इस बार विस सत्र लंबा और चुनौतीपूर्ण

देहरादून  08  फरवरी,!  व्यवस्थायें सुनिश्चित किये जाने के सम्बन्ध में विधान सभा परिसर में शासन एवं विभागों के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक की। इस अवसर पर विधान सभा सचिव जगदीश चन्द भी मौजूद थे।
विधान सभा अध्यक्ष ने सुरक्षा बैठक में विभिन्न विषयों पर गहनता से चर्चा की और कहा कि  बजट सत्र के प्रथम दिन राज्यपाल अभिभाषण भी होना है ।
     सुरक्षा बैठक के दौरान विधान सभा अध्यक्ष ने शान्ति व्यवस्थाए अग्नि शमन दल एवं उससे सम्बन्धित व्यवस्थाए बिजली की सचारू व्यवस्था सुनिश्चित करने के साथ वाटर सप्लाई के लिए सम्बन्धित अधिकारयों को निदेश दिया कि व्यवस्थायें चाक चौैबन्द होनी चाहिए।
     बैठक में सत्र के दौरान  उपस्थित सभी मंत्री, विधायक, अधिकारियों एवं कर्मचारियों के आवागमन एवं पास से संबंधित चेकिंग व जानकारी की समुचित व्यवस्था की जाए !
इस अवसर पर  विधान सभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने  कहा कि ऐसी कोई भी कमी न रहे जिससे मीडिया एवं शासकीय कार्यवाही में कोई दिक्कत हो। अग्रवाल ने कहा कि यदि विद्युत व्यवस्थाए  नेटवर्क एवं वाई फाई की व्यवस्था अच्छी होगी तो सदन के कार्यो मे विभाग एवं शासन जिलों एवं सचिवालय से वीडियों  कॉन्फ्रेसिंग के जरिये तुरन्त सम्पर्क साध कर सदन की कार्यवाही में तीव्रता ला सकते है।
       विधान सभा अध्यक्ष  प्रेम चंद अग्रवाल ने स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर विशेष ध्यान देते हुए कहा कि डाक्टर की विधिवत व्यवस्थाए सभी सामुदायिक एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो को अलर्ट रखने पर जोर दिया गया। साथ ही इमरजेन्सी के लिए स्वास्थ्य मोबाइल बैन 108 की उचित व्यवस्था करने की बात भी कहीं गई ।
अन्त में विधान सभा अध्यक्ष ने कहा कि इस बार का सत्र चुनौती भरा है क्योंकि इस बार राज्यपाल  अभिभाषण भी  होना है और इस बार सत्र भी  लम्बा चलने वाला है।
प्रेम चंद अग्रवाल ने सभी अधिकारियों से सहयोग की बात कही तथा बैठक में जिन भी विषयों पर विमर्श किया गया उन्हें जमीन स्तर पर सार्थक बनाने के लिए कहा।

बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार,  पुलिस महानिदेशक अनिल रतूड़ी , सचिव राज्य सम्पत्ति विभाग अरविन्द सिंह हयांकी, जिलाधिकारी देहरादून एस0ए0 मुरूगेशन, राज्य सम्पत्ति अधिकारी वंशीधर तिवारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक निवेदिता कुकरेती, महानिदेशक सूचना एवं लोक सम्पर्क दीपेंद्र कुमार चौधरी सहित विभिन्न विभागो के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने इस बार सुरक्षा को लेकर पिछले सत्र में खडे हुए अप्रिय विवाद के संदर्भ में व्यवस्था दी है कि इस बार विधायकों के वाहनों को भी विधानसभा भवन में प्रवेश को अनुमति पत्र की जरूरत होगी और केवल विधायकों को ही सुरक्षा जांच से छूट मिलेगी । उनके साथ आने वालों को पूरी सुरक्षा प्रक्रिया से गुजरना होगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *