औरंगजेब मर्डर में सेना कर रही तीन जवानों से पूछताछ, पिछले साल हुई थी हत्या

भाजपा में शामिल हुए मारे गए जवान औरंगजेब के पिता, आतंकियों ने की थी हत्या  ,घाटी में मारे गए जवान औरंगजेब के पिता रविवार को भाजपा में शामिल हो गए। सांबा रैली में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि भाजपा गरीबों की परवाह करती है।कश्मीर में औरंगजेब मर्डर केस में सेना कर रही तीन जवानों से पूछताछ, पिछले साल की गई थी हत्या औरंगजेब 44 राष्ट्रीय राइफल रेजिमेंट में तैनात थे.

नई दिल्ली: पिछले साल जून महीने में भारतीय सेना (Indian Army) के जवान औरंगजेब (Aurangzeb) की हुई हत्या के मामले में सेना तीन जवानों से पूछताछ कर रही है. उस वक्त यह अंदाजा लगाया गया था कि जब वह ईद मनाने के लिए अपने घर प्राइवेट वाहन से जा रहे थे तो पुलवामा में उनका अपहरण करके आतंकियों ने हत्या कर दी. फिर सेना और पुलिस की टीम को गोलियों से छलनी उसका शव मिला था. उनके सिर और गर्दन पर गोली मारी गई थी. औरंगजेब की ही रेजिमेंट 44-आरआर के तीन जवानों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है. जांच में सामने आया था कि शायद इन्होंने ही औरंगजेब की गतिविधियों के बारे में जानकारी लीक की थी. औरंगजेब को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित भी किया गया है.गौरतलब है कि पिछले साल आतंकवादियों ने जून में औरंगजेब को पुलवामा से अगवा करके उनकी बर्बरता से हत्या कर दी थी. उस वक्त वह ईद मनाने के लिये छुट्टी पर अपने घर जा रहे थे. 44 राष्ट्रीय राइफल्स से ताल्लुक रखने वाले सैनिक का गोलियों से छलनी शव पुलवामा में कलामपुरा से करीब 10 किलोमीटर दूर मिला था.

शहीद औरंगजेब का एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी दिखा था. आतंकियों ने औरंगजब की हत्या करने से पहले उसका एक वीडियो बनाया था, जिसमें उससे उस एनकाउंटर से जुड़ी जानकारी हासिल करने की कोशिश कर रहे थे, जिसका वह हिस्सा थे. बता दें कि औरंगजेब उस एनकाउंटर अभियान का हिस्सा थे, जिसमें आतंकी समीर टाइगर को मारा गया था और उस ऑपरेशन को अंजाम दिया था.

औरंगजेब का जो वीडियो जारी किया गया, वह 1.15 मिनट था. ऐसा माना गया कि जंगल इलाके में औरंगजेब की हत्या करने से पहले आतंकियों ने उससे पूछताछ की. आतंकी वीडियो में यह पूछने की कोशिश कर रहे हैं कि ऑपरेशन समीर टाइगर एनकाउंटर मिशन में उनका क्या रोल था. वीडियो में औरंगजबेद ब्लू जींस और टीशर्ट में दिखे.

कश्मीर के युवा और वहां के नागरिक लोकतंत्र के प्रति अपनी आस्था जताकर अलगाववादियों के नापाक मंसूबों को करारा जवाब देते आए हैं। आतंकवादियों के हाथों मारे गए सेना के जवान औरंगजेब के पिता ने भी राजनीति में अपना भोरसा जाहिर करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल हुए हैं। औरंगजेब के पिता मोहम्मद हनीफ Image result for औरंगजेब सांबा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में भाजपा में शामिल हुए। सेवानिवृत्त ले.जनरल राजेश कुमार शर्मा भी भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए। उन्हें पार्टी के राष्ट्रीय उपप्रधान अविनाश राय खन्ना और प्रदेश प्रधान रविंद्र रैना ने मोदी की रैली से ठीक पहले पार्टी में शामिल करवाया।

बता दें कि आतंकवादियों ने पिछले साल घाटी में 44 राष्ट्रीय रायफल के जवान औरंगजेब को अगवा कर उनकी बेरहमी से हत्या कर दी। इस मौके पर हनीफ ने प्रधानमंत्री को अपने शहीद बेटे औरंगजेब की तस्वीर भेंट की। शहीद औरंगजेब के पिता व सेवानिवृत्त ले.जनरल भाजपा में शामिलप्रधानमंत्री ने पार्टी में शामिल होने पर हनीफ का स्वागत किया। रजौरी के रहने वाले हनीफ ने मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस सरकार की गरीबों के प्रति नीतियों के चलते वह भाजपा में शामिल हुए। उन्होंने कहा कि यह पार्टी गरीब लोगों के बारे में सोचती है जबकि पिछली सरकार में ऐसा नहीं था।

गौरतलब है कि पिछले साल औरंगजेब जब ईद मनाने अपने घर आ रहे थे तो आतंकवादियों ने पुलवामा में अगवा कर उनकी हत्या कर दी। पुलिस को गोलियों से छलनी औरंगजेब का शव 14 जून को मिला। हनीफ ने कहा कि वह चाहते थे कि सेना उनके बेटे की हत्या का बदला ले।  औरंगजेब की हत्या के बाद रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और सेना प्रमुख बिपिन रावत पीड़ित परिवार के घर गए और अपनी शोक-संवेदना प्रकट की। औरंगजेब की शहादत के लिए भारत सरकार ने उन्हें वीरता पुरस्कार शौर्य चक्र से सम्मानित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *