अशरफुल की मिस्ड कॉल सुनी तो बर्बाद हुई किशोरी

मानव तस्करी के बड़े रैकेट का खुलासा, एनसीआर से पश्चिम बंगाल तक फैले  हैं तार

गाजियाबाद: मानव तस्करी के बड़े रैकेट का खुलासा, मिस्ड कॉल ने तबहा की जिंदगी
गैंग के एजेंट पश्चिम बंगाल और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों से लड़कियों की तस्करी कर यहां लाते थे. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली/ गाजियाबाद: एनसीआर से लेकर पश्चिम बंगाल तक फैले हुए हैं ह्यूमन ट्रैफिकिंग के तार का खुलासा तब हुआ जब पश्चिम बंगाल के हावड़ा से लापता हुई किशोरी की तलाश में निकली पुलिस ने गाजियाबाद के नंद ग्राम इलाके के एक मकान पर छापा मारा. पश्चिम बंगाल की पुलिस ने सिहानी गेट थाना और एसएसपी द्वारा गठित अल्फा टीम की मदद से  नंदग्राम से गिरोह के सात लोगों को गिरफ्तार कर इनके चंगुल से दो लड़कियों को मुक्त कराया, जिन्हें मानव तस्करी करके सेक्स रैकेट के धंधे में धकेल दिया गया था. इनमें लापता किशोरी और झारखंड की एक युवती है. Image result for ह्यूमन ट्रैफिकिंग

नंदग्राम चौकी इंचार्ज को किया निलंबित
मामला सामने आने के बाद गाजियाबाद एसएसपी ने कार्रवाई करते हुए नंदग्राम चौकी इंचार्ज रविन्द्र यादव को लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया है. पकड़े गए साल लोगों में चार महिलाएं और तीन पुरुष हैं. इनकी पहचान भारती शर्मा, सोनिया, संतो, रुचि, राकेश, मुकेश और रवेंद्र के रूप में हुई है. इन आरोपियों को पश्चिम बंगाल पुलिस ट्रांजिट रिमांड पर अपने साथ लेकर जाएगी. मामले में अन्य लोगों के नाम सामने आने की भी उम्मीद है. पकड़े गए आरोपियों में से 6 आरोपी मेरठ के रहने वाले हैं, जबकि भारती शर्मा गाजियाबाद के नंद ग्राम इलाके में ही रहती है.

हजारों से लाखों में होता था सौदा
पुलिस जांच में ये बात सामने आई है कि गैंग के एजेंट पश्चिम बंगाल और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों से लड़कियों की तस्करी कर यहां लाते थे और फिर इनकी दलाली की जाती थी. गाजियाबाद से मेरठ के बीच फैले देह व्यापार के दलाल इन लड़कियों को 20 से 40 हजार रुपये में खरीदते थे. पुलिस के मुताबिक, बोली कुछ हजारों से शुरू होकर लाखों तक पहुंचती थी.

मिस्ड कॉल ने बर्बाद की जिंदगी
पुलिस ने जिन लड़कियों को मुक्त कराया उनमें से एक पीड़िता ने बताया कि उनके अलावा और भी कई लड़कियां यहां थी, जिनसे गंदा काम कराया जाता था. पीड़िता ने बताया कि मिस्ड कॉल से उसकी जिंदगी बर्बाद हो गई. मिस्ड कॉल के जरिए उसकी पहचान अशरफुल नामक शख्स से हुई थी. दोनों में बातें होने लगीं. अशरफुल ने उसे अपने बाबू नाम के दोस्त के पास छोड़ा था. दो दिन बाद बाबू उसे दिल्ली में शादी कराने का झांसा देकर गाजियाबाद पहुंचा था और इस धंधे में धकेल दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *