देहरादून, ।  लोकसभा चुनाव में अभी कुछ ही महीने बाकी हैं, जिसको लेकर पार्टियों ने कमर कस ली है. आचार संहिता लगने से पहले भाजपा चुनाव की तैयारियों को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है. इसी कड़ी में केंद्रीय रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण सोमवार को देहरादून पहुंचीं. इस दौरान उन्होंने पूर्व सैनिकों और शहीदों के परिवारों से मुलाकात की और उनको संबोधित किया. साथ ही रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने शहीद परिवार के पैर छुकर आशीर्वाद लिया.रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को देहरादून के गढ़ी कैंट में सम्मान समारोह कार्यक्रम में शिरकत की. इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत और हरिद्वार सांसद रमेश पोखरियाल निशंक, कैंट बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर सुभाष पंवार, उपाध्यक्ष सुनील कुमार मौजूद रहे. कार्यक्रम के दौरान शहीद परिजनों को सम्मानित करके रक्षा मंत्री ने पैर छुए.

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि उत्तराखंड और सेना का रिश्ता ससुराल-मायके जैसा है। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने बताया कि उनका उत्तराखंड से बेहद लगाव है। न सिर्फ उनके मायके बल्कि ससुराल पक्ष की भी चारधाम में गहरी आस्था है। ऐसे में दो साल में एकबार यहां आना होता ही था।

क्लेमेनटाउन में आयोजित जनसभा को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने उत्तराखंड से प्रधानमंत्री मोदी के खास लगाव का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि आयुष्मान योजना के शुरुआती चरण में जब लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड बांटने की बात हुई तो उन्होंने मुझे धारचूला भेजा। वे यहां की हर परिस्थिति से वाकिफ हैं।

रक्षा मंत्री ने वन रैंक वन पेंशन पर भी खुलकर बात की। उन्होंने कहा कि जिन्होंने पूर्व सैनिकों की इस मांग को सालों तक लटकाए रखा, वे अब इसमें खामियां गिनवा रहे हैं और पूर्व सैनिकों को गुमराह कर रहे हैं। उनका कहना है कि ऐसे लोगों के बहकावे में आने की जरूरत नहीं है।

  • पिछली सरकार ने OROP के लिये केवल 500 करोड़ की धनराशि जारी की.
  • हमारी सरकार 3 सालों में 35 हजार करोड़ ट्रांसफर कर चुकी है.
  • आने वाले सालों में हर साल 8 हजार करोड़ जोड़े जाएंगे.
  1. अगर मन में किसी भी तरह का संदेह है तो मुझसे जवाब मांगिए। चाहे पत्र लिखकर या चाहे अपने सांसद के माध्यम से सवाल उठाइए। मैं हर सवाल का जवाब देने को तैयार हूं, लेकिन पर व्हॉट्सएप पर फैलाए जा रहे भ्रम से दूर रहें
  2. सर्वे आडिटोरियम में आयोजित समारोह में जब रक्षा मंत्री का स्वागत किया जा रहा था, तब शहीद अजीत प्रधान की माता हेम कुमारी ने उन्हें पुष्पगुच्छ दिया। इस पर रक्षा मंत्री ने उनके पैर छुए और आशीर्वाद लिया।
  3. समारोह के दौरान रक्षा मंत्री ने अन्य वीर नारियों व माताओं को शॉल ओढ़ाकर और पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया। साथ ही सभी के पैर भी छुए।

इससे पहले रक्षा मंत्री ने क्लेमेनटाउन कैंट को सीवर योजना की सौगात दी। उन्होंने कहा कि मैं ये किसी चुनाव के कारण नहीं कह रही हूं, बल्कि यह स्वच्छता से जुडा मसला और मूलभूत जरूरत है। उन्होंने पूर्व सैनिकों की ईसीएचएस पॉलिक्लीनिक की मांग पर कहा कि इसकी स्वीकृति पहले ही दी जा चुकी है। इस पर जल्द कार्रवाई होगी। सीतारमण ने ये भी कहा कि सेवारत रहते एक सैनिक के पास बेस या कमांड हॉस्पिटल जैसे तमाम विकल्प रहते हैं, लेकिन दिक्कतें सेवानिवृत्ति के बाद शुरू होती हैं क्योंकि जहां वो रहते हैं वहां आसपास ऐसी कोई सुविधा नहीं होती। ऐसे में पालीक्लीनिकों की संख्या बढाई जा रही है। प्राइवेट पॉलीक्लीनिक में कुछ अनियमितताएं आई थी। ऐसे में हमने इनकी जांच कराने का फैसला लिया। यही कारण है कि इसमें देरी हुई।

प्रदेश में सैनिक निदेशालय के तर्ज पर बनेगा अर्द्ध सैनिक निदेशालयः  त्रिवेंद्र रावत

देहरादून में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण
देहरादून में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण
छावनी परिषद की जनता को आने वाले वक्त में पेयजल किल्लत से नहीं जूझना होगा। कैंट बोर्ड जल्द ही खुद के संसाधनों से पेयजल आपूर्ति करेगा। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने क्लेमेनटाउन छावनी क्षेत्र में पेयजल योजना का शिलान्यास किया। इस योजना को 15 करोड़ 60 लाख की स्वीकृति केंद्र से मिली हुई है। वहीं, इस मौके पर मौजूद रहे मुख्यमंत्री त्रिवेंद रावत ने कहा कि सैनिक निदेशालय के तर्ज पर बनेगा अर्द्ध सैनिक निदेशालय।
केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि इससे पहले की सरकारों ने कभी वॉर मेमोरियल बनाने की नहीं सोची, क्योंकि उन्होंने कभी सैनिकों को सम्मान देने की नहीं सोची।
वॉर मेमोरियल देश के हर शहीद और उसके परिवार के लिए सम्मान का स्थल है। हमारी सरकार सैनिकों, पूर्व सैनिकों और उनके परिवारों की बेहतरी के लिए प्रमुखता से काम कर रही है। उनके बच्चों के लिए स्किल डेवलपमेंट सेंटर चल रहे हैं। पूर्व सीएम निशंक ने कहा कि उत्तराखंड वीरों की भूमि है। जब भी कभी देश पर विपदा आई है देवभूमि के जोशीले जवान अग्रिम पंक्ति में खड़े रहे हैं। कहा कि पूर्व सैनिकों को कहीं कोई दिक्कत है तो तुरंत मुझे पत्र लिखें। मैं पूर्व सैनिकों की हर बात का जवाब दूंगी। अपने सांसद के जरिये मुझे फोन कीजिए, मैं फोन पर भी जवाब दूंगी। वहीं उन्होंने कहा कि कुछ लोग व्हाट्सएप के जरिए गलतफहमियां फैला रहे हैं, उनका मकसद कुछ और ही है। सैनिक कभी राजनीति नहीं करते हैं।
बता दें कि इस योजना से क्लेमेनटाउन के सात वार्डों में पानी की आपूर्ति की जाएगी। मोरोवाला, भारूवाला, गुरुद्वारा कालानी, सोसायटी एरिया, टर्नर रोड, डकोटा, चांचक, पोस्ट ऑफिस रोड आदि जगहों की 30 हजार आबादी को पेयजल की आपूर्ति होगी।
वर्तमान में इन क्षेत्रों में पीने के पानी के लिए हैंडपंप का अधिकाधिक प्रयोग किया जाता है। क्षेत्रवासी पिछले लंबे समय से मांग कर रहे थे कि पेयजल आपूर्ति के लिए यहां पर बड़ी पेयजल योजना बनाई जाए। इस अवसर पर सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, कैंट बोर्ड के अध्यक्ष ब्रिगेडियर सुभाष पनवर, उपाध्यक्ष सुनील कुमार, सीईओ मोहम्मद समीर इस्लाम,पूर्व उपाध्यक्ष भूपेंद्र कंडारी आदि भी उपस्थित थे। इस मौके पर पूर्व सैनिकों द्वारा रक्षा मंत्री को सम्मानित भी किया गया।
विधायक जोशी ने बताया कि यहां हरिद्वार सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक भी मौजूद रहे। कार्यक्रम में पूर्व सैनिक संगठन की ओर से रक्षा मंत्री को भी सम्मानित किया।