ऋषिकेश, । प्रोस्टेट कैंसर से ग्रसित रोगियों के लिए अच्छी खबर है। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ,ऋषिकेशमें प्रोस्टेट कैंसर की रोबोटिक तकनीक से सफल सर्जरी शुरू हो गई है। बताया जा रहा है कि प्रोस्टेट ग्रंथी की रोबेटिक सर्जरी उत्तर भारत में दिल्ली और गुरूग्राम के अलावा केवल ऋषिकेश एम्स में ही उपलब्ध है।संस्थान के यूरोलॉजी विभाग के चिकित्सकों ने रायवाला, ऋषिकेश के  रोगी प्रेम प्रकाश व कानपुर, उत्तर प्रदेश के हरजीत की रोबोटिक तकनीक से ऑपरेशन में सफलता प्राप्त की है और दोनों  अब पूरी तरह से स्वस्थ हैं।

संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रविकांत के कुशल नेतृत्व में यूरोलॉजी विभाग के चिकित्सकों ने प्रोस्टेट कैंसर का रोबोटिक तकनीक से सफल ऑपरेशन किया। एम्स निदेशक ने बताया कि संस्थान का यूरोलॉजी विभाग कैंसर रोगियों को बेहतर सुविधा उपलब्ध कराने की दिशा में उत्कृष्ट कार्य कर रहा है। एम्स ऋषिकेश में कैंसर जैसे जटिल रोगों का ऑपरेशन रोबोट तकनीक से किया जाने लगा है।प्रोस्टेट कैंसर के लिए इमेज परिणाम

यूरोलॉजी विभाग के डॉक्टर अंकुर मित्तल की अगुआई में चिकित्सकीय दल ने मरीजों की सफलता पूर्वक सर्जरी की है। डॉक्टर मित्तल ने बताया कि दोनों रोगी अब पूरी तरह से स्वस्थ हैं। चिकित्सकीय टीम में डॉक्टर सुनील कुमार, डॉक्टर शिव चरन, डॉक्टर दीपक प्रकाश, डॉक्टर सतीश कुमार रंजन, निश्चेतक डॉक्टर अजीत के अलावा पीजीआई चंडीगढ़ के डॉक्टर रवि मोहन व डॉक्टर गिरधर वोहरा शामिल थे।

क्या है प्रोस्टेट कैंसर प्रोस्टेट कैंसर के लिए इमेज परिणाम

एम्स ऋषिकेश के डॉक्टर अंकुर मित्तल ने बताया कि प्रोस्टेट पुरुषों में पाई जाने वाली अखरोट के आकार की ग्रंथि है। प्रोस्टेट का कैंसर 65 वर्ष से अधिक उम्र के पुरुषों में सबसे आम कैंसर जैसी एक बीमारी है। उन्होंने बताया कि इस रोग के उत्पन्न होने के ठोस कारण स्पष्ट नहीं हैं। प्रोस्टेट कैंसर के आरंभिक लक्षणों के भी कोई स्पष्ट संकेत नहीं मिलते, लेकिन ट्यूमर के कारण प्रोस्टेट में सूजन आने से रोगी को रात में बार-बार पेशाब आने, धार के कमजोर होने, खुलकर पेशाब नहीं आना जैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं। प्रोस्टेट कैंसर के लिए इमेज परिणामउन्होंने बताया कि इसके बारे में कई लोगों को जानकारी नहीं होने से वह रोग के उपचार को लेकर जागरूक नहीं होते। डॉक्टर मित्तल ने बताया कि इसके उपचार के लिए बीमारी की अवस्था के अनुसार प्रोस्टेटेक्टोमी सर्जरी, रेडियोथेरेपी, हार्मोनल थैरेपी आदि का प्रयोग किया जाता है।

 इस मौके पर टीम में डॉक्टर सुनील कुमार, डॉक्टर शिव चरन, डॉक्टर दीपक प्रकाश, डॉक्टर सतीश कुमार रंजन, निश्चेतक डॉक्टर अजीत, डॉक्टर रवि मोहन, डॉक्टर गिरधर वोहरा आदि शामिल रहे।

स्टीम एबलेशन थैरेपी जल्द: रविकांत

ऋषिकेश एम्स में स्टीम एबलेशन थैरेपी जल्द: रविकांत

ऋषिकेश एम्स में वेरिकोज वेंस (पैरों की नसों का फैलना) की अत्याधुनिक तकनीक की लाइव ऑपरेटिव कार्यशाला में पोलैंड के डॉक्टरों ने चार मरीजों का ऑपरेशन किया।

इस दौरान निदेशक एम्स पद्मश्री प्रोफेसर रविकांत ने बताया कि वेरिकोज वेंस ज्यादातर श्रमिकों और उन लोगों में होती है, जिन्हें काफी देर खड़े रहकर काम करना पड़ता है। इसका इलाज लेजर तकनीक से भी किया जा सकता है, मगर यह प्रणाली काफी महंगी है। उन्होंने बताया कि एम्स में वेरिकोज वेंस से ग्रस्त रोगियों की सुविधा के लिए जल्द स्टीम एबलेशन थैरेपी उपलब्ध कराई जाएगी। पोलैंड के डॉक्टर गैलबस ने अपनी टीम के सदस्य डॉक्टर मरजाना और तकनीशियन मार्टिन के साथ इस थैरेपी से चार ऑपरेशन किए। ओटी से लाइव ट्रांसमिशन के जरिए 50 डॉक्टरों ने इस नई तकनीक को जाना। इस मौके पर डीन एकेडमिक प्रोफेसर सुरेखा किशोर, प्रोफेसर सोमप्रकाश बसु, डॉक्टर फरहानुल, डॉक्टर अजय कुमार और डॉक्टरशिशिर प्रसाद मौजूद रहे।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश का मैप

पताVirbhadra Road Near Barrage, Shivaji Nagar, Sturida Colony, Rishikesh, Uttarakhand 249203

निर्देशक: पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत

फ़ोन084750 00144

संपर्क करें

निदेशक एंव सीईओ
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान
वीरभद्र रोड, ऋषिकेश
उत्तराखण्ड-249203,भारत
दूरभाष सं0- : क्लिक करें
ईमेल : dir@aiimsrishikesh.edu.in