उत्तराखंड में बारिश, बर्फबारी, मसूरी में छठा हिमपात, कई सड़कें बंद

उत्तराखंड में जोरदार बारिश और बर्फबारी, मसूरी में छठा हिमपात, कई सड़कें बंद
उत्तराखंड में मौसम ने फिर से करवट बदल ली। चारधाम के साथ ही मसूरी , धनोल्टी, चारधाम, चकराता और कुमाऊं की ऊंची पहाड़ियों पर बर्फबारी का दौर फिर से शुरू हो गया।
देहरादून, । उत्तराखंड में मौसम ने फिर से करवट बदल  ली। चारधाम के साथ ही मसूरी, चकराता और कुमाऊं की ऊंची पहाड़ियों पर बर्फबारी का दौर फिर से शुरू हो गया। सरोवर नगरी नैनीताल भी बर्फ से लकदक हो गई है। वहीं बर्फबारी के चलते सड़कें भी बंद हो रही हैं। मौसम विभाग की चेतावनी के मद्देनजर हरिद्वार और नैनीताल शहर में आज के लिए स्कूलों की पहले ही छुट्टी घोषित कर दी गई थी।

बुधवार की सुबह अधिकांश जिलों में सुबह से रिमझिम बारिश शुरू हो गई। गढ़वाल के साथ ही कुमाऊं के अधिकांश जनपदों में बारिश के साथ ही ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी का दौर शुरू हो गया। उत्तरकाशी में गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे के साथ ही कुमाऊं में थल-मुनस्यारी मार्ग बर्फबारी के चलते बंद है।

सुबह तीन बजे से मसूरी में मौसम का छठा हिमपात हुआ। मॉल रोड पर तीन इंच, गनहिल में चार इंच, लाल टिब्बा में 4 से 6 इंच बर्फ गिरी। इससे कड़ाके की सर्दी पड़ रही है। इससे मसूरी का तापमान 0 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। snowfall

धनोल्टी मुख्य बाजार में लगभग आधा फीट से अधिक बर्फबारी हुई। आसपास के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में करीब एक फीट से अधिक बर्फबारी बताई जा रही है। तापमान में आई भारी गिरावट के चलते ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। snowfallधनोल्टी मार्ग पर भारी बर्फबारी के कारण मसूरी पुलिस ने जेपी बैंड के पास बैरिकेडिंग लगाकर धनोल्टी मार्ग बंद कर दिया है।snowfallरुक-रुक कर बारिश और हिमपात के चलते यमुनोत्री हाईवे जगह-जगह अवरुद्व हो गया है। इस कारण क्षेत्र से लगे गांवों का तहसील मुख्यालय और रवांई घाटी का जिला मुख्यालय से सम्पर्क कट गया है। रानाचट्टी, राडीटॉप में जमकर हो रहे हिमपात के कारण सम्पर्क कट गया है। वहीं गंगोत्री भी बर्फ से ढक गया है। snowfall

कुमाऊं के सभी पर्वतीय जिलों में मंगलवार रात से जोरदार बर्फबारी व बारिश हो रही है। बर्फवारी से पहाड़ी इलाकों में कड़ाके की ठंड का एहसास हुआ है। तराई व भाबर में रात से ही बारिश हो रही है।snowfall बागेश्वर, लोहाघाट, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा शहर और चंपावत के ललुवापानी मार्ग में भी बर्फबारी हुई है।snowfallकुमाऊं के धानाचूली, गागर, मुक्तेश्वर, पहाड़ पानी, मनाघेर, रानीखेत के चौबटिया, अल्मोड़ा के कसार देवी, नैनीताल और पिथौरागढ़ जिले के ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हो रही है।snowfallपिथौरागढ़, मुनस्यारी, चंपावत, नैनीताल बागेश्वर, मुक्तेश्वर, अल्मोड़ा आदि में ऊंची चोटियां बर्फ से लकदक हैं।

लोग जब सुबह जागे तो आंगन, छत, पेड़ आदि बर्फ की सफेद चादर से लिपटे थे। कौसानी, मुनस्यारी, मुक्तेश्वर, नैनीताल में पारा शून्य से नीचे पहुच गया है। सीमांत जिला पिथौरागढ़ का थल-मुनस्यारी मार्ग जोरदार बर्फवारी के कारण मंगलवार से ही यातायात के लिए बंद है।उत्तरकाशी जनपद में बर्फबारी ने एक बार फिर से मुश्किलें बढ़ा दी है। गंगोत्री, यमुनोत्री व टौंस घाटी में जमकर बर्फबारी हुई। बर्फबारी के कारण गंगोत्री हाईवे गंगनानी से आगे बंद। यमुनोत्री हाईवे राड़ी टॉप के अलावा राना चट्टी से आगे पूरी तरह से बंद है।  उत्तरकाशी-लम्बगांव मोटर मार्ग चौरंगीखाल में बर्फबारी के कारण अवरूद्ध है। पुरोला मोरी मार्ग जरमोला के पास, मोरी जखोल मार्ग नैटवाड से आगे, उत्तरकाशी देहरादून मार्ग मोरियाणा से लेकर सुवाखोली तक बंद है।

मौसम विभाग के अनुसार दो हजार मीटर की ऊंचाई तक के इलाकों में अभी और बर्फबारी हो सकती है। प्रदेश में कई स्थानों पर बारिश भी जारी रहेगी। मौसम का मिजाज बदलने से पहाड़ और मैदान दोनों जगह ठंडक में इजाफा हुआ है। चार धामों में भी बर्फबारी का सिलसिला थम नहीं रहा है। केदारनाथ में 10 फीट से ज्यादा बर्फ की मोटी चादर बिछ चुकी है। बदरीनाथ का हाल भी कुछ ऐसा ही है।रुद्रप्रयाग snowfallके 5000 फीट ऊंचाई पर बसे गांवों में भी बर्फबारी हो रही है।केदारनाथ, तुंगनाथ, मद्महेश्वर में बर्फ़बारी हो रही है।snowfall            औली, बद्रीनाथ, हेमकुंड साहिब, फूलों की घाटी, रुद्रनाथ, लाल माटी, गोरसों बुग्याल में बर्फ़बारी हो रही है।धनोल्टी मार्ग पर बर्फबारी snowfall                   के कारण दुर्घटना होने की संभावनाएं ज्यादा बढ़ गई। बताया जा रहा है कि धनोल्टी आने वाले पर्यटकों को भी चम्बा में ही रोक दिया गयाsnowfall है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *