई 28 अप्रैल को होगी।आरोपियों को कोर्ट ले जाती पुलिस

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में हीरानगर तहसील के रसाना गांव में बक्करवाल समुदाय की 8 वर्षीय बच्ची के लापता हो जाने के कई दिनों बाद उसका शव झाड़ियों में मिला था। पुलिस की चार्जशीट बताया गया कि बच्ची के अपहरण के बाद कई दिनों तक उसका सामूहिक बलात्कार किया गया और फिर फिर उसकी निर्ममता से हत्या कर शव को झाड़ियों में फेंक दिया गया। मामले में मुख्य आरोपी संजी राम समेत 8 लोगों को आरोपी बनाया गया। आरोपियों में रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी और विशेष पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं। पिछले दिनों एक हिंदू संगठन के द्वारा आरोपियों के बचाव में एक रैली भी निकाली गई थी। रैली में जम्मू-कश्मीर सरकार में भाजपा कोटे के दो मंत्रियों के भी शामिल होने की बात सामने आई थी, जिन्हें बवाल मचने पर इस्तीफा देना पड़ा था।

पुलिस की चार्जशीट में बच्ची के साथ की गई निर्ममता की बात सामने आने के बाद जनवरी की इस घटना पर अब देश भर में गुस्सा देखा जा रहा है। आम आदमी से लेकर सेलिब्रिटी तक कई तरह से प्रदर्शन करके बच्ची को न्याय दिलाने की मांग कर रहे हैं। इस मामले के अलावा उन्नाव गैंगरेप मामले को लेकर भी लोग आंदोलित हैं। शुक्रवार (13 अप्रैल) को नई दिल्ली में डॉक्टर अंबेडकर नेशनल मेमोरियल में बोलते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने रेप के मामलों पर चुप्पी तोड़ी।

प्रधानमंत्री ने बिना किसी का नाम लिए कहा था- “पिछले दो दिनों से जो घटनाएं चर्चा में हैं वो किसी भी सभ्य समाज में शोभा नहीं देती हैं, ये शर्मनाक है। एक समाज के रूप में, एक देश के रूप में हम सब इसके लिए शर्मसार हैं। देश के किसी भी राज्य में, किसी भी क्षेत्र में होने वाली ऐसी वारदातें, हमारी मानवीय संवेदनाओं को झकझोर देती हैं। पर मैं देश को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि कोई अपराधी नहीं बचेगा, न्याय होगा और पूरा होगा। हमारी बेटियों को न्याय मिलकर रहेगा। हमारे समाज की इस आंतरिक बुराई को ख़त्म करने का काम हम सबको मिलकर करना होगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *