घटना शुक्रवार दोपहर तकरीबन तीन बजे राजपुर विधानसभा क्षेत्र के डालनवाला की है। यहां इंदर रोड पर तीन दिन पहले अतिवृष्टि के चलते कई लोगों घरों में पानी भर गया था। यहां रिस्पना के उफान में बहने से दो लोगों की मौत भी हो गई थी। शुक्रवार को क्षेत्रीय विधायक खजानदास पार्टी के कुछ अन्य नेताओं के साथ क्षेत्र में बारिश से हुए नुकसान का जायजा लेने पहुंचे। विधायक ने लोगों की समस्या सुनीं और प्रभावित परिवारों को फौरी तौर पर दो से तीन हजार रुपये की धनराशि के चेक भी बांटे।khajan dass

इसी बीच सबसे ज्यादा प्रभावित इलाके की महिलाओं ने विधायक को घेर लिया और खरी-खरी सुनाई। महिलाओं की नाराजगी थी कि तीन दिन से उनके रहने-सोने और खाने-पीने का ठिकाना नहीं है। बच्चे भूख से बिलख रहे हैं, घर का सारा सामान बरसात में बह गया और विधायक को अब उनकी याद आई है। कुछ लोगों ने विधायक के लोगों ने विधायक की ओर से दिए जा रहे चेक भी विधायक पर फेंक दिए। विवाद इतना बढ़ गया कि गुस्से में भीड़ ने विधायक व भाजपा नेताओं पर कीचड़ फेंकना शुरू कर दिया। कीचड़ के गोले बनाकर विधायक पर फेंके और उन्हें दौड़ा दिया। लोगों ने विधायक व सरकार के विरोध में नारेबाजी भी की। khajan dass

विधायक पर कीचड़ उछालने, धकियाने और दौड़ाने का फोटो घटना के कुछ वक्त बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। जनता के तरह-तरह के कमेंट आने लगे। ज्यादातर लोगों ने विधायक को खरीखोटी सुनाते हुए कमेंट लिखा कि उस वक्त क्यों नहीं गए, जब लोग जलभराव से जूझ रहे थे। गलियों में कीचड़ भरा हुआ था और घर से निकलना मुश्किल था। मूसलाधार बारिश से इंदर रोड में भी काफी नुकसान हुआ है। रिस्पना नदी का पानी कई घरों में घुस आया था। क्षेत्र में जगह-जगह कीचड़ फैला हुआ है। mud

विधायक खजानदास का कहना है कि घटना कांग्रेस की पूर्व नियोजित साजिश थी। मैं एक-एक घर जाकर मिला। जनता को तत्काल सहायता राशि के चेक भी दिए लेकिन किसी ने तब विरोध नहीं किया। मैं जब लौटने लगा तब पूर्व कांग्रेसी विधायक राजकुमार ने अपने कुछ लोगों के संग हमें घेर लिया। राजकुमार ने भीड़ को उकसाया और लोगों ने हम पर हमला कर दिया। मेरे गनर से हाथापाई की, मुझसे धक्का मुक्की की गई। भीड़ के आक्रोश को देखकर हम लोगों ने वहां से निकलकर बामुश्किल खुद को सुरक्षित किया। चूंकि, जनता मेरे क्षेत्र की है, इसलिए मैं कोई भी पुलिस कार्रवाई नहीं करना चाहता।लोग नहीं माने और विधायक के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। जिसके बाद विधायक व तहसीलदार वहां से चले गए।protest

आक्रोशित लोगों ने हंगामा काटना शुरू कर दिया। विधायक ने भीड़ को समझाने की कोशिश की। कहा कि वह शहर से बाहर थे, लेकिन तब भी लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ।राजपुर के पूर्व विधायक राजकुमार का कहना है कि बरसात में दो लोग मर गए, चार-पांच हजार घर जलभराव से बर्बाद हो गए और सरकार का कोई नुमाइंदा तीन दिन से यहां हाल जानने नहीं पहुंचा। सरकार-प्रशासन से कोई राहत अब तक नहीं मिली। जनता इस वजह से आक्रोशित है। घरों का सारा सामान बह गया। पांच से सात लाख रुपये तक का नुकसान हुआ और विधायक तीन दिन बाद दो-तीन हजार रुपये के चेक देने आ गए। protestमेरी क्या साजिश होगी। मैं पूर्व विधायक हूं और तीन दिन से चौबीस घंटे प्रभावितों के बीच हूं। उनकी मदद कर रहा और लंगर तक लगाया हुआ। खजानदास ने तो मरने वालों के परिवार तक का हाल नहीं जाना।