अगस्ता वेस्टलैंड : ‘राज़दार आ गया अब खुलेंगे सारे राज़’

अगस्ता वेस्टलैंडभारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि अगस्ता वेस्टलैंड मामले में कथित बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल राजनेताओं के कई राज़ों से पर्दा हटा सकता है.

मोदी ने राजस्थान के पाली में एक चुनाव सभा में कहा,”वो इंग्लैंड का नागरिक था, दुबई में रहता था, शस्त्रों का सौदागर था, हेलिकॉप्टर ख़रीदने-बेचने में दलाली का काम करता था, दुबई में राजनेताओं की सेवा-सुश्रुषा करता था. भारत सरकार कल उसको दुबई से उठाकर ले आई है. अब ये राज़दार राज़ खोलेगा, पता नहीं बात कहाँ तक पहुँचेगी, कितनी दूर तक पहुँचेगी.”

अगस्ता वेस्टलैंड मामले के बिचौलिया क्रिश्चियन मिशेल को मंगलवार देर रात दुबई से प्रत्यर्पित कर भारत लाया गया.अगस्ता वेस्टलैंड कंपनी से 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टर ख़रीदने का सौदा कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए सरकार के कार्यकाल में हुआ था.

चुनावी माहौल के बीच मिशेल के भारत लाए जाने से ये मामला सियासी रंग पकड़ता जा रहा है.

राहुल गांधी, पीएम मोदी, सुष्मा स्वराजबीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा के सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव ने एक ख़बर के साथ अपने ट्विटर पर लिखा कि क्रिश्चियन मिशेल को भारत लाना मोदी सरकार के लिए एक बड़ी जीत है. मिशेल को लाकर पीएम ने साबित कर दिया कि वे जनहित के असली चौकीदारी (सेवक) हैं. मिशेल बताएंगे कि अगस्ता वेस्टलैंड डील का असली चोर कौन हैं.

पोस्ट ट्विटर समाप्त @GVLNRAO

मगर वरिष्ठ कांग्रेसी नेता सलमान ख़ुर्शीद ने कहा है कि सीबीआई उनकी पार्टी पर सवालिया निशान लगाने की कोशिश का हिस्सा बन रही है.

पीएम मोदीउन्होंने एक समाचार एजेंसी से कहा, ”ये बस कांग्रेस पर सवाल खड़े करने के खेल का हिस्सा है. अगर सीबीआई इसमें लिप्त हो रही है तो हम इससे लड़ेंगे. अगर किसी की ज़िम्मेदारी बनती है तो उसे सवाल का जवाब देना चाहिए. मगर मुझे उम्मीद है कि उनके पास तथ्य और आँकड़े हैं जिससे वो अदालत में अपनी बातों को सिद्ध कर सकेंगे.”

क्या था मामला ?

पीटीआई ने सीबीआई के प्रवक्ता अभिषेक दयाल के हवाले से बताया है कि अगस्ता वेस्टलैंड को सौदा दिलाने में मिशेल के कथित तौर पर बिचौलिये की भूमिका निभाने और भारतीय अधिकारियों को कथित तौर पर रिश्वत देने की जानकारी साल 2012 में सामने आई थी.उन्होंने बताया कि जांच के लिए मिशेल की तलाश थी लेकिन वो जांच से बचने के लिए फ़रार हो गए थे. उनके ख़िलाफ बीते साल सितंबर में चार्जशीट दाख़िल की गई थी.

उन्होंने बताया, “नई दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट में सीबीआई मामले देखने वाले विशेष जज ने 24 सितंबर 2015 को मिशेल के ख़िलाफ ग़ैर ज़मानती गिरफ़्तारी वारंट जारी किया था.”

सीबीआई प्रवक्ता ने बताया कि इस वारंट के आधार पर इंटरपोल ने उनके ख़िलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया और फरवरी 2017 में उन्हें दुबई में गिरफ़्तार कर लिया गया.

पीटीआई के मुताबिक़ गिरफ़्तारी के बाद से ही मिशेल दुबई की जेल में थे. दुबई की अपील कोर्ट में मिशेल के वकीलों ने उन्हें भारत प्रत्यर्पित करने को लेकर दो आपत्तियां दाखिल की थीं जिन्हें कोर्ट ने ख़ारिज कर दिया.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ मिशेल पर आरोप है कि उन्होंने वायु सेना के तत्कालीन प्रमुख एसपी त्यागी और उनके परिजन समेत दूसरे अभियुक्तों के साथ मिलकर आपराधिक षडयंत्र किया. अधिकारियों ने वीवीआईपी लोगों के लिए ख़रीदे जा रहे हेलीकॉप्टर की छत की ऊंचाई छह हज़ार मीटर से घटाकर 4500 मीटर करने में कथित तौर पर अपनी आधिकारिक स्थिति का दुरुपयोग किया.

समाचार एजेंसी के मुताबिक़ इस बदलाव की वजह से रक्षा मंत्रालय ने 8 फरवरी 2010 को 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टर की ख़रीद के लिए 3600 करोड़ रुपये क़ीमत का करार अगस्ता वेस्टलैंड को दे दिया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *