बुलंदशहर हिंसा के दौरान इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपी आर्मी जवान जीतू फौजी की मां ने साफ कहा कि अगर जीतू दोषी है तो मैं खुद उसको गोली मार दूंगी। उसकी मां इस आरोप से इनकार कर रही हैं। जम्मू-कश्मीर में तैनात सेना के जवान जीतू उर्फ फौजी पर स्याना इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या का आरोप लगने की सूचना के बाद उसकी मां ने कहा कि घटना के दिन उनका बेटा जीतू तो गांव में मौजूद नहीं था। अगर जीतू दोषी पाया जाता है तो वह खुद उसे गोली मार देंगी। उनका यह भी कहना है कि उनके पति से पुलिस ने जबरदस्ती दबाव डालकर ये बातें उगलवाई हैं। मेरे पति पर दबाव डालकर कबूल करवाया गया है. मेरा बेटा वहां मौजूद नहीं था। पुलिस ने मेरे परिवार से बदसलूकी की। दबिश के दौरान घर के सारे सामान को तहस-नहस कर दिया। मेरे पति को कल पुलिस जबरन उठाकर ले गई थी।

जीतू के पिता ने पुलिस पूछताछ में बताया है कि घटना के समय जीतू घटनास्थल पर ही था। पुलिस ने जीतू के आसपास के गांव वालों से भी कंफर्म किया है। वीडियो को 13 लोगों को दिखाने के बाद ही यह पक्का हुआ कि घटना के समय जीतू फौजू मौके पर था।

पुलिस कह रही है कि जीतू उर्फ फौजी घटना में शामिल था। उसे इस मामले में नामजद भी किया गया है। सुबोध कुमार को गोली जीतू फौजी ने मारी या नहीं इस पर सवाल है। जीतू उर्फ फौजी घटना के तुरंत बाद भागकर अपना बटालियन चला गया। जीतू का भाई धर्मेन्द्र भी सेना में पुणे में तैनात है। पुलिस ने जीतू के पिता राजपाल से पूछताछ की, जिसमें से पता चला कि घटना के दिन जीतू उर्फ फौजी गांव में ही था। पुलिस ने जो एफआईआर दर्ज कराया है, उसमें जीतू फौजी का भी नाम है। घटना के वक्त जीतू दिखा भी था, मगर उसके बाद वह तुरंत जम्मू-कश्मीर फरार हो गया।