आज हो सकता है चुनाव की तारीखों का ऐलान, EC की शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस

लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान आज हो सकता है. चुनाव आयोग शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस  करेगी. लोकसभा चुनाव के साथ ही कई राज्यों में विधानसभा चुनावों का भी ऐलान किया जा सकता है. मंगलवार तक के लिए विज्ञान भवन को बुक करा लिया गया है. माना जा रहा है कि चुनाव कार्यक्रम की घोषणा विज्ञान भवन में ही होगी. आयोग के रिकॉर्ड के मुताबिक 2004 के लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान रविवार को किया गया था.

वीवीपैट मशीन (फाइल फोटो- PTI)वीवीपैट मशीन (फाइल फोटो- PTI)

नई दिल्ली, 10 मार्च ! लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान आज हो सकता है. चुनाव आयोग ने शाम 5 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई है. विज्ञान भवन में होने वाले इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा sunil_030919104949.jpgसंबोधित कर सकते हैं. बता दें, पिछले लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान भी रविवार को किया गया था.इसके साथ ही पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव का भी एलान हो सकता है. तारीखों के एलान के साथ ही आचार संहिता लागू पूरे देश में लागू हो जाएगी. जम्मू कश्मीर को लेकर सभी निगाहें चुनाव आयोग की ओर लगी हैं, देखना होगा आयोग जम्मू कश्मीर को लेकर क्या फैसला लेता है. बता दें कि जम्मू कश्मीर में फिलहाल राज्यपाल शासन लगा हुआ है.

बता दें कि विपक्ष चुनाव आयोग पर प्रधानमंत्री मोदी के तय कार्यक्रमों के चलते जान बूझकर तारीखों के एलान में देरी का आरोप लगा रहा था. कयास लगाए जा रहे हैं कि इसी स्थिति को साफ करने के लिए चुनाव आयोग ने रविवार का दिन चुना.

सात चरणों में हो सकता है चुनाव

इस बार माना जा रहा है कि चुनाव सात चरणों में संपन्न हो सकता और पिछली बार की तरह पहले चरण का चुनाव 10 अप्रैल तक हो सकता है. कयास लगाए जा रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में सात चरणों में, बिहार में चार से पांच चरणों में चुनाव हो सकता है. लोकसभा चुनावों के साथ ही विधानसभा चुनावों का ऐलान हो सकता है.

2004, 2009 और 2014 में कब-कब हुआ चुनाव

इससे पहले पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्त डॉ. एसवाई कुरैशी ने ट्विटर पर एक आंकड़ा शेयर किया है. इस आंकड़े के मुताबिक, 2004 में अधिसूचना 29 फरवरी, 2009 में अधिसूचना 2 मार्च और 2014 में अधिसूचना 5 मार्च को जारी की गई थी. ऐसे में इस बार चुनाव आयोग अधिसूचना जारी करने में लेट है.

डॉ. एसवाई कुरैशी के आंकड़े के मुताबिक, 2004 में 1 जून, 2009 में 30 मई, 2014 में 3 जून को लोकसभा का कार्यकाल खत्म हुआ था. इस बार 2 जून को लोकसभा का कार्यकाल खत्म हो रहा है. 2004 में चुनाव 20 अप्रैल से लेकर 10 मई के बीच चार चरणों में, 2009 में 16 अप्रैल से लेकर 13 मई के बीच पांच चरणों में और 2014 में 7 अप्रैल से लेकर 12 मई के बीच नौ चरणों में चुनाव संपन्न हुआ था.

Dr. S.Y. Quraishi
@DrSYQuraishi

The dates on which the schedule was announced was :
2004 – Feb 29,2004
2009 – March 2,2009
2014 – March 5,2014

Due date for constitution of new house :
2004 – June 1
2009 – May 30
2014 – June 3
2019 – June 2

Dr. S.Y. Quraishi

@DrSYQuraishi

There is much speculation about election dates.
Last three elections (2004, 2009 & 2014) were held from 20 Apr to 10 May (4 phases), 16 April to 13 May (5 phases) and 7 April to 12 May (9 phases), respectively.

The window available this time is still similar. But not much.

कांग्रेस ने लगाए आरोप

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान में हो रही देरी पर कांग्रेस सवाल उठा चुकी है. कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने आरोप लगाया था कि क्या चुनाव आयोग लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आधिकारिक कार्यक्रमों के पूरा होने का इंतजार कर रहा है.

चुनाव आयोग जल्द ही आगामी लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर सकता है. अप्रैल और मई महीने में सात-आठ चरणों में चुनाव कराए जा सकते हैं. चुनाव आयोग के अधिकारियों ने शनिवार को 3 घंटे की मैराथन बैठक की जिसके बाद अटकलें तेज हैं कि मंगलवार तक चुनाव की तारीखें घोषित की जा सकती हैं.

चुनाव आयोग के सूत्रों के मुताबिक रविवार से लेकर मंगलवार तक के लिए विज्ञान भवन को बुक करा लिया गया है. माना जा रहा है कि चुनाव कार्यक्रम की घोषणा विज्ञान भवन में ही होगी. आयोग के रिकॉर्ड के मुताबिक 2004 के लोकसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान रविवार को किया गया था. ऐसे में इस बार भी इसकी उम्मीद जताई जा रही है.

आयोग के सूत्रों का कहना है कि लोकसभा के चुनाव कराने के लिए साजो-सामान की तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं. मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को खत्म हो रहा है. साथ ही तारीखों के ऐलान के साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू कर दी जाती है. तारीखों की घोषणा के बाद अगले सप्ताह पहले और दूसरे चरण के मतदान के लिए चुनाव पर्यवेक्षकों की बैठक होगी.Election Commission to address important press conference today, likely to announce poll dates for 2019 LokSabha elections

साथ होंगे राज्यों के चुनाव?

सूत्रों के मुताबिक पहले चरण के मतदान के लिए अधिसूचना मार्च के आखिर तक जारी हो सकती है और इसके लिए मतदान अप्रैल के पहले सप्ताह में होने की संभावना है. पूरी संभावना है कि आयोग पुरानी परंपरा की तरह आंध्र प्रदेश, ओडिशा, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव भी लोकसभा चुनाव के साथ करा सकता है.

जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग हो चुकी है, इसलिए आयोग मई में खत्म हो रही 6 महीने की अवधि के अंदर यहां भी नये सिरे से चुनाव कराने के लिए बाध्य है. हालांकि पुलवामा की आतंकी घटना के बाद राज्य में सुरक्षा के इंतजामों को चुनाव के लिहाज से और पुख्ता करने की जरूरत भी होगी.

चुनाव की तारीखों से पहले आयोग की तरह राजनीतिक दलों की तैयारियां भी तेज हो गई हैं. कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने उत्तर प्रदेश में कुछ उम्मीदवारों के नाम की लिस्ट भी जारी कर दी है. साथ ही पार्टियों अन्य दलों के साथ गठबंधन पर भी मुहर लगाने में जुटी हुई हैं. बीजेपी ने शुक्रवार को ही झारखंड में आजसू के साथ गठबंधन कर सीटों का बंटवारा किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *